Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

15 साल पहले बना शवगृह आज तक नहीं खुला, खुले में होता है अंतिम संस्कार

सहरसा नगर निगम क्षेत्र के सुबेदारी टोला में स्थित मुक्तिधाम विद्युत शव दाह गृह का निर्माण 15 साल पहले उस समय के विधायक रहे संजीव झा ने कराया था। इसमें तीन बड़े-बड़े कमरे, 6 बर्निंग शेड, ट्यूबवेल, सोलर पैनल व लाइट जैसी सभी सुविधाओं के लिए लाखों रुपये खर्च किये गये। ‌

Sarfaraz Alam Reported By Sarfraz Alam |
Published On :

यह सहरसा नगर निगम क्षेत्र के सुबेदारी टोला में स्थित मुक्तिधाम विद्युत शव दाह गृह है। इसका निर्माण 15 साल पहले उस समय के विधायक रहे संजीव झा ने कराया था। इसमें तीन बड़े-बड़े कमरे, 6 बर्निंग शेड, ट्यूबवेल, सोलर पैनल व लाइट जैसी सभी सुविधाओं के लिए लाखों रुपये खर्च किये गये। ‌

लेकिन, आज भी सहरसा और आसपास के इलाके के लोग इस मुक्तिधाम परिसर के बजाय उसकी चारदीवारी के बाहर ही अंतिम संस्कार कर रहे हैं। ‌ लेकिन प्रशासनिक उदासीनता के चलते इसमें मौजूद सुविधाओं का आज तक किसी स्थानीय को लाभ नहीं मिल पाया है। विधायक कोष से शवदाह गृह का निर्माण तो करवा दिया गया, लेकिन इसको इस्तेमाल में लाने के लिए पिछले 15 सालों में कभी खोला ही नहीं गया। नतीजा में शवदाह गृह में मौजूद सभी यंत्र चोरी हो गए।

Also Read Story

अररिया शहर के रिहायशी इलाके में डंपिंग ग्राउंड से लोग परेशान

निर्माण के दो वर्षों में ही जर्जर हुई सड़क और पुलिया हादसों को दे रही दावत

पुल न बनने पर तीन गांव के ग्रामीणों ने किया लोकसभा चुनाव के बहिष्कार का एलान

नदी पर पुल नहीं, नेपाल की फायर बिग्रेड गाड़ी ने बुझायी किशनगंज में लगी आग

सीमांचल की बसों में यात्री बेनामी बस टिकट से यात्रा करने को मज़बूर

नई पशु जन्म नियंत्रण नियमावली के लिए कितना तैयार है पूर्णिया

विकास को अंगूठा दिखा रही अररिया की यह अहम सड़क

सुपौल: 16 साल से रास्ते का इंतजार कर रहा विद्यालय, सीएम का दौरा भी बेअसर

अररिया: दशकों से बाँसुरी बेच रहे ग्रामीण बुनियादी सुविधाओं से वंचित

स्थानीय युवक आकाश कुमार बताते हैं कि विद्युत शवदाह गृह होने के बावजूद शव को बाहर ही जलाना पड़ता है। इसके अलावा बारिश के मौसम में यहां की सड़क पर करीब 3 फीट तक पानी भर जाता है और बॉडी को शवदाह गृह तक लाने के लिए बहुत ज्यादा परेशानी होती है। वह चाहते हैं कि शवदाह गृह को चालू कराने के साथ ही सरकार इस सड़क की भी मरम्मत कराए।


बता दें कि सहरसा की लगभग दो लाख आबादी दाह संस्कार के लिए इसी शवदाह गृह पर निर्भर है, और खुले में लाश को जलाने से यहां के लोगों को बारिश में आग जलाने में समस्या होती है। साथ ही इससे उठने वाले धुएं और बदबू के कारण भी क्षेत्र के लोग परेशान हैं। स्थानीय ग्रामीण मोहम्मद मुबारक अली और सहदेव शर्मा भी इस संबंध में प्रशासन की लापरवाही से नाराज हैं। वे सरकार से अनुरोध करते हैं कि जल्द से जल्द इस शवगृह को चालू करवाया जाए और इसके अंदर मौजूद सभी सुविधाओं को ग्रामीणों द्वारा उपयोग में लाने दिया जाए।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

एमएचएम कॉलेज सहरसा से बीए पढ़ा हुआ हूं। फ्रीलांसर के तौर पर सहरसा से ग्राउंड स्टोरी करता हूं।

Related News

बिहार में 45,793 जल स्रोत, लेकिन 49.8 % इस्तेमाल के लायक नहीं

कटिहार: चार सालों से पुल का काम अधूरा, बरसात में डूब जाता है पुल का ढांचा

अररिया नगर परिषद क्षेत्र में आवास योजना के सैकड़ों मकान अधूरे

पूर्णिया बस स्टैंड पर टॉप क्लास यात्री सुविधा दूर की कौड़ी

एक अदद सड़क के लिए तरसता नेपाल सीमा पर बसा यह गांव

भरगामा का 39 वर्ष पहले बना महाविद्यालय खंडहर में तब्दील

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

‘हम चाहते थे बेटा पढ़ाई करे, मज़दूरी नहीं’, नेपाल में मरे मज़दूरों की कहानी

किशनगंज का नेहरू कॉलेज, जहाँ 21 एकड़ के कैंपस में छात्र से ज़्यादा मवेशी नज़र आते हैं

ज़मीन पर विफल हो रही ममता बनर्जी सरकार की ‘निज घर निज भूमि योजना’

महादलित गाँव के लिए 200 मीटर रोड नहीं दे रहे ‘जातिवादी’ ज़मींदार!

बिहारशरीफ में कैसे और कहां से शुरू हुई सांप्रदायिक हिंसा?