Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया: सर्विस रोड क्यों नहीं हो पा रहा जाम से मुक्त

शहर के मुख्य चौराहा चांदनी चौक पर एक ओर फुटकर फल विक्रेताओं का सड़क पर कब्जा रहता है, तो दूसरी ओर कपड़ा दुकान में आये ग्राहकों के वाहनों की पार्किंग किये जाने से मुख्य सड़क संकरी हो जाती है।

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk | Araria |
Published On :

अररिया शहर को खूबसूरत और जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए जिला प्रशासन कई महत्वपूर्ण कदम उठा रहा है। अतिक्रमण हटाने के लिए लगातार अभियान भी चलाया जा रहा है। लेकिन अररिया शहर के सर्विस रोड पर दुकानदारों का कब्जा रहता है और सड़क पर ही की जाती है वाहनों की पार्किंग।

यह हाल है अररिया शहर के प्रमुख चौराहों का, जहां अतिक्रमण कर लोगों ने सर्विस रोड पर दुकान लगा रखी है। साथ ही इन दुकानों में आने वाले लोग अपने वाहनों को पार्किंग सड़क पर ही करते हैं। इससे आए दिन जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

बता दें कि सर्विस रोड और मुख्य सड़क के बीच में बनाए गए नाले के ऊपर भी कई दुकानदारों ने अस्थाई रूप से अपनी दुकान बना रखी है। इससे हर समय लोगों की भीड़ जमा रहती है और वाहनों को सड़क पर ही पार्क कर दिया जाता है। शहर के बीचो-बीच होकर गुजरने वाली एनएच-327ई की दोनों ओर एनएच के द्वारा बड़े नाले का निर्माण कराया गया और उसके बाद सर्विस रोड बनाने का काम किया गया है। लेकिन नाले पर भी दुकानें लगा दी गई हैं। इसलिए इस जगह पर न तो वाहन चल पाता है और ना ही पैदल लोगों के चलने की कोई व्यवस्था है। इसलिए यह सड़क लगभग बंद ही नजर आती है।


चांदनी चौक पर होता है जाम

शहर के मुख्य चौराहा चांदनी चौक पर एक ओर फुटकर फल विक्रेताओं का सड़क पर कब्जा रहता है, तो दूसरी ओर कपड़ा दुकान में आये ग्राहकों के वाहनों की पार्किंग किये जाने से मुख्य सड़क संकरी हो जाती है। इस कारण आने जाने वाले वाहनों से जाम हो जाता है। यहां रोजाना ही जाम की समस्या उत्पन्न होती है जबकि प्रशासन की ओर से चांदनी चौक पर पुलिस बल की नियुक्ति की गई है। उनकी ड्यूटी है कि वाहनों को व्यवस्थित कर सड़क से आवागमन सुचारू कराएं, लेकिन इन फुटकर दुकानदारों और ठेले वालों के कारण सड़क पर आए दिन जाम जैसी समस्या उत्पन्न होती है।

सड़क के किनारे लगता है मछली बाजार

चांदनी चौक से जीरो माइल जानेवाली सड़क पर सदर अस्पताल के सामने भी आये दिन जाम की समस्या उत्पन होती रहती है। कभी कभी तो इस जाम में एम्बुलेंस भी फंसी रहती है। इसकी वजह भी अतिक्रमण है।

roadside shops in araria

इस रोड का सर्विस रोड भी दुकानदारों के कब्जे में है। वहीं, नाले पर फुटकर दुकानें लगती है। सामने रोड पर फल, रेडीमेड कपड़ों का ठेला लगा रहता है। साथ ही सदर अस्पताल के सामने रोड के किनारे वर्षों से मछली विक्रेताओं का कब्जा है। यह भी इस जगह सड़क जाम होने का बड़ा कारण है।

आये दिन लगता है जाम

रानीगंज बस स्टैंड के पास की स्थिति भी इससे कुछ अलग नहीं है। यहां एक तो स्थायी बस स्टैंड नहीं होने के कारण बस हो या छोटे यात्री वाहन, सड़क के किनारे ही लगाए जाते हैं। साथ ही सड़क के किनारे सब्जी और फलों की दुकानें लगती हैं। मुख्य मार्ग होने के कारण बाइक और ई रिक्शा का आवागमन लगातार होता रहता है। इस कारण यहां लगभग रोजाना जाम लग जाता है।

काली मंदिर चौक की सड़क काफी चौड़ी होने के कारण यहां जाम तो नहीं लगता है। लेकिन, रोजाना मंदिर में दर्शन करने वाले सैकड़ों लोगों का तांता लगा रहता है, लेकिन यहां भी सड़क के किनारे दुकानदारों का कब्जा है।

जाम से मुक्ति और नागरिक सुरक्षा को लेकर पुलिस प्रशासन की ओर से काली मंदिर चौक, चांदनी चौक, बस स्टैंड चौक पर पुलिस की टुकड़ी लगाई गई है। इन पुलिसकर्मियों का काम है सड़क पर चलने वाले वाहनों को व्यवस्थित रूप से बढ़ाना। साथ ही जिन्होंने अवैध पार्किंग कर रखा है उनको हटाना।

Also Read Story

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग

अररिया: एक महीने से लगातार इस गांव में लग रही आग, 100 से अधिक घर जलकर राख

सारण शराबकांड: “सब पुलिस प्रशासन की मिलीभगत का नतीजा है”

क्या जातीय वर्चस्व का परिणाम है कटिहार हत्याकांड?

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

इन जगहों पर यह पुलिसकर्मी सुबह से लेकर रात के 9 बजे तक अपनी ड्यूटी निभाते हैं।

सर्विस रोड और नाले पर लगती है दुकान

एडीबी चौक से लेकर बस स्टैंड के आसपास भी दुकानदारों ने सड़क के फुटपाथ पर कब्जा जमा रखा है। सर्विस रोड पर बाइक का गैरेज, चाय की दुकान जैसी दुकानें वर्षों से चल रही हैं। साथ ही सामने नाले पर भी दुकानें सजी रहती हैं। इसी जगह ग्राहकों के बैठने के लिए कुर्सियां लगी रहती हैं। दुकानों में आने वाले ग्राहक अपनी बाइक को सड़क पर ही पार्क करते हैं। सड़क पर दिन हो या रात बाइक घंटों लगी रहती है।

customers in chandni chowk araria

अतिक्रमण हटाओ अभियान कितना असरदार

जिला प्रशासन इन सड़कों को अतिक्रमणमुक्त बनाने के लिए लगभग हर महीने अभियान चलाता है। लेकिन, दूसरे ही दिन सड़क पर दुकानदारों का दोबारा कब्जा हो जाता है। शहर के फुटपाथ से दुकानदारों को हर बार हटाया जाता है लेकिन वे लोग फिर से सड़क पर अपनी दुकान लगा देते हैं।

यातायात पुलिस की हुई है बहाली

सदर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि शहर को अतिक्रमणमुक्त बनाने की जिम्मेदारी नगर परिषद की होती है। पुलिस अतिक्रमण हटाने में उनका सहयोग करता है। जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए पुलिस विभाग की ओर से यातायात पुलिस की बहाली की गई है। सब इंस्पेक्टर विक्रांत कुमार को अतिक्रमण हटाने कीजिम्मेदारी दी गई है।

एसडीपीओ ने आगे बताया कि यातायात पुलिस को एक सायरन युक्त बाइक दी गई है। जाम की सूचना पर ये यातायात बाइक तुरंत वहां पहुंच जाएगी और जाम की समस्या से निजात दिलाएगी। इस यातायात पुलिस बाइक पर पदाधिकारी के साथ एक जवान भी रहेगा।

araria traffic police

वहीं, नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी भावेश कुमार ने बताया कि जीरो माइल से लेकर चांदनी चौक होकर बस स्टैंड तक जाने वाली सड़क एनएचएआई के अधीन है। सर्विस रोड भी उन्हीं के अधीन आता है। “सड़क पर दुकानदारों ने कब्जा कर रखा है, यह जानकारी मुझे भी है। उस जगह को अतिक्रमणमुक्त करने की जिम्मेदारी एनएचएआई की होती है, नगर परिषद सिर्फ सहयोग कर सकता है। सड़क पर वाहन पार्क करना सरासर गैरकानूनी है, इसलिए इसको हटाने को लेकर लगातार अभियान चलाया जा रहा है,” उन्होंने कहा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Main Media is a hyper-local news platform covering the Seemanchal region, the four districts of Bihar – Kishanganj, Araria, Purnia, and Katihar. It is known for its deep-reported hyper-local reporting on systemic issues in Seemanchal, one of India’s most backward regions which is largely media dark.

Related News

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी

18 साल बाद पाकिस्तान की जेल से छूटा श्याम सुंदर दास

करोड़ों की लागत से बने रेलवे अंडर ब्रिज लोगों के लिए सिरदर्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग