Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

सहरसा: पुल निर्माण में हो रही देरी से ग्रामीण आक्रोशित, जलस्तर बढ़ने से बढ़ा खतरा

किशनगंज: जाम से निजात दिलाने के लिये रमज़ान पुल के पास नदी के ऊपर बनेगी पार्किंग

कटिहार: सड़क न बनने से नाराज़ महिलाओं ने घंटों किया सड़क जाम

Infrastructure की अन्य ख़बरें

कटिहार के एक गांव में 200 से अधिक घर जल कर राख, एक महिला की मौत

लगभग 4 घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया तब तक 185 परिवारों के घर बुरी तरह झुलस चुके थे। इस घटना में एक महिला की मृत्यु हो गई वहीं कई बच्चे ज़ख्मी हुए जिन्हें ग्रामीणों की मदद से घर से निकाल कर सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया।

“ना रोड है ना पुल, वोट देकर क्या करेंगे?” किशनगंज लोकसभा क्षेत्र के अमौर में क्यों हुआ वोटिंग का बहिष्कार?

वोटिंग के बहिष्कार की सूचना पर शुरू में अमौर के प्रखंड विकास पदाधिकारी के साथ पूर्णिया नगर आयुक्त मतदान केंद्रों पर पहुंचे। अधिकारियों ने लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन लोग टस से मस नहीं हुए।

2017 की बाढ़ में टूटा पुल अब तक नहीं बना, नेताओं के आश्वासन से ग्रामीण नाउम्मीद

स्थानीय किसान साबिर आलम अपने खेत से साइकिल पर सब्जी लाद कर ला रहे हैं। उन्होंने बताया कि महानंदा नदी के किनारे सब्जी की अच्छी खेती होती है, लेकिन पुल टूटने के बाद खेत से हाट-बाज़ार तक सब्ज़ियां ले जाना बहुत कठिन हो गया है। हर साल बरसात में चचरी पुल टूट जाता है जिससे दिक्कतें और बढ़ जाती हैं।

कटिहार के एक दलित गांव में छोटी सी सड़क के लिए ज़मीन नहीं दे रहे ज़मींदार

स्थानीय निवासी शकुंतला देवी ने बताया कि उनके पति के दादा, परदादा के समय से यह गांव बसा हुआ है। सड़क न होने के कारण सबसे अधिक दिक्कत बरसात के मौसम में होती है। आगे उन्होंने कहा कि भू-मालिक लखन सिंह और सुरेश सिंह सड़क के लिए अपनी जमीन देने को तैयार नहीं है इसलिए अब तक सड़क नहीं बन सकी है।

सुपौल में कोसी नदी पर भेजा-बकौर निर्माणाधीन पुल गिरने से एक की मौत और नौ घायल, जांच का आदेश

सुपौल के जिलाधिकारी कौशल कुमार ने बताया कि सुबह जानकारी मिली कि निर्माणाधीन भेजा-बकौर पुल का एक हिस्सा नीचे गिर गया है। अब तक मिली सूचना के मुताबिक इस घटना में नौ लोग घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है। घायलों में एक व्यक्ति की मौत हो गई।

पटना-न्यू जलपाईगुरी वंदे भारत ट्रेन का शुभारंभ, पीएम मोदी ने दी बिहार को रेल की कई सौगात

पटना-न्यू जलपाईगुड़ी वंदे भारत का शुभारंभ मंगलवार को हुआ। हालांकि, यह ट्रेन 14 मार्च से विधिवत तरीके से चलेगी। यह ट्रेन सप्ताह में 6 दिन चलेगी और इस ट्रेन का परिचलान मंगलवार के दिन नहीं होगा।

“किशनगंज मरीन ड्राइव बन जाएगा”, किशनगंज नगर परिषद ने शुरू किया रमज़ान नदी बचाओ अभियान

रमज़ान नदी बचाओ अभियान की अगुवाई कर रहे किशनगंज नगर परिषद अध्यक्ष इंद्रदेव पासवान ने कहा कि रमज़ान नदी अपनी विरासत खो चुकी है। नदी को पुनर्जीवित करने के लिए आम लोगों के सहयोग से नदी की साफ-सफाई की जाएगी और वृक्षारोपण कर रमज़ान नदी को मरीन ड्राइव जैसी शक्ल देने का प्रयास किया जाएगा। इस काम के लिए सरकार से 100 करोड़ रुपये की राशि की मांग करेंगे।

बिहार का खंडहरनुमा स्कूल, कमरे की दीवार गिर चुकी है – ‘देख कर रूह कांप जाती है’

तीन कमरों के इस विद्यालय का एक कमरा ध्वस्त हो चुका है। बाकी बचे दो कमरों में से एक में समूह कक्षा चलती है और दूसरे कमरे का उपयोग कार्यालय और अनाज रखने के लिए किया जाता है। स्कूल में रसोई की सुविधा भी नदारद है जिसके कारण रसोइया को स्कूल के बरामदे में ही खाना बनाना पड़ता है।

शिलान्यास के एक दशक बाद भी नहीं बना अमौर का रसैली घाट पुल, आने-जाने के लिये नाव ही सहारा

अमौर स्थित रसैली घाट पुल के निर्माण कार्य का शिलान्यास हुए एक दशक हो चुका है, लेकिन पुल का कार्य अब तक पूरा नहीं हुआ है। लोग अपनी जान जोखिम में डाल कर नाव के सहारे नदी पार करते हैं। हालांकि, नदी के दोनों किनारे तक पक्की सड़क बनी हुई है, लेकिन पुल का काम पूरा नहीं होने की वजह से आवागमन के लिये नाव ही एक मात्र सहारा बचा है।

पीएम मोदी ने बिहार को 12,800 करोड़ रुपए से अधिक की योजनाओं का दिया तोहफा

पीएम मोदी ने इंडियन ऑयल की 109 किमी लंबी मुजफ्फरपुर-मोतिहारी एलपीजी पाइपलाइन का उद्घाटन किया। यह पाइपलाइन बिहार और पड़ोसी देश नेपाल में स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन तक पहुंच प्रदान करेगी।

आज़ादी के सात दशक बाद भी नहीं बनी अमौर की रहरिया-केमा सड़क, लोग चुनाव का करेंगे बहिष्कार

बार-बार शिकायत के बाद भी जब जनप्रतिनिधियों ने इस सड़क पर तवज्जो नहीं दी तो तंग आकर लोगों ने शनिवार को सड़क को लेकर जमकर प्रदर्शन किया और मार्च भी निकाला। लोगों ने जनप्रतिनिधियों और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाज़ी की।

किशनगंज सदर अस्पताल में सीटी स्कैन रिपोर्ट के लिए घंटों का इंतज़ार, निर्धारित शुल्क से अधिक पैसे लेने का आरोप

कुछ मरीजों के परिजनों ने अस्पताल पर जांच के लिए भारी रकम लेने का भी आरोप लगाया है। उनका कहना है कि सीटी स्कैन के नाम पर सदर अस्पताल में निर्धारित शुल्क से काफी अधिक पैसा लिया जाता है और समय पर रिपोर्ट नहीं दी जाती है। रिपोर्ट लेने के लिए बार बार अस्पताल का चक्कर काटना पड़ता हैं। टोमोग्राफी स्कैन मशीन के खराब होने से दूर दराज़ से आये मरीज़ों के परिजन सबसे अधिक परेशान दिखे।

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार