Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

कटिहार: दशकों से एक सड़क के लिए तरसता कदवा का सबनपुर गांव

कटिहार जिले के कदवा प्रखंड अंतर्गत सबनपुर गांव आजादी के बाद से एक मामूली सी सड़क के लिए तरस रहा है। इस गांव में लगभग एक हजार परिवार रहते हैं, जो सड़क न होने के कारण कीचड़ भरे रास्तों से होकर आना-जाना करते हैं। उन्हें बरसात के 3-4 महीने पानी और कीचड़ और बाकी दिनों में धुल, मिट्टी को पार कर हाट, पंचायत, थाना, प्रखंड और अस्पताल आदि जाना पड़ता है।

Aaquil Jawed Reported By Aaquil Jawed |
Published On :

राशिद रज़ा दूसरी कक्षा का छात्र है। वह रोज़ाना स्कूल जाने के लिए घर से साइकिल लेकर निकलता है। नदी किनारे कीचड़ भरे रास्तों पर रशीद बड़ी ताकत से साइकिल खींचता है लेकिन साइकिल फंस जाती है। लगभग दो किलोमीटर की जद्दोजहद भरी दूरी तय करने में उसे सबसे पहले तीन फीट पानी में पैदल चलना पड़ता है फिर वह घर तक पहुंच पाता है। राशिद रज़ा जैसे दर्जनों छात्र हर दिन इसी रास्ते से होकर पढ़ने के लिए कुरुमहाट स्थित स्कूल जाते हैं।

कटिहार जिले के कदवा प्रखंड अंतर्गत सबनपुर गांव आजादी के बाद से एक मामूली सी सड़क के लिए तरस रहा है। इस गांव में लगभग एक हजार परिवार रहते हैं, जो सड़क न होने के कारण कीचड़ भरे रास्तों से होकर आना-जाना करते हैं। उन्हें बरसात के 3-4 महीने पानी और कीचड़ और बाकी दिनों में धुल, मिट्टी को पार कर हाट, पंचायत, थाना, प्रखंड और अस्पताल आदि जाना पड़ता है।

बरसात में थर्मोकॉल पर रास्ता पार करते हैं ग्रामीण

छात्र राशिद रज़ा ने ‘मैं मीडिया’ को बताया कि वह और उसके साथी हर दिन इसी कीचड़ भरे रास्तों से होकर पढ़ने जाता है। गांव में एक सरकारी स्कूल है लेकिन वहां पढ़ाई का स्तर सही नहीं होने से वह तथा कई और बच्चे कुरुम हाट में स्थित एक निजी स्कूल में पढ़ने जाते हैं।


”कभी-कभी तो पूरी तरह से भीग कर जाना पड़ता है। नदी में लगभग सीने तक पानी है यहां नाव नहीं चलती है जिसकी वजह से सभी बच्चे थर्मोकाॅल से बनी नाव पर चढ़कर पार होते हैं जिसमें पैसा लगता है। लेकिन हर दिन ऐसा नहीं होता है ज्यादातर हम लोग चलकर या तैरकर पार होते हैं। अलग से दो जोड़ी कपड़ा झोले में रखना पड़ता है क्योंकि नदी पार करने के बाद कपड़े भीग जाते हैं। बरसात के दिनों में हम लोगों को काफी परेशानी होती है,” राशिद कहता है।

स्थानीय ग्रामीण अंजार आलम ने कहा कि उनकी आयु लगभग 35 वर्ष हो चुकी है और वह बचपन से आज तक इसी कीचड़ भरे रास्तों से होकर अस्पताल और पंचायत आते जाते हैं। राशन लेने के लिए जाने वाली महिलाओं को सबसे अधिक दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

अंजार आलम आगे बताते हैं कि कुछ दिन पहले उनके गांव में एक बुजुर्ग व्यक्ति की तबीयत खराब हो गई थी जिन्हें इमरजेंसी में अस्पताल पहुंचाना था लेकिन रास्ता नहीं होने के कारण उन्हें चारपाई पर लिटाकर कन्धों पर लेकर ग्रामीणों के सहयोग से डाॅक्टर के पास ले जाना पड़ा।

”हम लोग बचपन से इसी तरह की सड़क देख रहे हैं। और हम लोगों को ना चाहते हुए भी इधर से गुजरना पड़ता है क्योंकि हम लोगों का हटिया, पंचायत, प्रखंड, अस्पताल, जिला सब कुछ इसी तरफ है। जब नदी में थोड़ा बहुत पानी रहता है तो नांव या थर्माकाॅल से बनी जुगाड़ नाव से नदी पार कर लेते हैं लेकिन जब पानी थोड़ा कम हो जाता है या घुटने तक आ जाता है तब नाव नहीं चल पाती है फिर ग्रामीणों को पैदल ही आना जाना पड़ता है,” अंजार ने कहा।

बड़े आंदोलन की तैयारी में ग्रामीण

स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि इनायत राही ने बताया, ”यह कुरुम से सबनपुर गांव तक जाने के लिए मुख्य सड़क है, जो दशकों से जर्जर स्थिति में है। गांव में लगभग 1500 परिवार रहते हैं और इसी कीचड़ भरे रास्ते से होकर जाने को विवश हैं। कुछ निजी जमीन की वजह से मामला अटका पड़ा है। यहां के सांसद और विधायक इन मामलों पर ध्यान नहीं देते हैं। हम लोगों ने अपने स्तर पर कई बार प्रयास किया कि सड़क बन जाए। सामाजिक स्तर पर भी पहल की, लेकिन नहीं हो पाया। ग्रामीणों में काफी आक्रोश है और जल्द ही सभी ग्रामीण धरना प्रदर्शन और सड़क जाम करेंगे, जिसकी तैयारी भी शुरू हो गई है।”

”यह सड़क बन जाने से सिर्फ सबनपुर वासियों को ही सहुलियत नहीं होगी बल्कि पूरे बलिया बेलौन थाना क्षेत्र को फायदा पहुंचेगा। क्योंकि यह सड़क सीधे बंगाल को जोड़ देती है पश्चिम बंगाल के दालकोला जाने के लिए यह सबसे सुगम रास्ता हो जाएगा, जिससे यहां का व्यापार बढ़ेगा। सबनपुर वासियों के पास बंगाल जाने के लिए सड़क है, लेकिन अपनी पंचायत और प्रखंड जाने के लिए सड़क नहीं है,” उन्होंने आगे कहा।

”हम मरें या जियें, किसी को फर्क नहीं पड़ेगा”

सबनपुर गांव के अब्दुल रहमान अपना जरूरी सामान लेकर कुरुम हटिया से अपने घर वापस जा रहे थे, साथ में कुछ महिलाएं भी थीं। सभी के हाथ में सब्जी से भरा हुआ झोला और जरूरी सामानों की गठरी सिर पर रखी थी। वे सब कीचड़ों से होकर गुजर रहे थे। पानी में चलकर आने के कारण कमर से नीचे सभी का कपड़ा भीगा हुआ था।

अब्दुल रहमान ने कहा, ”सांसद और विधायक सिर्फ वोट लेने के लिए हमारे गांव आते हैं उसके बाद उनका कोई पता नहीं रहता है। आने वाले समय में लोकसभा चुनाव भी है, उसमें नेता आएंगे वादे करेंगे और फिर चले जाएंगे लेकिन हमारी जिंदगी में कोई बदलाव नहीं आएगा। हम मरें या जियें किसी को कोई फर्क नहीं पड़ेगा।”

अब्दुल आगे कहते हैं, ”पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान हम गांव वालों ने वोट का बहिष्कार भी किया था यह सोचकर कि सरकार और प्रशासन का ध्यान हमारी ओर आएगा, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। अब हम लोगों ने उम्मीद ही छोड़ दी है। हमें विश्वास हो गया है कि हमारी जिंदगी इसी कीचड़ भरे रास्तों और पानी में गुजर जाएगी।”

नबील अहमद कुरुमहाट में दुकान चलाते हैं और हर शाम इसी रास्ते से होकर शिमलटोला स्थित एक प्राइवेट कोचिंग में पढ़ाने जाते हैं। साल के 12 महीने वह इसी रास्ते से होकर गुजरते हैं, कभी उनको नाव से गुजरना पड़ता है तो कभी कमर भरे पानी से होकर।

नबील अहमद का मानना है कि सड़क की कनेक्टिविटी इस इलाके के विकास के लिए बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा, “हम कुरुम हाट में दुकान भी चलाते हैं। दुकान में बेचने के लिए थोक सामान कटिहार, रायगंज और टुन्नी दिग्गी से खरीद कर लाते हैं। सबसे बेस्ट मार्केट पश्चिम बंगाल का दालकोला है यहां कम रेट में अच्छा सामान मिल जाता है लेकिन रास्ता नहीं होने के कारण हम लोगों को बहुत ज्यादा किराया लग जाता है। अगर यह सड़क बन जाती है तो कुरुम मार्केट और यह इलाका डेवलप कर जाएगा।”

Also Read Story

आज़ादी के सात दशक बाद भी नहीं बनी अमौर की रहरिया-केमा सड़क, लोग चुनाव का करेंगे बहिष्कार

किशनगंज सदर अस्पताल में सीटी स्कैन रिपोर्ट के लिए घंटों का इंतज़ार, निर्धारित शुल्क से अधिक पैसे लेने का आरोप

अररिया कोर्ट रेलवे स्टेशन की बदलेगी सूरत, 22 करोड़ रुपये से होगा पुनर्विकास

अररिया, मधेपुरा व सुपौल समेत बिहार के 33 रेलवे स्टेशनों का होगा कायाकल्प

“हम लोग घर के रहे, न घाट के”, मधेपुरा रेल इंजन कारखाने के लिए जमीन देने वाले किसानों का दर्द

नीतीश कुमार ने 1,555 करोड़ रुपये की लागत वाली विभिन्न योजनाओं का किया उद्घाटन

छह हजार करोड़ रूपये की लागत से होगा 2,165 नये ग्राम पंचायत भवनों का निर्माण

किशनगंज के ठाकुरगंज और टेढ़ागाछ में होगा नये पुल का निर्माण, कैबिनेट ने दी मंजूरी

वर्षों पहले बने महिला छात्रावास और स्कूल भवन लावारिस हालत में

निजी जमीन मालिकों ने क्यों नहीं दी जमीन ?

इस संबंध में जब हमने कदवा विधानसभा के विधायक डॉ शकील अहमद खां से फोन पर बात की तो उन्होंने बताया कि इस सड़क को बनाने के लिए काफी ज्यादा पहल की गई थी। वर्षों पहले भी बात हुई थी। सड़क के लिए विभागीय स्वीकृति भी मिल चुकी थी, सड़क बनाने के लिए लोग आए भी थे लेकिन निजी जमीन वालों ने जमीन नहीं दी जिसकी वजह से काम अटका गया। विभाग सरकारी मुआवजा भी देने के लिए तैयार है। अगर अब भी निजी जमीन मालिक सरकारी मुआवजा लेकर जमीन दे दें, तो सड़क बनने में देर नहीं लगेगी।

इसके बाद हमने निजी जमीन मालिक बिझाड़ा पंचायत निवासी असलम से बात की और सड़क न बनने से ग्रामीणों की परेशानी के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि हमारी भी कुछ परेशानी है। मैं सिर्फ लोगों की परेशानी क्यों देखूं। हमारी कुछ शर्तें हैं अगर उन शर्तों को मान लिया जाए तभी जमीन देंगे। स्थानीय मुखिया और ग्रामीण इस मामले को लेकर बैठें और बात करें।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Aaquil Jawed is the founder of The Loudspeaker Group, known for organising Open Mic events and news related activities in Seemanchal area, primarily in Katihar district of Bihar. He writes on issues in and around his village.

Related News

बिहार में पिछले दशक में बने इतने स्टेट हाईवे, ये है सीमांचल-कोसी की स्थिति

सुपौल: प्रचार प्रसार के अभाव में आश्रय स्थल नहीं पहुंच पा रहे जरूरतमंद

मोईनुल हक़ स्टेडियम का होगा नये सिरे से निर्माण, इंटरनेशनल लेवल की होंगी सुविधाएं: तेजस्वी यादव

अररिया: 25,000 की आबादी वाले इलाके में दशकों से पुल का इंतज़ार

23 साल के इंतज़ार के बाद दौला पंचायत भवन बन कर तैयार, गांव के 3 लोगों ने दान की है जमीन  

कटिहार: थर्मोकोल वाली जुगाड़ नाव बनी ग्रामीणों की लाइफलाइन, सालों से पुल का इंतज़ार

खंडहर में तब्दील होता किशनगंज का राजकीय कन्या मध्य विद्यालय

One thought on “कटिहार: दशकों से एक सड़क के लिए तरसता कदवा का सबनपुर गांव

  1. Very good journalism for one the most backward region of Bihar. Simanchal has been least education ratio, due to which peoples could not understand how to be at par with changing modern world. Now your voices could make heard deaf ears of politicians and bureaucrats.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी