Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

क्रांतिकारी शायरी को वायरल करने वाले गायक डॉ हैदर सैफ़ से मिलिए

“मुशायरों में फ्री एंट्री बंद हो” – शायर अज़हर इक़बाल से ख़ास बातचीत

अररिया में लिटररी फेस्टिवल शुरू, साहित्य जगत की मशहूर हस्तियां होंगी शरीक

Literature की अन्य ख़बरें

फरवरी में होगा तीन दिवसीय अररिया लिटररी फेस्टिवल, वसीम बरेलवी सहित ये बड़े नाम होंगे शामिल

साहित्य और कला की दुनिया से मशहूर शायर वसीम बरेलवी, नवाज़ देवबंदी, अज़हर इक़बाल और स्टैंडअप कॉमेडियन रेहमान खान भी इस साहित्योत्सव में शामिल होने अररिया पहुंचेंगे।

मशहूर शायर मुनव्वर राणा का निधन, मां के ऊपर लिखी नज़्म ने दिलाई थी शोहरत

अपने पूरे करियर के दौरान मुनव्वर राणा को कई पुरस्‍कार मिले, जिनमें उनकी काव्य पुस्तक 'शाहदाबा' के लिए 2014 में प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी पुरस्कार भी शामिल है। हालांकि, देश में बढ़ती असहिष्णुता से खिन्‍न होकर उन्होंने बाद में यह पुरस्कार लौटा दिया था।

किशनगंज की मिली कुमारी ने लिखा पहला सुरजापुरी उपन्यास ‘पोरेर बेटी’

किशनगंज जिला पदाधिकारी श्रीकांत शास्त्री ने पुस्तक विमोचन समारोह में मिली कुमारी की प्रशंसा की और कहा, ''यह कार्य बहुत ही सरहानीय है कि कोई हमारी बेटी आगे आई और अपनी संस्कृति को जगाना चाही।

उर्दू अदब और हिन्दी साहित्य का संगम थे पूर्णिया के अहमद हसन दानिश

अहमद हसन दानिश ने उर्दू में शायरी के अलावा उपन्यास, विश्लेषण और समालोचना के मैदान में अपना योगदान दिया। उन्होंने हिंदी में भी कुछ कविताएं लिखीं जो काफी पसंद की गईं । उनकी कविताएं ''शिवाला'', ''कारगिल'' और ''हम आज़ाद हुए हैं क्या'' ने उन्हें राष्ट्रभक्त कवि के तौर पर पेश किया। उनकी मृत्यु पर सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि पेश करते हुए कई लोगों ने उन्हें 'देशभक्त कवि' कह कर याद किया।

हारुन रशीद ‘ग़ाफ़िल’: सामाजिक मुद्दों पर लिखने वाला कुल्हैया बोली का पहला शायर

हारुन रशीद का जन्म 5 मई 1965 में अररिया जिले के कुकुड़वा बसंतपुर में हुआ। कुकुड़वा बसंतपुर उनका नानिहाल हुआ करता था और उनके पिता मोहम्मद नईमुद्दीन और उनका परिवार अररिया के गैयारी में रहता था। हारुन रशीद ने गैयारी में ही तालीम हासिल की। उस समय वह हारुन रशीद हुआ करते थे, लेकिन जब वह शायरी करने लगे तो उन्होंने "ग़ाफ़िल" का तखल्लुस ले लिया।

वफ़ा मालिकपुरी: वह शायर जो वैश्विक उर्दू साहित्य में था सीमांचल का ध्वजधारक

वफ़ा मालिकपुरी का जन्म 1922 में दरभंगा जिला के मालिकपुरी नामक गांव में हुआ। कहा जाता है कि उन्होंने महज़ 13 साल की उम्र से शायरी शुरू कर दी थी।

मौत पर राहत इंदौरी के कहे 20 उम्दा शेर

राहत इंदौरी को उनके शेर कहने के तरीके और अपने फक्कड़पन के लिए खास तौर पर याद किये जाएंगे। उनकी शायरी का सबसे खास बात ये था कि वे उर्दू या हिंदी के नही बल्कि हिंदुस्तान के शायर थे। वह आसान जबान के मानीखेज़ शायर थे। जिस वजह से उनकी शायरी जेहन में लंबे वक्त तक तैरती रहती है।

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी