Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज शहर के इन गड्ढों में यहाँ के नेताओं को डूब मरना चाहिए

किशनगंज शहर के मुख्य सड़क पर बड़े बड़े गड्ढे हैं, और गड्ढे भी इतने की मारवाड़ी कॉलेज से पश्चिमपाली जाना किसी चुनौती से कम नहीं।

खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं 150 परिवार

कोचाधामन के बगलबारी पंचायत के लगभग 150 परिवार महानंदा ब्रिज के पास खुले आसमान के नीचे शरण लिए हुए हैं। जिला मुख्यालय से सटे होने के बावाजूद इन लोगों के पास अभी तक कोई मदद नहीं पहुंचा है।

भारत के बच्चे सीख रहे हैं नेपाल से देशभक्ति, प्रधानमंत्री को पता है क्या?

भारत-नेपाल सीमा पर स्थित बिहार के इस गाँव में स्कूल नहीं है, बच्चे नेपाल के स्कूल में पढ़ रहे हैं और नेपाल से देशभक्ति सीख रहे हैं। उनके जुबान पर नेपाल का राष्ट्रगान है, जन गण मन, वन्दे मातरम् कभी सुना नहीं; महात्मा गांधी, नेहरू को नहीं जानते, लेकिन पुष्पकमल दाहाल से वाकिफ़ हैं।

इस गाँव से दुल्हन बाइक पे जाती है, मरीज चारपाई पे, मय्यत नाव पे

बारात मोटरसाइकिल पर, मय्यत नाव पर और बीमार कंधे पर सवार होकर आते-जाते है। पूर्णिया ज़िले के बायसी प्रखंड अंतर्गत बायसी पंचायत के मदरसा टोला के लोगों की यह आम दिनचर्या है।

दो साल पहले CM नीतीश के स्वागत में बना था जलमीनार, अब तक नहीं आया पानी

पंचायत में दो साल पहले जलमीनार बनाया गया, पाइपलाइन का जाल बिछाया गया, लेकिन CM का दौरा रद्द हो गया, और साथ ही रद्द हो गया गाँव का विकास।

36 साल पुराने Girls’ High School तक जाने के लिए कोई सड़क नहीं है

36 साल पुराने Girls School तक जाने के लिए कोई सड़क नहीं है, कीचड़नुमा खेतों के बीच से लड़कियां जाती है स्कूल, विकास तुम कहाँ हो?

डॉ जावेद ने 9 महीने पहले किया था पुल का शिलान्यास, अब तक शुरू नहीं हुआ काम

तत्कालीन विधायक व वर्त्तमान सांसद डॉ जावेद आज़ाद ने 9 महीने पहले पोठिया के सतमेढ़ी घाट पर पुल का शिलान्यास किया था, लेकिन काम अब तक शुरू नहीं हुआ।

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार