Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

नदी पार करने को हर साल नया चचरी पुल बनाते हैं लोग

सहरसा के महिषी प्रखंड की राजनपुर पंचायत के घोंघसम घाट पर भी हर साल स्थानीय लोगों द्वारा आपस में चंदा इकट्ठा कर चचरी पुल का निर्माण कराया जाता है।

Sarfaraz Alam Reported By Sarfraz Alam | Saharsa |
Published On :

बिहार के सहरसा में हर साल बाढ़ के कारण तबाही का मंज़र देखने को मिलता है। बाढ़ से त्राहिमाम मंच जाता है। सैकड़ों लोगों के घर बर्बाद हो जाते हैं। इलाकों में रह रहे लोगों की मुश्किलें तब बढ़ जाती हैं, जब उनको आने जाने का कोई साधन नहीं मिलता। उनके पास आने जाने का एकमात्र साधन नाव होती है, जिससे सफर करना जोखिम भरा होता है। जब इलाके में जलस्तर कम होता है, नाव का परिचालन भी बंद हो जाता है। इसके बाद स्थानीय लोग आपस में चंदा इकट्ठा कर चचरी पुल का निर्माण करते हैं, जो महज 4 से 5 महीने तक ही चलता है।

सहरसा के महिषी प्रखंड की राजनपुर पंचायत के घोंघसम घाट पर भी हर साल स्थानीय लोगों द्वारा आपस में चंदा इकट्ठा कर चचरी पुल का निर्माण कराया जाता है। बीते दिनों तेजस्वी यादव सहरसा पहुंचे थे, तो उन्होंने लोगों को भरोसा दिलाया था कि यहां पीपा पुल का निर्माण जल्द ही कराया जाएगा। लोग इस आस में बैठे थे कि तेजस्वी यादव अपना वादा पूरा करेंगे, लेकिन जब ऐसा होता दिखाई नहीं दिया, तो स्थानीय लोगों ने चचरी पुल के निर्माण का जिम्मा अपने पर लिया और अब एक बार फिर यहां चचरी पुल का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है।

Also Read Story

कोसी की समस्याओं को लेकर सुपौल से पटना तक निकाली गई पदयात्रा

सहरसा में बाढ़ राहत राशि वितरण में धांधली का आरोप, समाहरणालय के बाहर प्रदर्शन

पूर्णिया : महानंदा नदी के कटाव से सहमे लोग, प्रशासन से कर रहे रोकथाम की मांग

किशनगंज: रमज़ान नदी का जलस्तर बढ़ा, कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात

सुपौल- बाढ़ पीड़ितों को पुनर्वासित करने को लेकर ‘कोशी नव निर्माण मंच’ का धरना

सहरसा के नौहट्टा में आधा दर्जन से अधिक पंचायत बाढ़ की चपेट में

Araria News: बरसात में झील में तब्दील स्कूल कैंपस, विभागीय कार्रवाई का इंतज़ार

‘हमारी किस्मत हराएल कोसी धार में, हम त मारे छी मुक्का आपन कपार में’

पूर्णिया: बारिश का पानी घर में घुसने से पांच माह की बच्ची की मौत

यहां चचरी पुल का निर्माण कर रहे विपिन चौधरी बताते हैं कि यह हजार फीट से ज्यादा की लंबाई का है। यहां इमरजेंसी के लिए नाव के अलावा कोई दूसरा वाहन उपलब्ध नहीं हो पाता है इसलिए इस चचरी पुल का निर्माण किया जा रहा है।


निर्माण कार्य में शामिल अन्य ग्रामीण मुकेश यादव बताते हैं कि पुल का निर्माण करने में लाखों रुपए का खर्च आता है और यह पुल लगभग 1 महीने में बनकर तैयार होता है, लेकिन इतनी लागत और समय के बाद यह पुल केवल 5 महीने ही चल पाता है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

एमएचएम कॉलेज सहरसा से बीए पढ़ा हुआ हूं। फ्रीलांसर के तौर पर सहरसा से ग्राउंड स्टोरी करता हूं।

Related News

टेढ़ागाछ: घनिफुलसरा से चैनपुर महादलित टोला जाने वाली सड़क का कलवर्ट ध्वस्त

कटिहार: महानंदा नदी में नाव पलटने से महिला की स्थिति गंभीर

पूर्णिया: सौरा नदी में नहाने गया छात्र डूबा, 24 घंटे बाद भी कोई सुराग़ नहीं

कटिहार के कदवा में महानंदा नदी में समाया कई परिवारों का आशियाना

बरसात में गाँव बन जाती है झील, पानी निकासी न होने से ग्रामीण परेशान

डूबता बचपन-बढ़ता पानी, हर साल सीमांचल की यही कहानी

अररिया का मदनेश्वर धाम मंदिर पानी में डूबा, ग्रामीण परेशान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार