Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

BPSC TRE-3 के 5 अप्रैल की संभावित परीक्षा स्थगित

15 मार्च को ही दूसरी पाली में शिक्षा विभाग के अंतर्गत आने वाले स्कूलों के लिये वर्ग 1-5 के सभी विषयों (उर्दू, बंग्ला तथा सामान्य) के शिक्षक पदों की परीक्षा आयोजित हुई। साथ ही दूसरी पाली में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग अंतर्गत प्राथमिक स्कूलों के लिये सामान्य विषय की परीक्षा हुई थी।

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) ने तीसरे चरण की शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में 5 अप्रैल को होनेवाली परीक्षा को कैंसिल कर दिया है। 20 मार्च को हुई आयोग की बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया। आयोग के सचिव रवि भूषण ने इसको लेकर दो दर्जन से अधिक जिला पदाधिकारियों को पत्र लिखा है।

आयोग ने पटना, भोजपुर, बक्सर, रोहतास, नालन्दा, गया, नवादा, जहानाबाद, औरंगाबाद, मुंगेर, लखीसराय, बेगुसराय, खगड़िया, भागलपुर, बाँका, पूर्णियाँ, कटिहार, सहरसा, दरभंगा, समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, वैशाली, पूर्वी चम्पारण, पश्चिमी चम्पारण, गोपालगंज, सीवान और सारण के जिला पदाधिकारी को पत्र लिखकर 5 अप्रैल की परीक्षा रद्द होने की जानकारी दी है।

Also Read Story

BPSC TRE-3 की 15 मार्च की परीक्षा रद्द करने की मांग तेज़, “रद्द नहीं हुई परीक्षा तो कट-ऑफ बहुत हाई होगा”

BPSC TRE-3: ठोस सबूत मिलने पर ही 15 मार्च की परीक्षा रद्द करने पर आयोग लेगा फैसला

BPSSC सब इंस्पेक्टर की मुख्य परीक्षा का रिज़ल्ट जारी, 7,623 उम्मीदवार कामयाब

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 3,120 नवनियुक्त कर्मचारियों को बांटे नियुक्ति पत्र

BPSC ने सिमुलतला विद्यालय के लिये निकाली शिक्षक पदों पर बहाली, 25 अप्रैल से करें आवेदन

BPSC TRE-3 में ले रहे हैं भाग तो परीक्षा को लेकर जान लीजिये ये बड़ा अपडेट

BPSC की 68वीं सिविल सेवा परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को दस्तावेज़ अपलोड करने का आख़िरी मौक़ा

BPSC TRE-3 के एडमिट कार्ड में फोटो या हस्ताक्षर साफ नहीं है तो परीक्षा केंद्र पर ले जायें ये काग़ज़ात

BPSC के तीसरे चरण की शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में 16 मार्च की परीक्षा कैंसिल

बताते चलें कि 5 अप्रैल को शिक्षा विभाग तथा अनुसूचित जाति व जनजाति कल्याण विभाग के अन्तर्गत विद्यालय शिक्षक नियुक्ति परीक्षा संभावित थी। हालांकि, आयोग ने इसकी तिथि की औपचारिक घोषणा नहीं की थी।


उल्लेखनीय है कि आयोग तीसरे चरण में 15 मार्च को हुई परीक्षा को पहले ही रद्द कर चुकी है। परीक्षा से पूर्व ही प्रश्न पत्र लीक हो जाने से यह परीक्षाएं रद्द की गई हैं।

बताते चलें कि बीपीएससी के तीसरे चरण की शिक्षक भर्ती परीक्षा 15 मार्च को दो पाली में आयोजित की गई थी। पहली पाली में शिक्षा विभाग के अंतर्गत आने वाले स्कूलों के वर्ग 6-8 के लिये गणित-विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, हिंदी, अंग्रेज़ी, संस्कृत और उर्दू विषयों के शिक्षक पदों के लिये परीक्षा हुई थी।

15 मार्च को ही दूसरी पाली में शिक्षा विभाग के अंतर्गत आने वाले स्कूलों के लिये वर्ग 1-5 के सभी विषयों (उर्दू, बंग्ला तथा सामान्य) के शिक्षक पदों की परीक्षा आयोजित हुई। साथ ही दूसरी पाली में अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग अंतर्गत प्राथमिक स्कूलों के लिये सामान्य विषय की परीक्षा हुई थी।

इसके अलावा वर्ग 9-10 और 11-12 के सभी विषयों की परीक्षा होना बाक़ी था।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

बिहार के आईटीआई कॉलेजों में वाइस प्रिंसिपल पदों पर निकली इतनी वैकेंसी, 25 मार्च से आवेदन

बिहार में स्कूल हेडमास्टर के 42 हज़ार से अधिक पदों के लिये 11 मार्च से करें आवेदन

BPSC TRE-3 के लिये 7 मार्च से एडमिट कार्ड होगा जारी, ऐसे करें डाउनलोड

BPSC 68वीं सिविल सेवा के अभ्यर्थी 6 मार्च से डाउनलोड कर सकेंगे उत्तर पुस्तिका

BPSC TRE-3: वर्ग 1-10 की परीक्षा तिथि जारी, वर्ग 11-12 के लिये बाद में होगी घोषणा

पटना में छात्रा उपमुख्यमंत्री सम्राट चौधरी की गाड़ी के आगे कूदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला