Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया: एक साल से क्षतिग्रस्त पुल, बांस के सहारे गुजरते हैं लोग

चचरी और बांस के पायो से बनाए गए इस पुल के ऊपर लोहे की चादर बिछाई गई है, जिससे रोजाना हजारों लोग अपनी जान जोखिम में डालकर गुजरते हैं।

ved prakash Reported By Ved Prakash |
Published On :

अररिया प्रखंड की रामपुर मोहनपुर पश्चिम पंचायत को फारबिसगंज से जोड़ने वाला यह पुल लगभग 1 साल से क्षतिग्रस्त है। रामपुर चौक के निकट इस पुल का एक भाग छतिग्रस्त होने के बाद स्थानीय मुखिया के सहयोग से इस पर चचरी डालकर यातायात के काबिल बनाया गया है। चचरी और बांस के पायो से बनाए गए इस पुल के ऊपर लोहे की चादर बिछाई गई है, जिससे रोजाना हजारों लोग अपनी जान जोखिम में डालकर गुजरते हैं।

पैदल चलने वाले लोगों के साथ-साथ, साइकिल, बाइक, टेंपो और यहां तक कि ट्रैक्टर जैसे बड़े वाहन भी इस नाजुक पुल से ही गुजरने को मजबूर हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार, इस पुल पर कई बार लोग हादसों का शिकार भी हो चुके हैं, लेकिन अभी तक किसी सरकारी कर्मचारी द्वारा इस पर ध्यान नहीं दिया गया है।

Also Read Story

आज़ादी के सात दशक बाद भी नहीं बनी अमौर की रहरिया-केमा सड़क, लोग चुनाव का करेंगे बहिष्कार

किशनगंज सदर अस्पताल में सीटी स्कैन रिपोर्ट के लिए घंटों का इंतज़ार, निर्धारित शुल्क से अधिक पैसे लेने का आरोप

अररिया कोर्ट रेलवे स्टेशन की बदलेगी सूरत, 22 करोड़ रुपये से होगा पुनर्विकास

अररिया, मधेपुरा व सुपौल समेत बिहार के 33 रेलवे स्टेशनों का होगा कायाकल्प

“हम लोग घर के रहे, न घाट के”, मधेपुरा रेल इंजन कारखाने के लिए जमीन देने वाले किसानों का दर्द

नीतीश कुमार ने 1,555 करोड़ रुपये की लागत वाली विभिन्न योजनाओं का किया उद्घाटन

छह हजार करोड़ रूपये की लागत से होगा 2,165 नये ग्राम पंचायत भवनों का निर्माण

किशनगंज के ठाकुरगंज और टेढ़ागाछ में होगा नये पुल का निर्माण, कैबिनेट ने दी मंजूरी

वर्षों पहले बने महिला छात्रावास और स्कूल भवन लावारिस हालत में

स्थानीय निवासी पंकज कुमार साह बताते हैं कि यह काफी पुराना और कमजोर पल था जिसे साल 2004 के आसपास बनाया गया था। पिछले साल गिट्टी भरा एक ट्रक पुल से गुजर रहा था, उसी ट्रक के वज़न से पुल का एक हिस्सा टूट गया, तब से अब तक इस पुल की मरम्मत नहीं कराई गई है जबकि यहां से रोजाना लगभग 4-5 हजार लोगों का गुजरना होता है।


स्थानीय टेंपो चालक मोहम्मद आसिफ पुल से गुजरते वक्त लगातार बने रहने वाले खतरे के बारे में बताते हैं। वह सरकार से सवाल करते हैं कि जब किसी हादसे का शिकार होकर लोग मर जाएंगे क्या वह तभी मुआवजा देगी ? क्या उससे पहले इस पुल को नहीं बनवाया जाएगा ?

स्थानीय मुखिया मोहम्मद सालेह आलम ने बताया कि उन्होंने अपने निजी खर्च से बांस और चचरी द्वारा पुल को बनवाया है ताकि लोगों का आना जाना बना रहे। सालेह आलम कहते हैं कि वे उस पुल की मांग को लेकर प्रखंड से लेकर जिला मुख्यालय तक गए, विभाग में भी कई बार गए जहां मौखिक के साथ-साथ लिखित अर्जी दी, लेकिन अभी तक सिर्फ आश्वासन ही हाथ लगा है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

अररिया में जन्मे वेद प्रकाश ने सर्वप्रथम दैनिक हिंदुस्तान कार्यालय में 2008 में फोटो भेजने का काम किया हालांकि उस वक्त पत्रकारिता से नहीं जुड़े थे। 2016 में डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कदम रखा। सीमांचल में आने वाली बाढ़ की समस्या को लेकर मुखर रहे हैं।

Related News

बिहार में पिछले दशक में बने इतने स्टेट हाईवे, ये है सीमांचल-कोसी की स्थिति

सुपौल: प्रचार प्रसार के अभाव में आश्रय स्थल नहीं पहुंच पा रहे जरूरतमंद

मोईनुल हक़ स्टेडियम का होगा नये सिरे से निर्माण, इंटरनेशनल लेवल की होंगी सुविधाएं: तेजस्वी यादव

अररिया: 25,000 की आबादी वाले इलाके में दशकों से पुल का इंतज़ार

23 साल के इंतज़ार के बाद दौला पंचायत भवन बन कर तैयार, गांव के 3 लोगों ने दान की है जमीन  

कटिहार: थर्मोकोल वाली जुगाड़ नाव बनी ग्रामीणों की लाइफलाइन, सालों से पुल का इंतज़ार

खंडहर में तब्दील होता किशनगंज का राजकीय कन्या मध्य विद्यालय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी