Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज के दिघलबैंक में हाथियों ने मचाया उत्पात, कच्चा मकान व फसलें क्षतिग्रस्त

तीन दिन पूर्व आठगछिया पंचायत के तलवार बंधा में भी हाथियों ने उत्पात मचाते हुए एक कच्चे मकान को क्षतिग्रस्त कर दिया था और खेतों में घुसकर मक्के की फसल और केले के पेड़ों को नष्ट कर दिया था। सीमावर्ती इलाकों में हाथियों के डर से लोगों में डर फैला हुआ है और वे रतजगा कर रात गुजारने पर मजबूर हैं।

Md Akil Alam Reported By Md Akil Aalam |
Published On :

बिहार के किशनगंज जिला अंतर्गत दिघलबैंक प्रखंड के सीमावर्ती क्षेत्रों में नेपाल के रास्ते आनेवाले हाथियों का उत्पात फिर से शुरू हो गया है। मंगलवार रात छह हाथियों का झुंड नेपाल के रास्ते डोरिया गांव घुस आया और गांव निवासी तमु लाल सिंह के कच्चे घर को क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद हाथियों ने डोरिया निवासी चंचल सिन्हा के दरवाजे पर दो घंटे तक डेरा जमाए रखा।

चंचल सिंह ने बताया कि अचानक एक बजे रात को उनके दरवाजे के सामने छह हाथियों का झुंड आकर खड़ा हो गया। हाथियों ने उनके पक्के मकान के बरामदे में रखे तैयार धान खा लिया‌ डरे सहमे परिवार वाले घर के अंदर दुबके रहे। गांव वालों ने बाहर से हाथियों को भगाने का प्रयास किया पर हाथियों पर इसका कोई असर नहीं हुआ। करीब दो घंटे बाद हाथियों का झुंड स्कूल के बगल वाले रास्ते से होते हुए नेपाल की तरफ लौट गया।

Also Read Story

कृषि नवाचार की मिसाल बने सहरसा के विधानचंद्र, थाईलैंड सेब सहित कई फलों की खेती में पाई बड़ी सफलता

किशनगंज में तेज़ आंधी से उड़े लोगों के कच्चे मकान, लाखों की फसल बर्बाद

कटिहार में गेहूं की फसल में लगी भीषण आग, कई गांवों के खेत जलकर राख

किशनगंज: तेज़ आंधी व बारिश से दर्जनों मक्का किसानों की फसल बर्बाद

नीतीश कुमार ने 1,028 अभ्यर्थियों को सौंपे नियुक्ति पत्र, कई योजनाओं की दी सौगात

“किसान बर्बाद हो रहा है, सरकार पर विश्वास कैसे करे”- सरकारी बीज लगाकर नुकसान उठाने वाले मक्का किसान निराश

धूप नहीं खिलने से एनिडर्स मशीन खराब, हाथियों का उत्पात शुरू

“यही हमारी जीविका है” – बिहार के इन गांवों में 90% किसान उगाते हैं तंबाकू

सीमांचल के जिलों में दिसंबर में बारिश, फसलों के नुकसान से किसान परेशान

तीन दिन पूर्व आठगछिया पंचायत के तलवार बंधा में भी हाथियों ने उत्पात मचाते हुए एक कच्चे मकान को क्षतिग्रस्त कर दिया था और खेतों में घुसकर मक्के की फसल और केले के पेड़ों को नष्ट कर दिया था। सीमावर्ती इलाकों में हाथियों के डर से लोगों में डर फैला हुआ है और वे रतजगा कर रात गुजारने पर मजबूर हैं।


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Md Akil Alam is a reporter based in Dighalbank area of Kishanganj. Dighalbank region shares border with Nepal, Akil regularly writes on issues related to villages on Indo-Nepal border.

Related News

चक्रवात मिचौंग : बंगाल की मुख्यमंत्री ने बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों के लिए मुआवजे की घोषणा की

बारिश में कमी देखते हुए धान की जगह मूंगफली उगा रहे पूर्णिया के किसान

ऑनलाइन अप्लाई कर ऐसे बन सकते हैं पैक्स सदस्य

‘मखाना का मारा हैं, हमलोग को होश थोड़े होगा’ – बिहार के किसानों का छलका दर्द

पश्चिम बंगाल: ड्रैगन फ्रूट की खेती कर सफलता की कहानी लिखते चौघरिया गांव के पवित्र राय

सहरसा: युवक ने आपदा को बनाया अवसर, बत्तख पाल कर रहे लाखों की कमाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण