Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

सहरसा: युवक ने आपदा को बनाया अवसर, बत्तख पाल कर रहे लाखों की कमाई

जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड स्थित पूर्वी कोसी तटबंध के अंदर बसे सकरा पहाड़पुर गांव के रहने वाले पप्पू कुमार के लिए बत्तख पालन ही उनकी कमाई का जरिया बन गया है। ग्रेजुएशन और इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद पप्पू कुमार ने नौकरी के बजाय अपना कारोबार करने की ठानी। पप्पू बताते हैं कि बत्तख पालन को लेकर उन्होंने यूट्यूब का सहारा लिया और इससे संबंधित तमाम जानकारी वहीं से हासिल की।

Sarfaraz Alam Reported By Sarfraz Alam |
Published On :

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को जहां एक तरफ लोग मनोरंजन का साधन के तौर पर इस्तेमाल करते हैं, तो वहीं दूसरी तरफ कई ऐसे युवा भी हैं जो सोशल मीडिया से सीख कर अपना कारोबार भी कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ सहरसा जिले से सामने आया है, जहां यूट्यूब पर बत्तख पालन का वीडियो देखकर एक युवा ने बत्तख पालने का कारोबार शुरू कर दिया।

जिले के सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड स्थित पूर्वी कोसी तटबंध के अंदर बसे सकरा पहाड़पुर गांव के रहने वाले पप्पू कुमार के लिए बत्तख पालन ही उनकी कमाई का जरिया बन गया है। ग्रेजुएशन और इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद पप्पू कुमार ने नौकरी के बजाय अपना कारोबार करने की ठानी। पप्पू बताते हैं कि बत्तख पालन को लेकर उन्होंने यूट्यूब का सहारा लिया और इससे संबंधित तमाम जानकारी वहीं से हासिल की।

Also Read Story

नीतीश कुमार ने 1,028 अभ्यर्थियों को सौंपे नियुक्ति पत्र, कई योजनाओं की दी सौगात

किशनगंज के दिघलबैंक में हाथियों ने मचाया उत्पात, कच्चा मकान व फसलें क्षतिग्रस्त

“किसान बर्बाद हो रहा है, सरकार पर विश्वास कैसे करे”- सरकारी बीज लगाकर नुकसान उठाने वाले मक्का किसान निराश

धूप नहीं खिलने से एनिडर्स मशीन खराब, हाथियों का उत्पात शुरू

“यही हमारी जीविका है” – बिहार के इन गांवों में 90% किसान उगाते हैं तंबाकू

सीमांचल के जिलों में दिसंबर में बारिश, फसलों के नुकसान से किसान परेशान

चक्रवात मिचौंग : बंगाल की मुख्यमंत्री ने बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों के लिए मुआवजे की घोषणा की

बारिश में कमी देखते हुए धान की जगह मूंगफली उगा रहे पूर्णिया के किसान

ऑनलाइन अप्लाई कर ऐसे बन सकते हैं पैक्स सदस्य

पप्पू कुमार शुरू में मुजफ्फरपुर से देसी प्रजाति का लगभग 200 बत्तख खरीद कर लाये और उसका पालन शुरू किया। देखते ही देखते उनका कारोबार चल निकला और पप्पू के पास अभी एक हजार से अधिक बत्तख मौजूद हैं। उन्होंने बताया कि इस काम में उनको लागत मूल्य के पचास फीसद तक की बचत हो जाती है। पप्पू सरकारी उदासीनता पर सवाल खड़ा करते हुए कहते हैं कि विभाग की तरफ से ऐसे कार्यों के लिए अनुदान दिया जाता है, लेकिन सरकारी बाबुओं की लेट-लटीफी की वजह से अनुदान लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।


बिहार का कोसी और सीमांचल इलाका हर साल सैलाब की मार झेलता है। आपदा ऐसी भयंकर होती है कि कई-कई जगहों पर सालों साल पानी लगा रहता है। ऐसे में एक युवक ने आपदा में ही अवसर खोजा और अपना कारोबार शुरू कर, अपने साथ-साथ दूसरों को भी रोजगार का अवसर प्रदान कर रहा है। पप्पू कहते हैं कि सरकार तो हर किसी को नौकरी नहीं दे सकती है, इसलिए अपना कारोबार शुरू करना एक अच्छा विकल्प है। वह कहते हैं कि इलाके में नदी और पोखर भरे पड़े हैं, और सबसे अच्छी बात यह है कि देसी प्रजाति के बत्तख को पालने में मेहनत भी कम लगती है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

एमएचएम कॉलेज सहरसा से बीए पढ़ा हुआ हूं। फ्रीलांसर के तौर पर सहरसा से ग्राउंड स्टोरी करता हूं।

Related News

‘मखाना का मारा हैं, हमलोग को होश थोड़े होगा’ – बिहार के किसानों का छलका दर्द

पश्चिम बंगाल: ड्रैगन फ्रूट की खेती कर सफलता की कहानी लिखते चौघरिया गांव के पवित्र राय

बारिश नहीं होने से सूख रहा धान, कर्ज ले सिंचाई कर रहे किसान

कम बारिश से किसान परेशान, नहीं मिल रहा डीजल अनुदान

उत्तर बंगाल के चाय उद्योग में हाहाकार

बिहार में कम बारिश से धान की रोपाई पर असर, सूखे की आशंका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी