Tuesday, May 17, 2022
- Advertisement -spot_img

TAG

bihar

ग्राउंड रिपोर्ट: तो क्या अब खाद के लिए मरेंगे बिहार के किसान?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि साल 2022 तक देश के किसानों की कमाई दोगुनी हो जाएगी, लेकिन अब खेती के लिए सबसे जरूरी चीज खाद खरीदना ही किसानों के लिए एक जंग बन गया है।

बिहार के किसानों को क्यों नहीं मिलता फसल का MSP?

एक साल के protest और सैंकड़ों किसानों की शहीद के बाद 19 नवंबर, 2021 को प्रधानमंत्री मोदी ने विवादित Farm Bills या हिंदी में कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषण की और उन्होंने इसके लिए देश से माफ़ी भी मांगी। 2014 में प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठने के बाद ये शायद पहला मौका था, जब उन्होंने देश से माफ़ी मांगी हो। 30 नवंबर को संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होते ही उन्होंने अपनी घोषणा को अमलीजामा पहनाते हुए आधिकारिक तौर पर Farm Bills वापस ले लिया। देश के किसान इसकी ख़ुशी मना सकते हैं, लेकिन बिहार के किसान नहीं। क्यूंकि, बिहार में ये कानून पिछले पंद्रह सालों से लागू है। और बिहार की राजनीति में इसको लेकर जितना सन्नाटा है, लगता नहीं है आने वाले दिनों में भी बिहार से ये कृषि कानून हटेगा।

बिहार के एक गाँव की गुहार, हमारा घर बचा लो सरकार

किशनगंज सहित सीमांचल और कोशी क्षेत्र में रहनेवाले लोग हर साल बाढ़ की त्रासदी झेलते हैं। तमाम दावों के बावजूद तमाम व्यवस्थायें और उम्म्मीदेँ प्रत्येक वर्ष ध्वस्त हो जाती हैं।

बिहार के पंचायतों को चलाने वाली परामर्श समितियां कैसे काम करेंगी?

पंचायत चुनाव समय पर नहीं हो पाने के लिए बिहार सरकार ने कानून में कुछ बदलाव कर परामर्श समितियां बनाने का निर्णय लिया है।

विकास में सबसे पीछे निकला बिहार तो जदयू ने विशेष राज्य का दर्जा मांग लिया

नीति आयोग की Sustainable Development Goals पर 3 जून को जारी हुई रिपोर्ट में बिहार विकास के मामले में सभी राज्यों में सबसे नीचे रहा जिसकी वजह से उसकी काफी आलोचना हुई। लेकिन इस मामले पर एक मांग उठने लगी है कि बिहार Bihar को विशेष राज्य का दर्जा मिले क्योंकि बिहार के पिछड़ने के पीछे इसी को कारण माना जा रहा है।

शादी के 17 साल बाद छः बच्चों की माँ को एक हाफ़िज़ ने तीन तलाक़ दे दिया

भारी विरोध और हंगमाने के बीच केंद्र सरकार ने 2019 में तीन तलाक़ बिल या मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम बनाकर तीन तलाक पर प्रतिबंध लगा दिया है। ये बिल तीन तलाक देने को कानूनी रूप से अमान्य और गैरकानूनी बनाता है। बावजूद इसके कुछ लोगों में इस कानून का खौफ अभी भी नहीं है। ताज़ा मामला बिहार के किशनगंज से सामने आया है। जहाँ एक 40 वर्षीय महिला और उसके छः बच्चों को तीन तलाक देकर उसके हाफिज पति ने घर से बाहर निकाल दिया। इसके बाद पति ने दूसरी शादी भी कर ली है।

बिहार DGP का आदेश: ड्यूटी पर बेवजह मोबाइल इस्तेमाल करने वाले पुलिसकर्मी पर कार्रवाई

लॉकडाउन के चलते बिहार पुलिस की ड्यूटी की मियाद भी बढ़ी हुई है और जिम्मेदारियां भी लेकिन इसी बीच अनुशासन को लेकर बिहार पुलिस...

उम्र के बाद Date of Birth भूल गए उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद?

बिहार के उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद अपनी उम्र के बाद अब शायद अपनी जन्म तिथि यानी Date of Birth को लेकर confused हैं।

क्या Nitish Kumar को Muslim मंत्री नहीं चाहिए?

इस बार बिहार विधानसभा में 19 मुस्लिम विधायक हैं, जिनमें 8 RJD से हैं, 5 AIMIM से, 4 कांग्रेस से, एक BSP से और एक भाकपा माले से। लेकिन जिस गठबंधन ने सरकार बनाया है यानी NDA से एक भी मुस्लिम विधायक नहीं है। भाजपा, VIP और HAM ने कोई मुस्लिम उम्मीदवार खड़ा किया ही नहीं था, जदयू से 11 मुस्लिम उम्मीदवार मैदान में थे, लेकिन सबके सब हार गए।

नीतीश के राज में बिहार बना ‘गैंगरेप प्रदेश’

सबसे ख़तरनाक वो दिशा होती है जिसमें आत्‍मा का सूरज डूब जाए, और जिसकी मुर्दा धूप का कोई टुकड़ा आपके जिस्‍म के पूरब में चुभ...

Latest news

- Advertisement -spot_img