Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

कटिहार: इस ख़तरनाक चचरी पुल से रोज़ाना गुज़रते हैं 20 से अधिक गांव के लोग

बारसोई प्रखंड की चांदपाड़ा पंचायत में महानंदा नदी की एक सहयोगी धारा खुड़ा धार पर बांस के बने पुल से हर घंटे सैकड़ों लोग पैदल या दो पहिया वाहनों को लेकर गुज़रते हैं।

कोसी धार का अतिक्रमण बन सकता है अररिया शहर के लिए मुसीबत

अतिक्रमण के कारण कोसी नदी अब नाले में तब्दील हो गई है। इस कारण से हर वर्ष यहां बाढ़ तबाही मचाती है और कोसी किनारे बसे लोगों के घरों में बाढ़ का पानी घुस जाता है।

कोसी पीड़ितों की पंचायत तले कोसी नदी जन आयोग की रिपोर्ट जारी

कोसी नदी के तटबंधों के भीतर रहने वाले लोगों के हक के लिए एन सिन्हा इंस्टिट्यूट के सभागार में 23 और 24 फरवरी को कोसी नवनिर्माण मंच की पहल पर कोसी कन्वेंशन का आयोजन किया गया।

महानंदा बेसिन की नदियों पर तटबंध के खिलाफ क्यों हैं स्थानीय लोग

सीमांचल और पूर्वोत्तर बिहार को बाढ़ के बचाने के मक़सद से सरकार महानंदा बेसिन की नदियों पर 1200 किलोमीटर लंबा तटबंध बनाने की तैयारी कर रही है।

क्या गंगा कटान में उजड़ जाएगा कटिहार का बबलाबन्ना गाँव?

बिहार के कटिहार जिले के अमदाबाद प्रखंड अंतर्गत भवानीपुर खट्‌टी पंचायत के बबला बन्ना गांव पिछले 5 साल में आधा से ज़्यादा गंगा कटान में समा चुका है।

नदी पार करने को हर साल नया चचरी पुल बनाते हैं लोग

सहरसा के महिषी प्रखंड की राजनपुर पंचायत के घोंघसम घाट पर भी हर साल स्थानीय लोगों द्वारा आपस में चंदा इकट्ठा कर चचरी पुल का निर्माण कराया जाता है।

मनिहारी: कटान रोधी कार्य है बेअसर, निरंतर घरों को निगल रही गंगा

मनिहारी विधायक मनोहर प्रसाद सिंह ने जल संसाधन विभाग को एक पत्र लिखकर कहा कि ट्विटर पर डाले गए तथ्य सत्य से परे और भ्रामक हैं और वहां कराए गए बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य बिलकुल असुरक्षित हैं।

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

धप्परटोला गांव वार्ड संख्या 1 के निवासी 75 वर्षीय अमीज़ुद्दीन बताते हैं कि पिछली बार आई बाढ़ में 8 -10 घर कटाव की भेंट चढ़ गए।

डोंक नदी में कटाव से गांव का अस्तित्व खतरे में

हजारों आदिवासी और शेरशाहवादी समुदाय के लोग अपने गाँव के अस्तित्व को लेकर चिंता में हैं। डोंक नदी के धीरे धीरे गांव के समीप आने से लोगों में डर का माहौल है।

बाढ़ की त्रासदी से जूझ रहे कटिहार के कुरसेला, बरारी, मनिहारी, अमदाबाद

गंगा व कोसी के जल स्तर में लगातार वृद्धि से कटिहार के कुरसेला मनिहारी, बरारी और अमदाबाद प्रखंड के कई पंचायत के लोग बाढ़ की विभीषिका से झेल रहे हैं। बाढ़ की वजह से हजारों परिवार प्रभावित हो गए हैं। लगातार पानी बढने से निचले इलाके एवं गांव के लोग बाढ़ से प्रभावित हो गया […]

10 साल से पुल अधूरा, हज़ारों की आबादी नांव पर निर्भर

एक दशक पहले पूर्णिया ज़िले के अमौर प्रखंड मुख्यालय से खाड़ी महीन गांव पंचायत और हफनिया पंचायत जैसे आधा दर्जन से अधिक पंचायतों को जोड़ने के लिए कनकई नदी पर एक पुल का निर्माण कार्य शुरू हुआ था। लेकिन अब तक पुल तैयार नहीं हुआ है। गौरतलब है कि तत्कालीन अमौर विधायक जलील मस्तान और […]

बरसात मे निर्माण, सड़क की जगह नाव से जाने को विवश हैं ग्रामीण

सीमांचल में ग्रामीण कार्य विभाग के संवेदक की निष्क्रियता की वजह से कैसे ग्रामीण परेशान होते हैं, इसका जीता जागता उदहारण इन दिनों पूर्णिया ज़िले के बायसी प्रखंड में देखने को मिल रहा है। बायसी प्रखंड की हरिनतोड़ पंचायत और खपरा पंचायत के बीच माला-सकरबलिया पथ पर संवेदक ने बरसात से ठीक पहले निर्माण कार्य शुरू कर दिया।

Bihar Flood: किशनगंज में जगह-जगह पुल और सड़क क्षतिग्रस्त

किशनगंज जिले में 27 जून से लगातार 29 जून तक हुयी मुसलाधार बारिश के बाद जिले के तीन प्रखंड टेढ़ागाछ, दिघलबैंक और ठाकुरगंज प्रखंड क्षेत्र में बाढ़ जैसी हालत उत्पन्न हुई थी। नदियों के तेज कटाव के कारण दर्जनों पुल पुलिया और सड़क क्षतिग्रस्त हो गया है, जिससे ग्रामीणों की परेशानी बढ़ गयी है। जिले […]

‘मरम्मत कर तटबंध और कमज़ोर कर दिया’

कटिहार जिले के कदवा प्रखंड अंतर्गत शेखपुरा गांव में महानंदा नदी पर बने तटबंध को लेकर स्थानीय ग्रामीण भयभीत हैं। लोगों का दावा है कि इसी साल मई-जून महीने में करोड़ों की लागत से तटबंध की मरम्मत की गई, लेकिन तटबंध और कमज़ोर हो गया है। यहाँ तक कि 40 साल पहले तटबंध पर बने […]

अररिया शहर में बाढ़ का पानी – ‘हर साल, यही हाल होता है’

अररिया: बाढ़ का पानी ग्रामीण इलाकों के बाद अब शहरी क्षेत्रों की ओर बढ़ने लगा है। बढ़े जल स्तर के कारण नगर परिषद क्षेत्र के कई वार्डों में बाढ़ का पानी आजाने से लोगों को आवागमन के साथ दूसरी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बता दें नेपाल सहित भारतीय क्षेत्र में भारी वर्षा […]

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी