Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिहार में आशा कर्मियों की हड़ताल से स्वास्थ्य सेवा ठप

आशा कर्मी व फैसिलिटेटर्स कई तरह की मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। इनमें परितोषिक 1000 रुपये की जगह मासिक मानदेय दस हज़ार रुपये देने, आशा तथा आशा फैसिलिटेटर्स को स्वास्थ्य विभाग का कर्मचारी का दर्जा, पेंशन योजना का लाभ, रिटायरमेंट बेनिफिट के रूप में एकमुश्त 10 लाख रुपये का भुगतान और कोरोना काल की बकाया राशि का भुगतान शामिल हैं।

Aaquil Jawed Reported By Aaquil Jawed |
Published On :

राज्य के तकरीबन एक लाख से ज्यादा आशा कार्यकर्ता और आशा फैसिलिटेटर 12 जुलाई से ‘आशा संयुक्त संघर्ष मंच’ के बैनर तले हड़ताल पर चली गई हैं। यह हड़ताल बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ की अध्यक्ष शशि यादव के नेतृत्व में चल रही है। आशा कर्मियों ने विरोध स्वरूप टीकाकरण के कार्य को भी रोक दिया है। इस हड़ताल से राज्य के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर स्वास्थ्य सेवा ठप हो चुकी है।

सभी जिलों में करीब-करीब सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों और रेफरल अस्पतालों पर हड़ताल का व्यापक असर दिख रहा है। इस बार आशा कर्मी सरकार से आर-पार की लड़ाई के मूड में नज़र आ रही हैं।

Also Read Story

किशनगंज में बग़ैर सीजर के महिला ने 5 बच्चों को दिया जन्म, मां और बच्चे स्वस्थ

सरकारी योजनाओं से क्यों वंचित हैं बिहार के कुष्ठ रोगी

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को कैंसर, नहीं करेंगे चुनाव प्रचार

अररिया: टीका लगाने के बाद डेढ़ माह की बच्ची की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

चाकुलिया में लगाया गया सैनेटरी नैपकिन यूनिट

अररिया: स्कूल में मध्याह्न भोजन खाने से 40 बच्चों की हालत बिगड़ी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना को लेकर की उच्चस्तरीय बैठक

बिहार में कोरोना के 2 मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सतर्क

कटिहार: आशा दिवस पर बैठक बुलाकर खुद नहीं आए प्रबंधक, घंटों बैठी रहीं आशा कर्मियां

इस हड़ताल का असर बिहार के सीमांचल में भी दिख रहा है। कटिहार जिले के अलग-अलग प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और सरकारी अस्पतालों के सामने आशा कर्मी अपना काम रोककर सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर रही हैं।


सिवान में आशा कर्मी की मौत

दूसरी तरफ, हड़़ताल के दौरान सिवान जिले के मैरवा की आशा सरस्वती देवी की तबीयत बिगड़़ने से मौत हो गई। बिहार के कई प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर उन्हें श्रद्धांजलि दी गई। आशा कार्यकर्ता और आशा फैसिलिटेटर्स “सरस्वती देवी अमर रहे” के नारे भी लगाये।

कटिहार में हड़ताल कर रही इन आशा कर्मियों का साथ देने के लिए भाकपा माले विधायक महबूब आलम बारसोई अनुमंडल अस्पताल पहुंचे। बिहार के अलग-अलग ज़िलों में भी भाकपा-माले के नेता व कार्यकर्ता आशा आंदोलन को सफल बनाने में जुटे हुए हैं।

आशा कार्यकर्ता और आशा फैसिलिटेटर की मांगें

आशा कर्मी व फैसिलिटेटर्स कई तरह की मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। इनमें परितोषिक 1000 रुपये की जगह मासिक मानदेय दस हज़ार रुपये देने, आशा तथा आशा फैसिलिटेटर्स को स्वास्थ्य विभाग का कर्मचारी का दर्जा, पेंशन योजना का लाभ, रिटायरमेंट बेनिफिट के रूप में एकमुश्त 10 लाख रुपये का भुगतान और कोरोना काल की बकाया राशि का भुगतान शामिल हैं।

इधर, बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ (गोप गुट- ऐक्टू) अध्यक्ष शशि यादव ने 20 जुलाई को राज्यव्यापी प्रदर्शन की सफलता को लेकर पटना जिले के खुसरूपुर, अथमल गोला, राणा बिगहा, पंडारक(बाढ़) और बख्तियारपुर पीएचसी का दौरा किया।

शशि यादव ने कहा कि आशा कर्मी के सहयोग के बिना स्वास्थ्य विभाग और ग्रामीण स्वास्थ्य का कार्य अधूरा है। सरकार के गैर संवेदनशील रवैये की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार के इस रवैये से आशा कर्मियों में भारी आक्रोश है।

“हड़ताल में आशा कर्मियों की व्यापकता व आक्रमकता और तेज हो गई है। राज्य के 500 से ज्यादा पीएचसी पर हो रहे प्रदर्शन में आशा कर्मी और आशा फैसिलिटेटर्स शत प्रतिशत संख्या में भाग ले रही हैं,” उन्होंने कहा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Aaquil Jawed is the founder of The Loudspeaker Group, known for organising Open Mic events and news related activities in Seemanchal area, primarily in Katihar district of Bihar. He writes on issues in and around his village.

Related News

“अवैध नर्सिंग होम के खिलाफ जल्द होगी कार्रवाई”, किशनगंज में बोले स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव

किशनगंज: कोरोना काल में बना सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट महीनों से बंद

अररिया: थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चों के लिए पर्याप्त खून उपलब्ध नहीं

पूर्णियाः नॉर्मल डिलीवरी के मांगे 20 हजार रुपये, नहीं देने पर अस्पताल ने बनाया प्रसूता को बंधक

पटना के IGIMS में मुफ्त दवाई और इलाज, बिहार सरकार का फैसला

दो डाक्टर के भरोसे चल रहा मनिहारी अनुमंडल अस्पताल

पूर्णिया में अपेंडिक्स के ऑपरेशन की जगह से निकलने लगा मल मूत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार