Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

10 साल से पुल अधूरा, हज़ारों की आबादी नांव पर निर्भर

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Published On :

एक दशक पहले पूर्णिया ज़िले के अमौर प्रखंड मुख्यालय से खाड़ी महीन गांव पंचायत और हफनिया पंचायत जैसे आधा दर्जन से अधिक पंचायतों को जोड़ने के लिए कनकई नदी पर एक पुल का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। लेकिन अब तक पुल तैयार नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि तत्कालीन अमौर विधायक जलील मस्तान और किशनगंज सांसद तस्लीमुद्दीन की पहल पर पुल का निर्माण शुरू हुआ था। इसके पिलर और पुल से जुड़ी सड़क तैयार कर दिये गये, लेकिन आगे का काम नहीं हुआ। नतीजतन, 10 साल बाद भी अर्धनिर्मित पुल कंकाल की तरह खड़ा है।

Also Read Story

मनिहारी: कटान रोधी कार्य है बेअसर, निरंतर घरों को निगल रही गंगा

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

डोंक नदी में कटाव से गांव का अस्तित्व खतरे में

बाढ़ की त्रासदी से जूझ रहे कटिहार के कुरसेला, बरारी, मनिहारी, अमदाबाद

बरसात मे निर्माण, सड़क की जगह नाव से जाने को विवश हैं ग्रामीण

Bihar Flood: किशनगंज में जगह-जगह पुल और सड़क क्षतिग्रस्त

‘मरम्मत कर तटबंध और कमज़ोर कर दिया’

अररिया शहर में बाढ़ का पानी – ‘हर साल, यही हाल होता है’

2017 के बाढ़ में ध्वस्त पुल अब तक नहीं हुआ पुनर्निर्माण

पुल का निर्माण नहीं होने से अमौर प्रखण्ड मुख्यालय से करीब 7 किलोमीटर दूर इस इलाके की आबादी के लिए नदी पार करने का एकमात्र जरिया नाव है, जो अपने आप में जोखिम भरा होता है। इन दिनों कनकई नदी का जलस्तर बढ़ने से नदी की धार से गुजरना जान को ज़ोखिम में डालने जैसा है। लेकिन लोगों के पास और कोई विकल्प भी नहीं है। स्थानीय लोग बताते हैं कि अगर गांव में कोई बीमार पड़ जाए, तो उसे करीब 50 किलोमीटर की दूरी तय कर अस्पताल जाना पड़ता है। दो पहिया वाहन तो नाव में सवार हो जाते हैं, लेकिन बड़ी गाड़ियों को इस गांव में जाने के लिए बैसा प्रखण्ड के इलाके से गुजरना पड़ता है।

बताया जा रहा है कि इसी समस्या का समाधान निकालने के लिए 10 साल पहले पुल का निर्माण होना था। निर्माण की शुरुआत भी हो गई थी, तो लोगों को लगने लगा था कि अब समस्या का समाधान हो जाएगा, लोग सड़क और पुल के रास्ते से तुरंत कहीं पहुंच जाएंगे। लेकिन इस समस्या का समाधान नहीं हो सका और लोगों की समस्याएं बढ़ती चली गयीं।



बरसात मे निर्माण, सड़क की जगह नाव से जाने को विवश हैं ग्रामीण

‘मरम्मत कर तटबंध और कमज़ोर कर दिया’


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

सिकटी में दो जगह सड़क पर 25-30 फीट का कटाव

नदी के गर्भ में समा रहा स्कूल, गुस्से में टेढ़ागाछ के भू-दाता

अररिया में बाढ़ से बुरा हाल, नरपतगंज में पलायन शुरू

किशनगंज के लौचा में भीषण कटान, डीएम के दौरे से भी नहीं बदली सूरत

जलमग्न किशनगंज रेलवे स्टेशन, यात्रियों को हो रही है परेशानी

अररिया में बाढ़ की तबाही का मंज़र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

FIFA World Cup: मिनी कतर बना दार्जिलिंग, फुटबॉल खिलाड़ियों-झंडों से पटा पहाड़

आजादी से पहले बना पुस्तकालय खंडहर में तब्दील, सरकार अनजान

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी