Thursday, October 6, 2022
- Advertisement -spot_img

CATEGORY

Education

नक्सलबाड़ी : जहां उठे थे हथियार, वहां से उठेगी कलम

नक्सलबाड़ी। एक ऐतिहासिक जगह। पश्चिम बंगाल राज्य के दार्जिलिंग जिला अंतर्गत सिलीगुड़ी महकमा की वह जगह जिसने देश-दुनिया में अपनी एक अलग ही लकीर...

तुगलकी फरमान से सैकड़ों स्कूली बच्चे मार्कशीट, एसएलसी के लिए हलकान

सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय कर चिलचिलाती धूप में घंटों लाइन में खड़े इन बच्चों ने इसी साल मैट्रिक और इंटर की परीक्षा पास...

आदिवासी इलाके में झोपड़ी में चल रहा स्कूल

जुलाई महीना अंत होते-होते देश को पहला आदिवासी राष्ट्रपति मिल जाएगा। द्रौपदी मुर्मू भाजपा के NDA गठबंधन से राष्ट्रपति उम्मीदार हैं और उनका चुनाव...

ऑनलाइन क्लास के भरोसे हैं युक्रेन से लौटे मेडिकल छात्र

युक्रेन से लौटे मेडिकल छात्र बजरंग कुमार कर्मकार का पिछला एक महीना कभी कभार ऑनलाइन क्लास और भविष्य को लेकर अनिश्चितताओं के बीच गुजरा...

अभियान किताब दान: पूर्णिया में गांव गांव लाइब्रेरी की हकीकत क्या है?

अभियान किताब दान। बिहार के सीमांचल के पूर्णिया जिले के डीएम राहुल कुमार की पहल पर शुरू हुए इस अभियान के बारे में आपने...

“हालात बदतर, हमें नहीं पता क्या होगा”- युक्रेन में फंसी कटिहार की छात्रा से बातचीत

निक्की यूक्रेन के शहर इवानो फ्रैंकिवस्क में यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में रह रही हैं। उनके साथ हाॅस्टल में करीब 500 छात्र रह रहे हैं। इनमें बिहार के भी कुछ छात्र हैं। निक्की समेत हाॅस्टल के अन्य सभी छात्र डाॅक्टरी की पढ़ाई कर रहे हैं।

बिहार बोर्ड की लापरवाही, गणित की परीक्षा थी, गृह विज्ञान का पेपर थमाया

मैट्रिक की परीक्षा के पहले दिन किशनगंज में बिहार बोर्ड की चूक के चलते एक छात्रा का एक साल बर्बाद हो सकता है। बताया जा रहा है कि उक्त छात्रा की गणित विषय की परीक्षा ली जानी चाहिए थी, लेकिन उसे गृह विज्ञान का पेपर दे दिया गया। मामला किशनगंज के सरस्वती विद्या मंदिर सेंटर का है।

Inter Exams: Bihar Board के तुग़लकी नियम से बर्बाद होता छात्रों का भविष्य

बिहार में एक फरवरी से शुरू हुई इंटरमीडिएट की परीक्षा को लेकर सख्त नियम कई छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। कुछ मिनट लेट होने पर परीक्षा केंद्र में छात्रों को इंट्री नहीं मिल रही है, जिस कारण छात्र परीक्षा नहीं दे पा रहे हैं।

अब शिक्षक लागू कराएंगे शराबबंदी, सरकारी आदेश का शिक्षकों ने किया विरोध

शराबबंदी कानून के बावजूद बिहार में जहरीली शराब पीकर मरने का सिलसिला जारी है। इन घटनाओं को लेकर लगातार नीतीश सरकार पर सवाल उठ रहे हैं। चौतरफा आलोचनाओं से घिरी बिहार सरकार ने अब एक अजीबोगरीब आदेश जारी किया है। बिहार सरकार अब शराबबंदी को सूबे में सफल बनाने के लिए शिक्षकों को काम पर लगाने जा रही है।

Twitter पर कई घंटे Top Trend रहा #FundForAMUKishanganj, दो लाख से ज़्यादा tweets

AMU के लिए फंड जारी करने को लेकर 27 जनवरी की सुबह 11 बजे से #FundForAMUKishanganj हैशटैग के साथ दो लाख से ज़्यादा ट्वीट हुए। दिलचस्प बात ये रही कि इस ट्विटर हैशटैग को सभी राजनीतिक पार्टियों ने समर्थन दिया और केंद्र सरकार से एएमयू के लिए फंड की मांग की। यहां तक कि भाजपा के नेता भी समर्थन करते नजर आये।

Latest news

- Advertisement -spot_img