Thursday, October 6, 2022
- Advertisement -spot_img

CATEGORY

Sports

पूर्णिया का वह लाल जो कहलाता था विश्व फुटबॉल का “जादूगर”

1930 के दशक में भारतीय फुटबॉल टीम एशिया की सबसे धारदार टीमों में से एक थी। उन्हीं दिनों भारत XI की टीम इंडोनेशिया XI...

बांस का गोलपोस्ट, ग्राउंड में टेम्पो: ऐसे फुटबाल के सपने को जी रही लड़कियां

शहर में एक सरकारी प्लेग्राउंड है, जिसमें U-14 स्टेट चैंपियन लड़कियां फुटबॉल की प्रैक्टिस कर रही हैं। पूरे ग्राउंड में चहलकदमी है और शोर...

किशनगंज: क्यों राष्ट्रीय स्तर से आगे नहीं जा पाते जिला के ‘सुपर टैलेंटेड’ शतरंज खिलाड़ी?

किशनगंज बिहार के सबसे पिछड़े ज़िलों में से एक है, लेकिन इस ज़िले में शतरंज के बेहतरीन खिलाड़ी मौजूद हैं। कह सकते हैं कि...

Latest news

- Advertisement -spot_img