Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

Umesh Kumar Ray started journalism from Kolkata and later came to Patna via Delhi. He received a fellowship from National Foundation for India in 2019 to study the effects of climate change in the Sundarbans. He has bylines in Down To Earth, Newslaundry, The Wire, The Quint, Caravan, Newsclick, Outlook Magazine, Gaon Connection, Madhyamam, BOOMLive, India Spend, EPW etc.

नीतीश सरकार ने क्यों कराई आनंद मोहन की रिहाई

साल 1994 में गोपालगंज के डीएम जी कृष्णैया की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे बाहुबली नेता आनंद मोहन सिंह गुरुवार तड़के रिहा हो गये।

बिहारशरीफ दंगा: मोदी जिसे ट्विटर पर फॉलो करते हैं वह अकाउंट जांच के दायरे में

नालंदा जिले के बिहारशरीफ टाउन में 31 मार्च और 1 अप्रैल को हुई हिंसा को लेकर बिहार की आर्थिक अपराध इकाई ने जो एफआईआर दर्ज कराई है, उसमें बजरंग दल से जुड़े लोग,…

बिहार में 45,793 जल स्रोत, लेकिन 49.8 % इस्तेमाल के लायक नहीं

बिहार में कुल 45,793 जल स्रोत हैं, जिनमें तालाब, टैंक, झील, रिजर्वायर आदि शामिल हैं, लेकिन इनमें से 49.8 प्रतिशत यानी 22799 जलाशयों का इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है।

बिहारशरीफ में कैसे और कहां से शुरू हुई सांप्रदायिक हिंसा?

सीएम नीतीश कुमार के गृह जिला नालंदा के बिहारशरीफ में रामनवमी शोभायात्रा में मामूली कहासुनी से शुरू हुई हिंसा ने शहर के सामाजिक ताने बाने पर बुरा असर डाला है।

मदरसा अजिजिया: तारीख का एक सुनहरा पन्ना, जो अब राख हो गया

मदरसा अजिजिया की लाइब्रेरी में कुरान, हदीस समेत लगभग 4500 किताबें रखी हुई थीं। आग की लपटें इतनी भीषण थीं कि इमारत की दीवारों में दरारें आ गई हैं और जली हुई लोहे…

किसान ने धान बेचा नहीं, पैक्स में हो गई इंट्री, खाते से पैसे भी निकाले

सहकारिता विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, खरीफ सीजन 2022-2023 में बिहार में 42,04,774.957 मीट्रिक टन धान की खरीद की गई। वहीं, रोहतास जिले में 4,35,317.340 मीट्रिक टन धान की खरीद हुई।

पश्चिम बंगाल में गुलाम रब्बानी की अल्पसंख्यक मंत्री से क्यों हुई छुट्टी?

पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर के प्रभावशाली नेता व गोआलपोखर विधायक गुलाम रब्बानी की राज्य के अल्पसंख्यक मामले और मदरसा शिक्षा विभाग के मंत्री के पद से छुट्टी कर दी गई है।

जब सम्राट चौधरी ने नीतीश के लिए तोड़े थे राजद विधायक

54 वर्षीय सम्राट चौधरी, पुराने व कद्दावर नेता शकुनी चौधरी के बेटे हैं। फिलहाल, राजद और जदयू पर हमलावर सम्राट चौधरी एक जमाने में राजद और जदयू में अहम पदों पर थे।

पूर्णिया एयरपोर्ट: भाजपा व जदयू में जुबानी जंग, पर सच्चाई क्या है?

प्रदीप सिंह ने जहां पूर्णिया एयरपोर्ट चालू नहीं होने देने के लिए बिहार की महागठबंधन सरकार को जिम्मेदार ठहराया, वहीं, दुलालचंद्र गोस्वामी ने इसका दोष केंद्र सरकार के मत्थे मढ़ा।

पश्चिम बंगाल के सागरदिघी उपचुनाव में कांग्रेस की जीत के क्या मायने हैं?

लगभग 52 साल तक पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले की सागरदिघी विधानसभा सीट से दूर रही कांग्रेस ने पिछले दिनों इस सीट पर हुए उप-चुनाव में आश्चर्यजनक रूप से बड़े अंतर से जीत…

सीमांचल के बच्चे पढ़ने में क्यों हैं कमजोर?

पीरामल ग्रुप व प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन की तरफ से जारी एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट (असर-2022) में प्राथमिक शिक्षा को लेकर प्रकाशित आंकड़े सीमांचल के जिलों में बच्चों की शिक्षा को लेकर निराशाजनक…

क्या कोसी मामले पर बिहार सरकार ने अदालत को बरगलाया?

पटना हाईकोर्ट ने 4 फरवरी को एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए बिहार सरकार से कोसी प्रभावितों को लाभ पहुंचाने के लिए कोसी विकास प्राधिकार स्थापित करने को कहा।

क्या विश्वविद्यालयों की लचर शिक्षा व्यवस्था सुधारेंगे नए राज्यपाल

29 नवम्बर 2022 को सुनवाई करते हुए पटना हाईकोर्ट ने तो यह तक कह दिया था कि जब तक सत्र नियमित नहीं हो जाते हैं, तब तक विश्वविद्यालय का प्रशासन बिहार सरकार को…

बिहार के 609 मदरसों के अनुदान पर क्यों लगी रोक

बिहार में लगभग मदरसा एक्ट के अंतर्गत लगभग 2400 मदरसे संचालित हो रहे हैं। इन मदरसों को सरकार की तरफ से अनुदान के रूप में नियमित तौर पर फंडिंग मिलती है।

जदयू से क्यों नाखुश हैं उपेंद्र कुशवाहा?

उपेंद्र कुशवाहा फिलहाल जदयू एमएलसी और पार्टी के संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष हैं और अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में हैं। उन्होंने सिलसिलेवार तरीके से जदयू को लेकर तीखी टिप्पणियां की हैं।

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?