Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

चाइनीज झालरों ने लाया मिट्टी के दीए के बाजार में अंधेरा

मैं मीडिया की टीम ने अररिया के गाछी टोला स्थित कुम्हारों से बात कर उनके रोजगार के हालात जानने की कोशिश की।

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Updated On :

दीपावली का त्यौहार करीब आते ही कुम्हार मिट्टी का दीया बनाने में लग जाते हैं और यही वह समय होता है जब उनके सामान की सबसे ज्यादा बिक्री होती है। लेकिन, पिछले कुछ सालों से बाजार में चाइनीज झालरों की मांग बेतहाशा बढ़ गई है जबकि मिट्टी के दीए की मांग लगातार कम होती जा रही है।

मैं मीडिया की टीम ने अररिया के गाछी टोला स्थित कुम्हारों से बात कर उनके रोजगार के हालात जानने की कोशिश की।

यहां के कुम्हारों ने बताया कि वे लोग पांच पीढ़ी से यहां रहकर मिट्टी के बर्तन बना रहे हैं। पहले दीपावली के मौके पर तीन से चार लाख दीया बनाकर बेचा करते थे, लेकिन पिछले कुछ सालों से इनकी बिक्री काफी कम हो गई है।

कुम्हार अशोक पंडित बताते हैं कि जब से मार्केट में चाइनीज लाइट्स आई है तब से ग्राहक उनके दीयों को सही दाम नहीं देते हैं। ग्राहक तो समझदार होते हैं लेकिन हम सबको बेवकूफ बना कर चले जाते हैं।

मार्केट में भले ही मिट्टी के बाकी बर्तनों की मांग कम हो गई है, लेकिन चाय की कुल्हड़ अब भी ग्राहकों की पसंद है, इसलिए कुम्हारों ने दीये की जगह मिट्टी का कुल्हड़ बनाना शुरू कर दिया है।

Also Read Story

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

FIFA World Cup: मिनी कतर बना दार्जिलिंग, फुटबॉल खिलाड़ियों-झंडों से पटा पहाड़

आजादी से पहले बना पुस्तकालय खंडहर में तब्दील, सरकार अनजान

एप्रोच रोड नहीं बनने से दो साल से बेकार पड़ा पुल

बरसात के मौसम में स्कूल नहीं जाते इस गांव के बच्चे

नदी कटान से कटिहार के गांव का अस्तित्व खतरे में

घास लेने से लेकर मवेशी भगाने तक के लिए नदी पार करने की मजबूरी

एक अदद पुलिया के लिए तरस रहा कटिहार का यह गांव

कटिहार: पुल की एप्रोच सड़क तीन महीने में ही हो गई खस्ताहाल

प्रमिला देवी बताती हैं कि बाजार में मिट्टी के बर्तनों की मांग बहुत कम हो गई है जिससे उनके बर्तनों के दाम भी कम मिलते हैं। अब वह चाहती हैं कि उनकी अगली पीढ़ी पढ़ लिखकर आगे बढ़े न कि उनकी तरह कष्ट ना उठाए।

युवा कुम्हार खुशीलाल पंडित, आज की पीढ़ी को मिट्टी के बर्तनों और दीपावली के दीए का फायदा बताते हुए उनसे दीए का इस्तेमाल करने की अपील करते हैं।

दरअसल, जब हम मार्केट से बिजली से चलने वाले लाइट्स खरीदते हैं, तो उनका पैसा बड़ी-बड़ी कंपनियों के खाते में जाता है, लेकिन अगर हम मिट्टी से बने दीए का इस्तेमाल करते हैं, तो इसका पैसा एक गरीब कुम्हार के घर में जाता है और हमारे साथ साथ उसका घर भी रोशन होता है।

अगर इसे आर्थिक दृष्टिकोण से देखें तो चाइनीज लाइटों की तुलना में हमारे देश के गरीब व निम्न माध्यमिक वर्ग के लिए यह व्यापार काफी बेहतर विकल्प है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

This story has been done by collective effort of Main Media Team.

Related News

कोचाधामन के राजद विधायक और जदयू नेता में जुबानी जंग

10 साल से बिना डॉक्टर चल रहा उप स्वास्थ्य केंद्र

किशनगंज: मद्य निषेध अधिकारियों पर फूटा लोगों का गुस्सा

आयुष्मान भारत योजना: फ्री में 5 लाख का ईलाज, ऐसे चेक करें अपना नाम

DSLR कैमरा की बैटरी खराब होने की वजह एक महीने से पासपोर्ट का काम प्रभावित

आधा दशक पहले बना अस्पताल, मगर अब तक नहीं हुआ चालू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी