Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

क्या है इस ऑस्कर विजेता अभिनेत्री का किशनगंज कनेक्शन?

जुलाई 2018 में ऑस्कर विजेता अभिनेत्री ओलिविया कोलमन भारत आईं थीं और किशनगंज का दौरा किया था। उस दौरान उन्होंने बीबीसी के एक डाक्यूमेंट्री ‘हु डु यू थिंक यू आर’ के लिए शूटिंग की थी।

syed jaffer imam Reported By Syed Jaffer Imam |
Published On :

आगामी 13 मार्च को अमेरिका के लॉस एंजेलिस में 95वां अकादमी अवॉर्ड समारोह होने वाला है। अकादमी अवार्ड ऑस्कर के नाम से दुनियाभर में बेहद मशहूर है। ऑस्कर अवार्ड को फ़िल्मी दुनिया का सबसे बड़ा सम्मान माना जाता है। भारत में इस बार के ऑस्कर अवार्ड समारोह की बहुत चर्चा है। वजह है तेलुगु सिनेमा इंडस्ट्री की फिल्म आरआरआर, जिसे इस बार ऑस्कर में ‘बेस्ट ओरिजिनल सांग’ की श्रेणी में अवार्ड के लिए मनोनीत किया गया है।

यह दूसरा मौका होगा जब किसी भारतीय गाने को आधिकारिक नामांकन के तौर पर ऑस्कर के परदे पर प्रदर्शित किया जाएगा, इससे पहले गुलज़ार और एआर रहमान का गाना जय हो ऑस्कर में मनोनीत हुआ था और उस गाने को ‘बेस्ट ओरिजिनल सांग’ अवार्ड से सम्मानित किया गया था।

Also Read Story

पदमपुर एस्टेट: नदी में बह चुकी धरोहर और खंडहरों की कहानी

पुरानी इमारत व परम्पराओं में झलकता किशनगंज की देसियाटोली एस्टेट का इतिहास

मलबों में गुम होता किशनगंज के धबेली एस्टेट का इतिहास

किशनगंज व पूर्णिया के सांसद रहे अंबेडकर के ‘मित्र’ मोहम्मद ताहिर की कहानी

पूर्णिया के मोहम्मदिया एस्टेट का इतिहास, जिसने शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी भूमिका निभाई

पूर्णिया: 1864 में बने एम.एम हुसैन स्कूल की पुरानी इमारत ढाहने का आदेश, स्थानीय लोग निराश

कटिहार के कुर्सेला एस्टेट का इतिहास, जहां के जमींदार हवाई जहाज़ों पर सफर करते थे

कर्पूरी ठाकुर: सीएम बने, अंग्रेजी हटाया, आरक्षण लाया, फिर अप्रासंगिक हो गये

हलीमुद्दीन अहमद की कहानी: किशनगंज का गुमनाम सांसद व अररिया का ‘गांधी’

विश्व भर में ऑस्कर अवार्ड जीतना एक बहुत बड़ी उपलब्धि मानी जाती है। ऐसे में यह जानना बेहद दिलचस्प है कि बिहार के छोटे से जिले किशनगंज से एक ऑस्कर विजेता ओलिविया कोलमन का पुराना संबंध रहा है। बर्तानिया की अभिनेत्री ओलिविया कोलमन को 2019 के ऑस्कर अवार्ड समारोह में फिल्म ‘दी फेवरेट’ के लिए ”बेस्ट एक्ट्रेस’ के सम्मान से नवाज़ा गया था। ओलिविया का किशनगंज से क्या नाता है यह जानने के लिए अठारवीं सदी में झांकना पड़ेगा।


किशनगंज में ईस्ट इंडिया कंपनी अठारवीं सदी के आखिर के कुछ दशकों से सक्रिय रही थी। उस समय किशनगंज पूर्णिया के अंतर्गत आने वाला एक छोटा सा गाँव हुआ करता था। सन् 1788 में प्रकाशित हुई किताब रियाजुस सलातीन में फ्रांसिस बुकानन का ज़िक्र मिलता है जो ईस्ट इंडिया कंपनी के एक अहम अफसर हुआ करते थे। बुकानन ने कोलकाता से सीमांचल में आकर गंगा, कोसी और महानंदा नदी के द्वारा बिहार और उत्तर बंगाल में ईस्ट इंडिया का व्यापार और बढ़ाया। उन्नीसवीं सदी के पहले दशक में कोसी और महानंदा नदी के निकट शहरों और कस्बों में ईस्ट इंडिया कंपनी के कई व्यापारी और अधिकारियों का आगमन होने लगा। उनमें से कई व्यापारी इन शहरों और कस्बों में बस गए। उन्ही में से एक थे विलियम सलेसर जो किशनगंज में आकर बसे थे। सन् 1807 में विलियम को एक बेटी हुई जिसका नाम उन्होंने हैरियट सलेसर रखा। हैरियट सलेसर ओलीविया कोलमन की मैत्रिक पूर्वज थीं। ओलिविया उनकी पांचवी पीढ़ी हैं।

जब किशनगंज पहुंची ओलिविया

जुलाई 2018 में ऑस्कर विजेता अभिनेत्री ओलिविया कोलमन भारत आईं थीं और किशनगंज का दौरा किया था। उस दौरान उन्होंने बीबीसी की एक डाक्यूमेंट्री ‘हू डू यू थिंक यू आर’ के लिए शूटिंग की थी।

ओलिविया कोलमन बीबीसी के इस टीवी शो में किशनगंज से उनके पूर्वजों के रिश्ते के बारे में बात करती हैं। “हू डू यू थिंक यू आर” इंग्लैंड के सबसे मशहूर सेलेब्रेटी टॉक शो में से एक है। 2004 में शुरू हुए इस शो के अब तक 19 सीज़न आ चुके हैं । इस टीवी कार्य्रक्रम में मशहूर हस्तियां अपने परिवार का इतिहास ढूँढ़ती हैं और अक्सर उन जगहों का दौरा करती हैं जहां उनके पूर्वज रहते थे या काम करते थे। इसी कड़ी में 2018 के सीज़न के एक एपिसोड में ऑस्कर विजेता बर्तानिया अभिनेत्री भी आईं थी। इस एपिसोड की शूटिंग किशनगंज में हुई थी जहां उन्होंने अपने पूर्वज विलियम सेलेसर के ‘किशनगंज कनेक्शन’ के बारे में जाना।

इस दौरान ओलिविया किशनगंज के रूईधासा स्थित ब्रिटिश क्लब गईं थीं, जहां उन्होंने इतिहासकार अनुराधा चैटर्जी से मुलाक़ात की। अनुराधा ने उन्हें बताया कि ओलिविया की परदादी हैरियट सलेसर ईस्ट इंडिया कंपनी के एक अधिकारी विलियम सलेसर की बेटी थीं। हैरियट जब तीन वर्ष की थीं तो उनके पिता विलियम का एक हादसे में देहांत हो गया था जिसके बाद हैरियट की दादी ने 1400 रुपए देकर हैरियट को वापस इंग्लैंड बुला लिया था जहाँ बाद में उनका विवाह चार्ल्स यंग बैज़ेट नामक एक व्यक्ति से हुई।

वीडियो में इतिहासकार अनुराधा चैटर्जी ने ऐसी आशंका जताई थी के ओलिविया की माँ शायद लोकल महिला रही होंगी क्योंकि उस समय अंग्रेजी व्यपारियों या सैनिकों का भारतीय महिलाओं से विवाह करना एक आम प्रचलन था। बीबीसी की इस डाक्यूमेंट्री में ओलिविया यह पूरी कहानी सुनकर रो पड़ती हैं और कहती हैं कि काश उन्हें हैरियट की माँ की जानकारी मिलती और वह उनके घर वालों से मिलतीं। वीडियो के प्रसारित होने के बाद इंग्लैंड के बर्कशायर रिकॉर्ड ऑफिस नामक संस्था ने हैरियट की माँ का विल जारी किया था जिसमें उनका नाम सेराफिना डंकलेर बताया गया। सेराफिना की मृत्यु 1810 में हो गई थी।

ओलिविया कोलमन का परिचय

ओलिविया कोलमन का जनम 1970 में इंग्लैंड के नॉरविच शहर में हुआ। उन्होंने एक्टिंग सफर की शुरुआत स्कूल में ही कर दी थी। 16 साल की उम्र में ओलिविया ने स्कूल के एक समारोह में एक ड्रामे में मिस ब्रोडी का किरदार निभाया था। ओलिविया उस समय साराह कोलमन के नाम से जानी जाती थीं लेकिन 10 वर्ष बाद जब उन्होंने बीबीसी के कॉमेडी स्केच शो ‘ब्रूज़र’ में डेब्यू किया तो अपना नाम साराह कोलमन से बदल कर ओलिविया कोलमन रख लिया। ओलिविया ने उसके बाद अंग्रेजी टीवी इंडस्ट्री के कई हिट सीरीज़ में अपनी एक्टिंग प्रतिभा का लोहा मनवाया। उनमें से “लुक अराउंड यू”, “दी ऑफिस” और “पीपल लाइक अस” में ओलिविया ने खूब तारीफें बटोरी थीं।

2018 में आई फिल्म “दी फेवरेट” में ओलिविया कोलमन ने रानी ऐनी का किरदार निभाया था जिसके लिए उन्हें ऑस्कर पुरस्कार से नवाज़ा गया था। इस किरदार के अलावा ओलिविया को “दी क्राउन” टीवी सीरीज़ में रानी एलिज़ाबेथ द्वितीय का किरदार निभाने के लिए मनोरंजन क्षेत्र के समीक्ष्कों के साथ साथ दर्शकों ने खूब पसंद किया था।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सैयद जाफ़र इमाम किशनगंज से तालुक़ रखते हैं। इन्होंने हिमालयन यूनिवर्सिटी से जन संचार एवं पत्रकारिता में ग्रैजूएशन करने के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया से हिंदी पत्रकारिता (पीजी) की पढ़ाई की। 'मैं मीडिया' के लिए सीमांचल के खेल-कूद और ऐतिहासिक इतिवृत्त पर खबरें लिख रहे हैं। इससे पहले इन्होंने Opoyi, Scribblers India, Swantree Foundation, Public Vichar जैसे संस्थानों में काम किया है। इनकी पुस्तक "A Panic Attack on The Subway" जुलाई 2021 में प्रकाशित हुई थी। यह जाफ़र के तखल्लूस के साथ 'हिंदुस्तानी' भाषा में ग़ज़ल कहते हैं और समय मिलने पर इंटरनेट पर शॉर्ट फिल्में बनाना पसंद करते हैं।

Related News

बनैली राज: पूर्णिया के आलिशान राजमहल का इतिहास जहाँ आज भी रहता है शाही परिवार

अररिया के लाल सुब्रत रॉय ने बनाया अद्भुत साम्राज्य, फिर हुई अरबों रुपये की गड़बड़ी

उत्तर प्रदेश और बंगाल के ज़मींदारों ने कैसे बसाया कटिहार का रसूलपुर एस्टेट?

भोला पासवान शास्त्री: बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर तीन बार बैठने वाला पूर्णिया का लाल

134 वर्ष पुराने अररिया उच्च विद्यालय का क्या है इतिहास

रामलाल मंडल: कैसे बापू का चहेता बना अररिया का यह स्वतंत्रता सेनानी

पनासी एस्टेट: समय के चक्र में खो गया इन भव्य इमारतों का इतिहास

One thought on “क्या है इस ऑस्कर विजेता अभिनेत्री का किशनगंज कनेक्शन?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार