Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

पदक विजेता खिलाड़ियों को सीधे नौकरी दी जाएगी: नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि खेल प्रतियोगिताओं में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को सरकारी सेवा में सीधी बहाली होगी।

Navin Kumar Reported By Navin Kumar |
Published On :

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने घोषणा की है कि खेल प्रतियोगिताओं में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को सरकारी सेवा में सीधी बहाली होगी।

18वें राष्ट्रीय अंतरजिला जूनियर एथलेटिक्स प्रतियोगिता का आयोजन बिहार के पाटलिपुत्र खेल परिसर में हो रहा है। देश के विभिन्न राज्यों से 6000 खिलाड़ी इसमें भाग ले रहे हैं, जिसमें बिहार के 600 खिलाड़ी शामिल हैं।

Also Read Story

गैर-एनडीए सरकार घुसपैठ को बढ़ावा देती है: अररिया में बोले भाजपा नेता मनोज तिवारी

डॉ. जावेद और पीएम मोदी में झूठ बोलने का कंपटीशन चल रहा है: किशनगंज में बोले असदुद्दीन ओवैसी

कटिहार: खेत से मिली 54 वर्षीय स्कूल गार्ड की लाश, जांच में जुटी पुलिस

26 अप्रैल को पीएम मोदी पहुंचेंगे अररिया, फारबिसगंज में करेंगे चुनावी सभा

अररिया में 20 लोगों का नामांकन रद्द, 9 प्रत्याशी मैदान में बचे

“मोदी जी झूठों के सरदार हैं”: किशनगंज में बोले कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे

BPSC TRE-3: इस तारीख को होगी रद्द हुई परीक्षा, BPSC ने जारी किया परीक्षा कैलेंडर

एक भी बांग्लादेशी को बिहार में रहने नहीं देंगे: अररिया में बोले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी

UPSC सिविल सर्विसेज़ परीक्षा में 1,016 सफल, आदित्य श्रीवास्तव बने टॉपर

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आयोजन का उद्धघाटन करते हुए कहा कि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में पदक जीतने वाले खिलाड़ियों को बिहार प्रशासनिक सेवा(एसडीएम), बिहार पुलिस सेवा(डीएसपी) और अन्य समकक्ष पदों पर नौकरी दी जाएगी। उन्होंने खिलाड़ियों से कहा कि मेडल लाओ और नौकरी पाओ।


आगे उन्होंने कहा कि राज्य के प्रतिभावान खिलाड़ियों को ट्रेनिंग के लिए विदेश भेजा जा रहा है और विदेश से कोच भी बुला रहे हैं। प्रखंड स्तर पर स्टेडियम का निर्माण कराया जा रहा है। 221 स्टेडियम बनकर तैयार हो गए और बाकी पर काम जारी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2002 में अटल बिहारी की सरकार में रेल मंत्री रहते हुए रेलवे में खिलाड़ियों को नौकरी देने का निर्णय लिया था। यह देश में पहली बार खिलाड़ियों को नौकरी देने की शुरुआत थी। बिहार में वर्ष 2012 से लेकर अब तक 235 खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी दी जा चुकी है, इसलिए कॉलेज और स्कूल के छात्रों को पढ़ाई के साथ साथ खेल पर भी ध्यान देना चाहिए।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवीन कुमार बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के रहने वाले हूं। आईआईएमएससी दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई की है। अभी स्वतंत्र पत्रकारिता करते हैं। सामाजिक विषयों में रुचि है। बिहार को जानने और समझने की निरंतर कोशिश जारी है।

Related News

किशनगंज: लोकसभा चुनाव प्रशिक्षण में भाग लेने मारवाड़ी कॉलेज आये एक शिक्षक की मौत

सोने की तस्करी करते किशनगंज का व्यापारी दिनेश पारीक समेत तीन लोग गिरफ्तार

अहमद अश्फाक़ करीम जदयू में हुए शामिल, कहा, “18 परसेंट मुस्लिमों को सिर्फ 2 सीट, यह हक़तल्फ़ी है”

अररिया सीट पर AIMIM उम्मीदवार उतारने पर विचार हो रहा है: इंजीनियर आफताब अहमद

मुसलमानों की हकमारी का आरोप लगाते हुए पूर्व राज्यसभा सांसद अहमद अशफाक करीम ने छोड़ा राजद

बिहार : राजद ने प्रत्याशियों की सूची जारी की, लालू की दो बेटियां चुनाव मैदान में उतरीं

पूर्णिया: राजद प्रत्याशी बीमा भारती ने निर्दलीय पप्पू यादव को बताया बीजेपी का एजेंट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?