Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

तुगलकी फरमान से सैकड़ों स्कूली बच्चे मार्कशीट, एसएलसी के लिए हलकान

shah faisal main media correspondent Reported By Shah Faisal |
Published On :

सैकड़ों किलोमीटर का सफर तय कर चिलचिलाती धूप में घंटों लाइन में खड़े इन बच्चों ने इसी साल मैट्रिक और इंटर की परीक्षा पास की है, लेकिन ये यहाँ खड़े क्यों हैं?

दरअसल बिहार के किशनगंज जिले के शिक्षा पदाधिकारी ने एक पत्र जारी कर सभी हाई स्कूल्, प्लस टू स्कूल और मदरसों को निर्देश दिया है कि मैट्रिक और इंटर पास विद्यार्थियों को मार्कशीट्स और एसएलसी (स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट) तभी दिया जाये जब बच्चे Kushal Yuva Program यानी KYP में अपना रजिस्ट्रेशन करा लें।

Also Read Story

कटिहार: NEET UG परीक्षा में “धांधली” को लेकर NSUI का प्रदर्शन, NTA को बताया ‘नेशनल ठग एजेंसी’

BSEB सक्षमता परीक्षा में सफल शिक्षकों की काउंसिलिंग जल्द, विभाग ने जिलों से मांगी रिक्ति 

भीषण गर्मी के कारण बिहार के स्कूलों में फिर हुई छुट्टी, 15 जून तक रहेंगे बंद

NEET UG परीक्षा में ग्रेस अंक देने पर विवाद, अच्छे मार्क्स लाने के बावजूद छात्र चिंतित, “नहीं मिलेंगे अच्छे कॉलेज”

BPSC TRE-1 में बहाल बिहार से बाहर की दर्जन भर शिक्षिकाओं की गई नौकरी, CTET में थे 60% से कम अंक

मदरसा बोर्ड भंग करने के बाद सरकार ने बोर्ड को दिया 75 लाख रुपये का अनुदान

केके पाठक छुट्टी पर, सीएम के प्रधान सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ को मिली ज़िम्मेदारी

शिक्षा विभाग ने हाइकोर्ट के फ़ैसले के बाद गेस्ट टीचर को दिया वेटेज, फैसले के विरुद्ध दायर करेगा अपील

बिहार: भीषण गर्मी और लू की वजह से 8 जून तक स्कूल रहेंगे बंद

KYP क्या है?

आगे बढ़ने से पहले समझ लीजिए कि KYP है क्या। बिहार सरकार की सात निश्चय योजना में एक योजना है “आर्थिक हल, युवाओं को बल।” इस योजना के क्रियान्वयन के लिए सरकार कई स्तरों पर काम करती है। उन्हीं में से एक है “कुशल युवा कार्यक्रम।” इसके तहत कम से कम दसवीं पास और 15 से 28 वर्ष की उम्र सीमा के बीच के युवक-युवतियों को उनके कौशल विकास के लिए कंप्यूटर भाषा और बातचीत की बेसिक जानकारी दी जाती है, ताकि ये बच्चे आसानी से किसी रोजगार से जुड़ सकें। जिला स्तर पर इसकी देखरेख “जिला निबंधन व परामर्श केंद्र” द्वारा की जाती है।


Kushal Yuva Program यानी KYP के तहत कंप्यूटर कोर्स करने के लिए बच्चों को पहले अपना रजिस्ट्रेशन कराना होता है जो किसी भी सेंटर से किया जा सकता है, लेकिन रजिस्ट्रेशन के बाद पहचान पत्र, बैंक के कागजात, शैक्षणिक प्रमाणपत्र लेकर हर विद्यार्थी को जिला स्तरीय निबंधन व परामर्श केंद्र जाकर अपना रजिस्ट्रेशन वेरीफाई करवाना होता है।

यानी कि पूरे जिले के कोने कोने से बच्चों को एक ही जगह आना है। आप जिले के किसी भी कोने से हों अगर आप इस कोर्स को करने में इच्छुक हैं तो इस प्रक्रिया से गुजरना ही होगा। लेकिन किशनगंज शिक्षा विभाग के एक पत्र ने जिले के हज़ारों स्टूडेंट्स को दौड़-धूप करने को मजबूर कर दिया है।

अनिवार्य रजिस्ट्रेशन

साजिद आलम किशनगंज जिले के सुदूर प्रखंड टेढ़ागाछ से वेरिफिकेशन के लिए निबंधन व परामर्श केंद्र आये हुए हैं। वह सुबह से ही लाइन में लगे हैं। KYP के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानते और न ही कम्प्यूटर कोर्स करने के इच्छुक हैं। वह सिर्फ स्कूल से मार्कशीट और एसएलसी चाहते हैं और इसके लिए लगभग 80 किलोमीटर का चक्कर लगा रहे हैं।

यज़दान आलम किशनगंज के मारवाड़ी कालेज से इंटर पास कर चुके हैं। आगे की पढ़ाई के लिए उसे कॉलेज से एसएलसी लेना ही होगा, लेकिन कॉलेज वाले KYP वेरिफिकेशन डॉक्यूमेंट मांगने लगते हैं। यजदान को आगे की पढ़ाई करनी है। कंप्यूटर कोर्स से उसे कोई मतलब नहीं, न ही उसे KYP के बारे में कुछ पता है।

लगभग ढाई घंटे से लाइन में खड़े अमन कुमार पानी को तरस रहे हैं, गर्मी से तप रहे बच्चों की परेशानी बता रहे हैं।

ठाकुरगंज का रहने वाला राईस रज़ा साफ़ लफ़्ज़ों में कहता है कि उसे यह कोर्स नहीं करना है, लेकिन स्कूल से अपना प्रमाण पत्र निकालने के लिए वह मज़बूरी में भागदौड़ कर रहा है।

इशरत के गांव के 30 किलोमीटर के दायरे में किसी तरह का KYP सेंटर नहीं है। वह चाहकर भी कंप्यूटर कोर्स नहीं कर सकेगी, लेकिन सिर्फ शिक्षा विभाग के फरमान के डर से रजिस्ट्रेशन और वेरिफिकेशन के पेंच में फंसी हुई है।

NSUI के छात्र नेता अमन कहते हैं कि बिहार सरकार मात्र खानापूर्ति के लिए विद्यार्थियों को परेशान कर रही है, किशनगंज में यह योजना फेल हो चुकी है, लेकिन फिर भी सरकार को खुश करने के लिए बच्चों को परेशान कर जबरदस्ती KYP में संख्या बढ़ाई जा रही है।

क्या कहते हैं शिक्षा पदाधिकारी

इस पूरे मामले को लेकर मैं मीडिया की टीम ने किशनगंज डीएम से बात की तो डीएम ने साफ कह दिया कि ऐसा करना अनिवार्य नहीं है, लेकिन उन्होंने इसका फायदा गिनाते हुए बताया कि इस योजना का लाभ सभी बच्चों को लेना चाहिये। जिला शिक्षा पदाधिकारी के पत्र को लेकर डीएम से आधिकारिक बयान नहीं मिलने पर मैं मीडिया की टीम ने जिला शिक्षा पदाधिकारी से पूछा तो उन्होंने बताया कि KYP मामले में जिले की गति काफी धीमी थी, इसलिए ऐसा किया गया है। नतीजतन, लगभग 75% बच्चों ने अब तक अपना रजिस्ट्रेशन करा लिया है।


आदिवासी इलाके में झोपड़ी में चल रहा स्कूल

सिलीगुड़ी में नैरोबी मक्खी का आतंक, किशनगंज में भी खतरा


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Shah Faisal is using alternative media to bring attention to problems faced by people in rural Bihar. He is also a part of Change Chitra program run by Video Volunteers and US Embassy. ‘Open Defecation Failure’, a documentary made by Faisal’s team brought forth the harsh truth of Prime Minister Narendra Modi’s dream project – Swacch Bharat Mission.

Related News

पूर्णिया: डीपीओ पर शिक्षकों को अपमानित करने का आरोप, शिक्षकों का हंगामा

किशनगंज: निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाये गये शिक्षकों के वेतन में कटौती

सोशल मीडिया पर कमेंट करना शिक्षिका को पड़ा महंगा, कटा वेतन

स्कूलों में गर्मी की छुट्टी बढ़ाने के लिये राज्यपाल ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

सरकारी स्कूलों में तय मानक के अनुरूप नहीं हुई बेंच-डेस्क की सप्लाई

दूसरे राज्यों की महिला शिक्षकों को पात्रता परीक्षा के उत्तीर्णांक में नहीं मिलेगी छूट, जायेगी नौकरी

स्कूलों के नये टाइम-टेबल को बदलने की मांग क्यों कर रहे बिहार के शिक्षक?

One thought on “तुगलकी फरमान से सैकड़ों स्कूली बच्चे मार्कशीट, एसएलसी के लिए हलकान

  1. E galat tarika hai news ka.
    Ye तुगलकी फरमान nhi students k favour me hi kiya gya h taki unka skill dvlp ho

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार