Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

‘हमारी किस्मत हराएल कोसी धार में, हम त मारे छी मुक्का आपन कपार में’

कोसी बराज से 4 लाख 62 हजार क्यूसेक पानी छोड़े जाने के कारण व्यथा का यह गीत लोगों की जुबां पर फिर से आ गया है। बराज से पानी छोड़े जाने से कोसी दियारा क्षेत्र में बाढ़ की प्रबल आशंका बन गई है। कोसी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है।

Sarfaraz Alam Reported By Sarfraz Alam |
Published On :

“हमारी किस्मत हराएल कोसी धार में, हम त मारे छी मुक्का आपन कपार में” अर्थात मेरी किस्मत तो कोसी की धारा में खो गई और मैं तो बस अपने भाग्य को ही कोसता हूं। यह लोकगीत बाढ़ का दंश झेल रहे कोसी क्षेत्र के लोगों की ज़ुबान पर अकसर सुना जा सकता है।

कोसी बराज से 4 लाख 62 हजार क्यूसेक पानी छोड़े जाने के कारण व्यथा का यह गीत लोगों की जुबां पर फिर से आ गया है। बराज से पानी छोड़े जाने से कोसी दियारा क्षेत्र में बाढ़ की प्रबल आशंका बन गई है। कोसी नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में नवहट्टा प्रखंड और महिषी के कोसी तटबंध के अंदर बसी दर्जनों पंचायतों के लोगों को एक बार फिर से बाढ़ का डर सताने लगा है। कोसी का जलस्तर बढ़ने को लेकर कविता देवी कहती हैं कि उन्हें डर सता रहा है कि अगर बाढ़ आ गई, तो वे लोग कहां पर पनाह लेंगे।

Also Read Story

बारसोई में ईंट भट्ठा के प्रदूषण से ग्रामीण परेशान

बिहार इलेक्ट्रिक वाहन नीति 2023: इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर सरकार कितनी छूट देगी, जान लीजिए

बारिश ने बढ़ाई ठंड, खराब मौसम को लेकर अगले तीन दिनों के लिये अलर्ट जारी

पूर्णिया : महानंदा नदी के कटाव से सहमे लोग, प्रशासन से कर रहे रोकथाम की मांग

बूढी काकी नदी में दिखा डालफिन

कटिहार के कदवा में महानंदा नदी में समाया कई परिवारों का आशियाना

डूबता बचपन-बढ़ता पानी, हर साल सीमांचल की यही कहानी

Bihar Floods: सड़क कटने से परेशान, रस्सी के सहारे बायसी

भारी बारिश से अररिया नगर परिषद में जनजीवन अस्त व्यस्त

वर्षों से बाढ़ की मार झेल रहे दियारा के लोग श्रापित जीवन जीने को मजबूर हैं। लोगों को जनप्रतिनिधियों से विकास के नाम पर सिर्फ आश्वासन ही मिला है। हर साल बाढ़ आती है, राहत और बचाव का कार्य चलता है। लेकिन बाढ़ के खत्म होते ही सब लोग भूल जाते हैं। ऐसा लगता है कि बाढ़ की समस्या का कोई स्थाई हल सरकार के पास है ही नहीं। इन सबके बीच झेलना तो गरीब जनता को ही पड़ता है। एक बार फिर कोसी अपनी पूरी रवानी पर है और लोगों को सैलाब का डर सताने लगा है। अनिल पासवान का घर भी तटबंध के अंदर बसे एक गांव में है। अनिल को भी अपना घर कटने का डर सता रहा है। अनिल कहते हैं कि घर कटने के बाद वह कहां शरण लेंगे, यह सोच कर घबरा जाते हैं।


इलाके के पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना ने भी दौरा कर हालात का जायज़ा लिया। उन्होंने जिला प्रशासन की व्यवस्था को लेकर सवाल उठाये। वह कहते हैं कि जिस स्तर पर प्रशासन की व्यवस्था होनी चाहिए वैसी देखने को नहीं मिल रही है।

हालांकि कोसी बराज पर 4 लाख 62 हजार क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद जिला प्रशासन और जल संसाधन विभाग के अधिकारी पूरी तरह से सतर्क हो गये हैं। विभाग द्वारा लोगों को सतर्क करने के लिए माइकिंग (माइक से घोषणा) भी करवाई जा रही है। माइकिंग के लिए विभाग द्वारा कई टीमें लगायी गयी हैं। एसडीआरएफ की टीम भी कोसी तटबंध पर पूरी तरह से मुस्तैद है। पदाधिकारी सहित अन्य टीम माइकिंग कर लोगों को ऊंची जगह पर शरण लेने की सलाह दे रही हैं। राजस्व पदाधिकारी हर्षा कोमल कहती हैं कि अभी जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर नहीं गया है और बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए प्रशासन पूरी तरह से तैयार है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

एमएचएम कॉलेज सहरसा से बीए पढ़ा हुआ हूं। फ्रीलांसर के तौर पर सहरसा से ग्राउंड स्टोरी करता हूं।

Related News

जलवायु परिवर्तन से सीमांचल के जिले सबसे अधिक प्रभावित क्यों

सीमांचल में हीट वेव का प्रकोप, मौसम विभाग की चेतावनी

पेट्रोल पंपों पर प्रदूषण जाँच केन्द्र का आदेश महज दिखावा

सुपौल शहर की गजना नदी अपने अस्तित्व की तलाश में

महानंदा बेसिन की नदियों पर तटबंध के खिलाफ क्यों हैं स्थानीय लोग

क्या कोसी मामले पर बिहार सरकार ने अदालत को बरगलाया?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी