Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

“दलित-पिछड़ा एक समान, हिंदू हो या मुसलमान”- पसमांदा मुस्लिम महाज़ अध्यक्ष अली अनवर का इंटरव्यू

अली अनवर अंसारी करीब 25 सालों से मुस्लिम समाज की पिछड़ी जातियों को उनका हक़ दिलाने की क़वाइद कर रहे हैं। अली अनवर ऑल इंडिया पसमांदा मुस्लिम महाज़ के अध्यक्ष हैं और 2006 से 2017 के बीच राज्यसभा के सदस्य रहे हैं।

Ariba Khan Reported By Ariba Khan |
Published On :

बिहार जाति गणना के आकड़े सामने आते ही राज्य में जातियों के आधार पर अलग-अलग राजनीति शुरू होगी। इस गणना में पहली बार मुस्लिम की कई जातियों के आकड़े सामने आए हैं।

आने वाले 2024 लोकसभा चुनाव और 2025 बिहार विधानसभा चुनाव से पहले ये आंकड़े अहम माने जा रहे हैं। मुस्लिम की कई जातियों को पहली बार उनकी संख्या का अहसास हुआ है। ऐसे में ‘मैं मीडिया’ ने पूर्व पत्रकार व पूर्व सांसद अली अनवर अंसारी के साथ एक खास बातचीत की।

Also Read Story

बिहार जातीय गणना में मुस्लिम ‘कलाल-एराकी’ व ‘कसेरा-ठठेरा’ जातियों को ‘बनिया’ में गिने जाने से चिंता बढ़ी

बिहार में 75 फीसदी आरक्षण संबंधी विधेयक पर राज्यपाल की लगी मुहर

अनुसूचित जाति की तीसरी सबसे बड़ी आबादी वाले मुसहर सबसे पिछड़े क्यों हैं?

बिहार की मुस्लिम जातियां: पलायन में मलिक व सुरजापुरी आगे, सरकारी नौकरी में भंगी व सैयद, शेरशाहबादी कई पैमानों पर पीछे

बिहार जाति गणना में सुरजापुरी मुस्लिम की आबादी कम बताई गई है: किशनगंज सांसद

बिहार आरक्षण संशोधन विधेयक सदन में पास, अब 75 फीसद होगा आरक्षण

बिहार में प्रजनन दर, आरक्षण और 94 लाख गरीब परिवारों पर सदन में क्या बोले नीतीश कुमार

नीतीश सरकार 94 लाख गरीब परिवारों को देगी दो-दो लाख रुपये, आवास के लिए सहायता राशि भी बढ़ाएगी

बिहार जातीय गणना रिपोर्टः सरकारी नौकरियों में कायस्थ सबसे अधिक, राज्य में सिर्फ 7 फीसद लोग ग्रेजुएट

अली अनवर अंसारी करीब 25 सालों से मुस्लिम समाज की पिछड़ी जातियों को उनका हक़ दिलाने की क़वाइद कर रहे हैं। अली अनवर ऑल इंडिया पसमांदा मुस्लिम महाज़ के अध्यक्ष हैं और 2006 से 2017 के बीच राज्यसभा के सदस्य रहे हैं। 2017 में नीतीश कुमार की पार्टी जदयू से निकाले जाने के बाद उन्होंने शरद यादव के साथ अलग पार्टी बनाई थी, जो अब निष्क्रिय है।


इस बातचीत के दौरान अली अनवर अंसारी ने पसमांदा शब्द का मतलब समझाते हुए कहा कि यह एक रिलिजन न्यूट्रल और कास्ट न्यूट्रल शब्द है, पसमांदा नाम की न कोई बरादरी है और न ही मजहब, पसमांदा शब्द का मतलब है, “जो पीछे छूट गया।”

वह आगे कहते हैं कि हमारे देश में पसमांदा लोगों की पसमांदगी जाति से भी है और माली ऐतबार से भी है। व्यवस्था ये है कि जाति और गरीबी की रेखा बहुत सट के चलती है, मतलब जो जाति से हीन हैं वे ही माली ऐतबार से भी कमजोर हैं।

पसमांदा शब्द को मजहब और जाति से अलग बताने के बावजूद अपने संगठन के नाम में मुस्लिम शब्द का इस्तेमाल करने की बात पर वह कहते हैं, “हमारी संवैधानिक व्यवस्था के अनुसार किसी भी धर्म की कमजोर जाति के लोग, SC, ST, OBC चाहे वो मुस्लिम हों, हिंदू हों, सिख या ईसाई हों, हम उन सबको पसमांदा ही कहेंगे, और हमने इसमें मुस्लिम शब्द इसलिए लगाया क्योंकि हम जिस समाज में पैदा हुए हैं, पहले उसमें सुधार लाने के लिए, और उसमें सियासी बेदारी पैदा करने के लिए कदम उठा रहे हैं।

अली अनवर आगे कहते हैं, “जब जरूरत पड़ेगी और हमारे लोगों का विकास हो जाएगा, वो जाग जाएंगे तब तो हम एक पार्टी बना सकते हैं जिसमें हर धर्म के पसमांदा होंगे और पसमांदा लोगों की एक पार्टी होगी।”

अली अनवर अक्सर अपने इंटरव्यूज में यह दावा करते हुए सुने गए हैं कि मुसलमानों की अगड़ी जातियों की मस्जिदों में पिछड़ी जाति के लोगों को नमाज़ पढ़ने नहीं दिया जाता है, लेकिन ‘मैं मीडिया’ ने जब इससे से जुड़ा एक उदहारण उनसे मांगा, तो वह बात को गोलमोल घुमाते नज़र आए।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

अरीबा खान जामिया मिलिया इस्लामिया में एम ए डेवलपमेंट कम्युनिकेशन की छात्रा हैं। 2021 में NFI fellow रही हैं। ‘मैं मीडिया’ से बतौर एंकर और वॉइस ओवर आर्टिस्ट जुड़ी हैं। महिलाओं से संबंधित मुद्दों पर खबरें लिखती हैं।

Related News

नीतीश से मिलकर सांसद जावेद व इलाके के विधायक बोले- सुरजापुरी को मिले ईबीसी आरक्षण

मंगलवार को बिहार विधानसभा के पटल पर रखी जायेगी जाति गणना की पूरी रिपोर्ट

सुरजापुरी मुसलमानों को अत्यंत पिछड़ा वर्ग में शामिल किया जाये: सांसद डॉ. जावेद

बिहार विधानसभा व कैबिनेट में किन जातियों को कितना प्रतिनिधित्व मिला है? 

“जातीय गणना कर बिहार में उन्माद फैलाना चाहती है नीतीश सरकार”: अररिया सांसद प्रदीप कुमार सिंह 

“सभी वर्गों का होगा विकास”, जाति आधारित रिपोर्ट पर बोले नीतीश कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार