Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

सहरसा में गंगा-जमुनी तहजीब का अनोखा संगम, पोखर के एक किनारे पर ईदगाह तो दूसरे किनारे पर होती है छठ पूजा

पोखर के एक किनारे पर ईदगाह है, जहां मुस्लिम समुदाय के लोग हर साल ईद और बकरीद की नमाज अदा करते हैं। वहीं, हिंदुओं की आस्था से जुड़े महापर्व छठ में हजारों व्रती और श्रद्धालु यहां सूर्य भगवान को अर्घ्य देते हैं।

Sarfaraz Alam Reported By Sarfraz Alam |
Published On :

बिहार के सहरसा जिला स्थित सहरसा बस्ती पोखर की ऐतिहासिक परंपरा रही है। यहां लोक आस्था के महापर्व छठ में हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल देखने को मिलती है। शहर का यह इकलौता पोखर है, जो मुस्लिम बहुल आबादी के बीच है।

पोखर के एक किनारे पर ईदगाह है, जहां मुस्लिम समुदाय के लोग हर साल ईद और बकरीद की नमाज अदा करते हैं। वहीं, हिंदुओं की आस्था से जुड़े महापर्व छठ में हजारों व्रती और श्रद्धालु यहां सूर्य भगवान को अर्घ्य देते हैं। स्थानीय युवक राहुल कुमार बताते हैं कि यहां पर मुस्लिम समुदाय के लोग भी छठ घाट के निर्माण और साफ-सफाई में सहयोग करते हैं।

Also Read Story

24 घंटे में 248 पेंटिंग बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया सीमांचल का लाल रेहान

अररिया : मुस्लिमों के पोखर में होती है छठ पूजा, हिंदू-मुस्लिम एकता की दिखती है अनोखी मिसाल

मां की पढ़ाई रह गई थी अधूरी, बेटी ने BPSC अधिकारी बनकर सपना पूरा किया

किशनगंजः बाल विवाह के खिलाफ नागरिकों ने ली शपथ, मशाल लेकर अलख जगाने उतरीं महिलाएं

कौन हैं किशनगंज की रौशनी जो संयुक्त राष्ट्र के कार्यक्रम में देंगी भाषण?

राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित होकर किशनगंज लौटी कुमारी गुड्डी का भव्य स्वागत

Chandrayaan-3 की सफलता में शामिल कटिहार के इसरो साइंटिस्ट मो. साबिर आलम

अररिया की कलावती, जिन्होंने लड़कियों की शिक्षा के लिए बेच दी थी इंदिरा गांधी की दी हुई साड़ी

ट्रक ड्राइवर के बेटे ने सेना में लेफ्टिनेंट बन शहर का नाम किया रौशन

लोग बताते हैं कि छठ पर्व के 15 दिन पहले से ही स्थानीय मुस्लिम युवक पोखर की पहरेदारी करते हैं ताकि लोग पोखर के किनारे गंदगी न फेंक पायें। साथ-साथ पोखर की सफाई से लेकर तमाम व्यवस्था की जिम्मेदारी स्थानीय मुस्लिम समाज के लोग उठाते हैं। सहरसा बस्ती के अब्दुर्रज़्ज़ाक़ बताते हैं कि जब से उन्होंने होश संभाला है तब से यहां पर हिंदू-मुस्लिम मिलकर आस्था का महापर्व छठ मनाते हैं।


लोगों ने बताया कि यह परंपरा लगभग 80 साल से चली आ रही है और आज तक कायम है। सहरसा बस्ती की 52 बीघा जमीन पर बनी ईदगाह और पोखर देश की गंगा-जमुनी तहजीब, राष्ट्रीय एकता और आपसी भाईचारे का प्रतीक हैं। वार्ड नंबर 27 के वार्ड पार्षद प्रतिनिधि मो अकबर बताते हैं कि छठ पर्व दोनों समुदायों के लोग मिलजुल कर शांतिपूर्वक तरीके से मनाते हैं।

वार्ड नंबर 26 के वार्ड पार्षद तारिक आलम ने बताया कि पोखर के बनने के बाद से ही शहरी क्षेत्र के कई मोहल्ले के लोग यहां पर छठ पर्व मनाते आ रहे हैं। तारिक बताते हैं कि पर्व के मौके पर मुस्लिम युवक घाट पर रौशनी का इंतजाम, माइकिंग और साफ-सफाई में पूरा सहयोग करते हैं।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

एमएचएम कॉलेज सहरसा से बीए पढ़ा हुआ हूं। फ्रीलांसर के तौर पर सहरसा से ग्राउंड स्टोरी करता हूं।

Related News

हिन्दू मोहल्ले में रहने वाले इकलौते मुस्लिम, जो इमामत भी करते थे और सत्संग भी

किशनगंज में एक मुस्लिम परिवार ने हनुमान मंदिर के लिए दान की ज़मीन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?