Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया: नहर पर नहीं बना पुल, गिरने से हो रही दुर्घटना

स्थानीय किशोर श्रवण कुमार यादव ने बताया कि हर साल नहर में गिरने से 3 से 4 लोगों की मौत हो जाती है। कई बार मवेशी भी दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं।

ved prakash Reported By Ved Prakash |
Published On :

अररिया जिले के नरपतगंज प्रखंड मुख्यालय के पास मधुरा नार्थ से पासवान टोला और लक्ष्मीपुर को जोड़ने वाले रास्ते में एक नहर पड़ती है। नहर के ऊपर से गुजरने के लिए पुल का निर्माण नहीं हो सका है। नहर के ऊपर साइफन की पतली दीवार से होकर लोग आना-जाना करते हैं।

आम दिनों में नहर की एक तरफ सूखा होता है जिससे लोग वाहन लेकर निकल जाते हैं लेकिन बरसात के मौसम में पानी भर जाने से आवाजाही बुरी तरह प्रभावित हो जाती है। पुल न होने के कारण साइफन की दीवार के सहारे नहर पार करने में काफी खतरा रहता है। स्थानीय लोगों का कहना है कि हाल ही में साइफन पार कर रहे दो दोस्त नहर में गिर गए थे, जिसमें दोनों की मौत हो गई।

Also Read Story

किशनगंजः “दहेज में फ्रिज और गाड़ी नहीं देने पर कर दी बेटी की हत्या”- परिजनों का आरोप 

सहरसा में गंगा-जमुनी तहजीब का अनोखा संगम, पोखर के एक किनारे पर ईदगाह तो दूसरे किनारे पर होती है छठ पूजा

“दलित-पिछड़ा एक समान, हिंदू हो या मुसलमान”- पसमांदा मुस्लिम महाज़ अध्यक्ष अली अनवर का इंटरव्यू

किशनगंजः नाबालिग लड़की के अपहरण की कोशिश, आरोपी की सामूहिक पिटाई

मंत्री के पैर पर गिर गया सरपंच – “मुजाहिद को टिकट दो, नहीं तो AIMIM किशनगंज लोकसभा जीत जायेगी’

अररियाः पुल व पक्की सड़क न होने से पेरवाखोरी के लोग नर्क जैसा जीवन जीने को मजबूर

आनंद मोहन जब जेल में रहे, शुरू से हम लोगों को खराब लगता था: सहरसा में नीतीश कुमार

Bihar Train Accident: स्पेशल ट्रेन से कटिहार पहुंचे बक्सर ट्रेन दुर्घटना के शिकार यात्री

सहरसा: भूख हड़ताल पर क्यों बैठा है एक मिस्त्री का परिवार?

स्थानीय किशोर श्रवण कुमार यादव ने बताया कि हर साल नहर में गिरने से 3 से 4 लोगों की मौत हो जाती है। कई बार मवेशी भी दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं।


नहर के पास ही स्वतंत्रता सैनानियों का गांव बसता है जहां सिंह टोला के विश्वनाथ सिंह, केशव प्रसाद सिह, रामजी सिंह, डोमी सिंह और यादव टोला के बोका यादव रहा करते थे।

साइफन की दीवार से बाइक पर पत्नी और बच्चे को लेकर लक्ष्मीपुर जा रहे अभिनंदन प्रसाद यादव ने कहा कि बारिश के मौसम में नहर का पानी काफी बढ़ जाता है जिसके कारण 7, 8 किलोमीटर घूम कर जाना पड़ता है। वहीं, एक और राहगीर तव्वाब आलम कहते हैं कि पुल न होने से मरीज़ों और गर्भवती महिलाओं को अस्पताल ले जाने में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

नहर वाला यह इलाका पहले पंचायत में आता था, लेकिन अब इसे नरपतगंज नगर पंचायत में बदल दिया गया है। नरपतगंज के ग्रामीण कार्य विभाग के जेई राजुकमार निराला ने बताया कि पुल को बनाने को लेकर प्रयास किया जा रहा है।

हमने नरपतगंज से विधायक जय प्रकाश यादव से कई बार संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन उन्होंने फ़ोन नहीं उठाया। इसके बाद हम नरपतगंज नगर परिषद अध्यक्ष सन्नो कुमारी के घर पहुंचे पर वह वहां नहीं मिलीं। हालांकि घर पर मौजूद एक परिजन ने आश्वासन दिया कि पुल के निर्माण के लिए लगातार कोशिश की जा रही है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

अररिया में जन्मे वेद प्रकाश ने सर्वप्रथम दैनिक हिंदुस्तान कार्यालय में 2008 में फोटो भेजने का काम किया हालांकि उस वक्त पत्रकारिता से नहीं जुड़े थे। 2016 में डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कदम रखा। सीमांचल में आने वाली बाढ़ की समस्या को लेकर मुखर रहे हैं।

Related News

बिहार के स्कूल में जादू टोना, टोटका का आरोप

किशनगंज: ”कब सड़क बनाओगे, आदमी मर जाएगा तब?” – सड़क न होने से ग्रामीणों का फूटा गुस्सा

बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर बिहार ने देश को सही दिशा दिखायी है: तेजस्वी यादव

बंगाल के ई-रिक्शा पर प्रतिबंध, किशनगंज में जवाबी कार्रवाई?

कटिहारः जलजमाव से सालमारी बाजार का बुरा हाल, लोगों ने की नाला निर्माण की मांग

नकली कीटनाशक बनाने वाली मिनी फैक्ट्री का भंडाफोड़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?