Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया में लिटररी फेस्टिवल शुरू, साहित्य जगत की मशहूर हस्तियां होंगी शरीक

फेस्टिवल में 17 फरवरी को लिटररी सेशन होगा। इस सेशन में सीमांचल में उर्दू अफसानानिगारी का इतिहास, हिंदी साहित्य का वर्तमान परिदृश्य, रेणु साहित्य की विशेषताओं पर चर्चा होगी।

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

बिहार के अररिया में शनिवार से अररिया लिटररी फेस्टिवल की शुरुआत हो गयी। इस फेस्टिवल का आयोजन सामाजिक संस्था छांव फाउंडेशन द्वारा किया जा रहा है। उद्घाटन सत्र में साहित्य जगत और राजनीति की जानी मानी हस्तियां शरीक हुईं।

फेस्टिवल के उद्घाटन सत्र में बिहार सरकार में पूर्व आपदा प्रबंधन मंत्री और अररिया के जोकीहाट से विधायक शाहनवाज़ आलम, अररिया जिला परिषद के अध्यक्ष आफताब अज़ीम, साहित्यकार चंद्र किशोर जयसवाल, साहित्यकार मुश्ताक़ अहमद नूरी, साहित्यकार भोला पंडित प्रणय, साहित्यकार तसनीम कौसर, अररिया जिला जन संपर्क पदाधिकारी सोनी कुमारी, मोहसिन अहमद कामिल, डॉ सालिक आज़म आदि शरीक हुए।

कार्यक्रम में शामिल अतिथियों ने रंग बिरंगे गुब्बारे उड़ा कर सत्र की शुरुआत की। वक्ताओं ने इस तरह का साहित्यिक आयोजन करने के लिए छांव फाउंडेशन का शुक्रिया अदा किया।


इस अवसर पर विधायक शाहनवाज़ आलम ने कहा कि इस तरह के लिटररी फेस्टिवल के आयोजन से इलाके में साहित्य का माहौल पैदा होता है और इस तरह का आयोजन होते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह के आयोजन करने में उनसे जो भी सहयोग बन पड़ेगा, वह करेंगे।

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि उनके पिता और अररिया के पूर्व सांसद स्वर्गीय तस्लीमुद्दीन भी साहित्य में काफी दिलचस्पी लेते थे और इस तरह के आयोजनों में वह भरपूर मदद भी करते थे।

अररिया जिला परिषद अध्यक्ष आफताब अज़ीम ने भी इस तरह के अदबी कर्यक्रम के लिए छांव फाउंडेशन की सराहना की। उन्होंने कहा कि अररिया की साहित्यिक विरासत को बचाने के लिए सभी लोगों को आगे आना होगा।

बताते चलें कि अररिया लिटरेरी फेस्टिवल तीन दिनों (17, 18 और 19 फरवरी) तक चलेगा। इन तीन दिनों के दौरान विभिन्न साहित्यिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा।

Also Read Story

“बख़्तियार ख़िलजी ने नालंदा यूनिवर्सिटी को खत्म नहीं किया”- इतिहासकार प्रो. इम्तियाज अहमद

क्रांतिकारी शायरी को वायरल करने वाले गायक डॉ हैदर सैफ़ से मिलिए

“मुशायरों में फ्री एंट्री बंद हो” – शायर अज़हर इक़बाल से ख़ास बातचीत

फरवरी में होगा तीन दिवसीय अररिया लिटररी फेस्टिवल, वसीम बरेलवी सहित ये बड़े नाम होंगे शामिल

मशहूर शायर मुनव्वर राणा का निधन, मां के ऊपर लिखी नज़्म ने दिलाई थी शोहरत

किशनगंज की मिली कुमारी ने लिखा पहला सुरजापुरी उपन्यास ‘पोरेर बेटी’

उर्दू अदब और हिन्दी साहित्य का संगम थे पूर्णिया के अहमद हसन दानिश

हारुन रशीद ‘ग़ाफ़िल’: सामाजिक मुद्दों पर लिखने वाला कुल्हैया बोली का पहला शायर

वफ़ा मालिकपुरी: वह शायर जो वैश्विक उर्दू साहित्य में था सीमांचल का ध्वजधारक

फेस्टिवल में 17 फरवरी को लिटररी सेशन होगा। इस सेशन में सीमांचल में उर्दू अफसानानिगारी का इतिहास, हिंदी साहित्य का वर्तमान परिदृश्य, रेणु साहित्य की विशेषताओं पर चर्चा होगी।

17 फरवरी को ही करियर काउंसलिंग सत्र भी होगा, जिसमें आईएएस एलेक्स पॉल, आईआरएस सालिक परवेज़, एडीजे अनवर शमीम और मोटीवेशनल स्पीकर वली रहमानी चर्चा करेंगे।

इसके अतिरिक्त हिरावल थियेटर ग्रुप का नाटक और बज़्म सीमांचल के नाम से मुशायरा का आयोजन भी 17 फरवरी को होगा।

इसी प्रकार, 18 फरवरी को मीडिया और साहित्य पर चर्चा, लोक पंच स्टेज प्ले, तरंग गिटार वादन, कॉमेडी शो, दासतानगोई, ग़ज़ल गायकी आदि का प्रोग्राम होगा। इसमें डॉ हैदर सैफ तथा मशहूर कॉमेडियन रहमान खान शरीक होंगे।

वहीं, 19 फरवरी को मशहूर उर्दू शायर मुनव्वर राणा पर एक टॉक शो होगा, जिसमें साहित्य जगत के जाने माने नाम सफदर इमाम कादरी, पप्लु लखनवी, मुश्ताक़ अहमद नूरी और हसन काज़मी शामिल होंगे।

वहीं फेस्टिवल के अंत में एक मुशायरा होगा, जिसमें मशहूर शायर वसीम बरेलवी, अज़हर इक़बाल, नवाज़ देवबंदी, आरती कुमारी, ध्रुव गुप्त, सरफराज बज्मी, ज़फर कमाली, डॉ खालिद मुबशशिर आदि भाग लेंगे।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

मौत पर राहत इंदौरी के कहे 20 उम्दा शेर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद