Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

Ground Report की अन्य ख़बरें

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

किशनगंज के आशा लता मध्य विद्यालय के निकट स्थित राजकीय कन्या मध्य विद्यालय भी जर्जर हालत में है। इस स्कूल की स्थापना सन 1949 में हुई थी।

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

आत्मनिर्भर भारत और स्वच्छ भारत मिशन का बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहे सुपौल के इस कुटीर उद्योग में सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिली है।

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

पूर्णिया ज़िले के जलालगढ़ प्रखंड की जलालगढ़ पंचायत स्थित सीमा गाँव निवासी भोजू चौहान का परिवार उन 0.2% में आता है, जिनके पास अब तक एलपीजी कनेक्शन नहीं है।

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

लगभग 48 एकड़ भूमि में फैला बैजनाथपुर पेपर मिल लगभग 45-47 साल से बंद है। हर बार चुनाव होता है, तो इस पेपर मिल का मुद्दा उछलता है, मगर इससे आगे कुछ नहीं हो पाता।

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी

बिजली बिल वसूलने और मीटर रीडिंग करने के लिए कुछ प्राइवेट कर्मियों को कॉन्ट्रैक्ट पर रखा गया जिसे आरआरएफ यानी Rural Revenue Franchise कहा गया।

18 साल बाद पाकिस्तान की जेल से छूटा श्याम सुंदर दास

श्याम सुंदर दास बिहार के सुपौल जिले के प्रतापगंज प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत भवानीपुर दक्षिण वार्ड नंबर 3 के रहने वाले हैं। वह 24 अक्टूबर को 18 साल के बाद पाकिस्तान की जेल से रिहा होकर गांव पहुंचे।

करोड़ों की लागत से बने रेलवे अंडर ब्रिज लोगों के लिए सिरदर्द

साल 2018 में तत्कालीन रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उच्चस्तरीय बैठक कर देशभर के रेल मंडलों से मानव रहित रेलवे क्रॉसिंगों को मिशन मोड में हटाने को कहा था।

कटिहार: क्षतिग्रस्त होने के पांच वर्ष बाद भी नहीं बना बिहार-बंगाल जोड़ने वाली सड़क पर पुल

साल 2017 की प्रलयकारी बाढ़ में सिहागांव के पास एक पुल क्षतिग्रस्त हो गया था। पुल क्षतिग्रस्त होने के 5 साल बीत जाने के बाद भी दोबारा पुल का निर्माण नहीं हो पाया है

बिहार को पश्चिम बंगाल से जोड़ने वाला चचरी पुल

बांस का यह पुल कटिहार ज़िले के अमदाबाद प्रखंड को मालदा जिले के हरिश्चंद्रपुर-2 प्रखंड से जोड़ता है।

नदी पर पुल नहीं, नाव है आधा दर्जन पंचायतों की जीवन रेखा

“नदी की दूसरी तरफ मेरा मायके है। नदी की पश्चिम तरफ ससुराल है और पूरब की तरफ मायके है। आने जाने में बहुत परेशानी होती है।” 70 साल की आसमा खातून की शादी 40-50 साल पहले नदी की दूसरी तरफ के गांव में इस उम्मीद में कराई गई थी की कुछ सालों में नदी पर […]

Latests Posts

सहरसा का बाबा कारू खिरहर संग्रहालय उदासीनता का शिकार

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी