Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

STET-2024 परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि एक बार फिर बढ़ी

पश्चिम बंगाल SLST परीक्षा: मदरसा सेवा आयोग ने 12,544 आवेदन रद्द किये, वजह जान लीजिए

बिहार में नियोजित शिक्षकों की सक्षमता परीक्षा सोमवार से शुरू

Education की अन्य ख़बरें

बिहार के दर्जन भर से अधिक डीईओ का तबादला, मोतिउर रहमान बने किशनगंज के डीईओ

मध्याह्न भोजन योजना के दरभंगा उप निदेशक मोतिउर रहमान को किशनगंज का जिला शिक्षा पदाधिकारी नियुक्त किया गया है।

स्कूल की टाइमिंग और केके पाठक को लेकर विधानसभा में गुरूवार को भी विपक्ष का हंगामा

विपक्षी विधायकों ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को विधानसभा में घोषणा की थी कि शिक्षक कक्षा शुरू होने से 15 मिनट पहले यानी सुबह 9.45 बजे स्कूल आएंगे और कक्षा समाप्त होने के 15 मिनट बाद यानी 4:15 बजे वापस जाएंगे। शिक्षा विभाग ने अभी तक इस संबंध में कोई आदेश जारी नहीं किया है।

बिहार के कॉलेजों में इंटर की पढ़ाई बंद, सिर्फ प्लस टू स्कूलों में होगी इंटर की पढ़ाई

वर्ष 2006 में पटना विश्वविद्यालय से जुड़े विभिन्न कॉलेजों से इन्टर स्तर की पढ़ाई बंद की गई थी। इसके बाद अन्य विश्वविद्यालय के अंतर्गत कॉलेजों से भी इंटर की शिक्षा को अलग किया जाना था, ताकि राज्य के प्लस टू स्कूलों में इंटर (+2) स्तर की शिक्षा दी जा सके।

BPSC द्वारा बहाल होंगे प्रारंभिक स्कूलों के हेडमास्टर, विभाग ने बनायी नई नियमावली

नियमावली के मुताबिक़, राज्य के प्रारंभिक स्कूलों में हेडमास्टरों की बहाली के लिये बिहार लोक सेवा आयोग परीक्षा का आयोजन करेगी। इस परीक्षा में कोई भी शिक्षक, जिनके पास सरकारी प्रारंभिक स्कूलों में न्यून्तम 8 वर्षों का शिक्षण अनुभव हो, भाग ले सकते हैं। लेकिन, इसके लिये शिक्षकों की उम्र 58 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिये।

शिक्षकों को बच्चों से 15 मिनट पहले स्कूल आना पड़ेगा: नीतीश कुमार

नीतीश कुमार ने कहा था, “डिपार्टमेंट ने 9 बजे से 5 बजे (स्कूल का समय) तक किया था। हमने तो पहले ही कहा था कि 9 बजे से 5 बजे नहीं होना चाहिये। 10 बजे से 4 बजे होना चाहिये।”

बिहार में सरकारी स्कूलों का समय बदला, अब 10-4 होगी पढ़ाई

सरकारी स्कूलों में अब पहली घंटी 10:00 से 10:40 बजे तक, दूसरी घंटी 10:40 से 11:20 बजे तक, तीसरी घंटी 11:20 से 12:10 बजे तक और चौथी घंटी 12:10 से 12:50 बजे तक होगी।

डोमिसाइल के लिये मुख्यमंत्री के पास कई बार गये, लेकिन उन्होंने डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया: पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर

बिहार में डोमिसाइल नीति को लागू करने को लेकर चंद्रशेखर ने कहा कि वह डोमिसाइल नीति को लागू करवाने के लिये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास कई बार गये थे, लेकिन नीतीश कुमार ने 25 जून को डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया। उन्होंने कहा कि ना चाहते हुए भी उनको यह फैसला स्वीकार करना पड़ा।

9 से 5 बजे तक स्कूल ठीक नहीं है, आज ही सुधार करवाते हैं: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पहले स्कूलों में पढ़ाई का समय शाम 4 बजे तक था, जिसे बढ़ाकर 5 बजे तक कर दिया गया था। इस अतिरिक्त एक घंटे में ‘मिशन दक्ष’ के तहत कमज़ोर छात्रों के लिये पढ़ाई की व्यवस्था की गई है।

केके पाठक का नया आदेश, स्कूलों में 31 मार्च तक सभी छुट्टियां रद्द

बिहार में सरकारी स्कूलों में चल रहे विभिन्न कार्यों (मरम्मती, सौंदर्यकरण आदि) को लेकर 31 मार्च तक शिक्षा विभाग ने सभी छुट्टियों को रद्द कर दिया है।

केके पाठक का सख़्त आदेश, लंबे समय से स्कूल नहीं आने वाले शिक्षक होंगे नौकरी से बर्ख़ास्त

केके पाठक ने जिला पदाधिकारियों को अपने स्तर से मासिक तौर पर इन सभी मामलों की समीक्षा करने और इनके विरुद्ध नियोजन इकाई द्वारा प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया है। साथ ही यह भी सुनिश्चित करने की सलाह दी गई है कि ये सभी शिक्षक सक्षमता परीक्षा में न बैठ सकें।

CTET परीक्षा का रिजल्ट जारी, ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट

CBSE की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर शिक्षक अभ्यर्थियों को ‘सीटीईटी जनवरी 2024 रिजल्ट’ पर क्लिक करना होगा। फिर अगले पेज पर अपना रोल नंबर अंकित कर अभ्यर्थी अपना रिजल्ट देख सकेंगे।

सक्षमता परीक्षा में पास करने के लिये नियोजित शिक्षकों को मिलेंगे पांच मौक़े

शिक्षा मंत्री ने बताया कि उन्होंने पहले ही शिक्षकों से कहा था कि उन्हें हड़बड़ी नहीं दिखानी चाहिये और अध्यापन में रूचि लेनी चाहिये। उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में शिक्षा का माहौल बन गया है और अब ग्रामीण क्षेत्रों में भी शिक्षा व्यवस्था में सुधार स्पष्ट रूप से दिख रहा है।

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी