Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

चाकुलिया में लगाया गया सैनेटरी नैपकिन यूनिट

मौके पर मौजूद इस्लामपुर सदर संचालक मोहम्मद अब्दुल हमीद ने बताया कि यह पूरे उत्तर दिनाजपुर में पहली सैनेटरी नैपकिन बनाने की यूनिट है, सफलतापूर्वक कार्य कर रही है। आसपास के ज़िलों में भी कहीं ऐसी यूनिट मौजूद नहीं है। इसे शुरू करने का मुख्य उद्देश्य SHG की महिला सदस्यों को रोज़गार देना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है।

isare jamil akhtar Reported By Isare Jamil Akhtar |
Published On :

गुरुवार को पश्चिम बंगाल के चाकुलिया में महिलाओं को सशक्त करने की एक और पहल की गयी है, जिससे महिलाओं को रोज़गार मिलेगा और वो आर्थिक रूप से मज़बूत बनेंगी।

दरअसल, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के सत्ता में आने के बाद से महिलाओं को आत्मनिर्भर करने के लिए कई परियोजनाएं लायी जा चुकी हैं। इस बार राज्य सरकार ने सेल्फ हेल्प ग्रुप यानी स्वयं सहायता समूह महिला दल के लिए रोज़गार के अवसर खोले हैं। गुरुवार 15 मार्च को इस्लामपुर सदर संचालक मोहम्मद अब्दुल हमीद और चाकुलिया के विधायक मिनहाजुल आरफीन आजाद द्वारा चाकुलिया कर्म तीर्थ का उद्घाटन किया गया। यह एक ऐसा भवन है जिसमें स्वयं सहायता दल की महिलाएं मशीनों द्वारा सैनेटरी पैड बनाएंगी। महिलाओं द्वारा बनाये गए ये पैड इलाक़े के सरकारी अस्पतालों और बाज़ारों में सप्लाई किये जायेंगे, जिससे इस सेंटर में काम करने वाली महिलाओं को रोज़गार का एक स्थायी साधन मिलेगा और आमदनी भी बढ़ेगी।

मौके पर मौजूद इस्लामपुर सदर संचालक मोहम्मद अब्दुल हमीद ने बताया कि यह पूरे उत्तर दिनाजपुर में पहली सैनेटरी नैपकिन बनाने की यूनिट है, सफलतापूर्वक कार्य कर रही है। आसपास के ज़िलों में भी कहीं ऐसी यूनिट मौजूद नहीं है। इसे शुरू करने का मुख्य उद्देश्य SHG की महिला सदस्यों को रोज़गार देना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है।


इस सेंटर में 2 प्रकार के सैनेटरी नैपकिन बनाये जायेंगे, एक का नाम है ‘कुलिक साथी’ दूसरा है ‘दिया’। दिया लोकल हॉस्पिटल्स में सप्लाई किया जाएगा जबकि कुलिक साथी को रिटेल मार्केट में बेचा जाएगा।

वहीं चाकुलिया के विधायक मिनहाजुल आरफीन आजाद ने कहा कि ये पश्चिम बंगाल सरकार की एक पहल है। अक़्सर देखा जाता है कि गाँव देहात की मां-बहनों के बीच माहवारी स्वच्छता को लेकर जागरूकता नहीं होने के कारण वे माहवारी के दौरान सैनेटरी नैपकिन के बजाय घर के गंदे कपड़ों का इस्तेमाल करती हैं, जिससे इन्फेक्शन का भी खतरा रहता है, इसीलिए सैनेटरी नैपकिन का प्रचार ज़रूरी है।

Also Read Story

किशनगंज में बग़ैर सीजर के महिला ने 5 बच्चों को दिया जन्म, मां और बच्चे स्वस्थ

सरकारी योजनाओं से क्यों वंचित हैं बिहार के कुष्ठ रोगी

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को कैंसर, नहीं करेंगे चुनाव प्रचार

अररिया: टीका लगाने के बाद डेढ़ माह की बच्ची की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

अररिया: स्कूल में मध्याह्न भोजन खाने से 40 बच्चों की हालत बिगड़ी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना को लेकर की उच्चस्तरीय बैठक

बिहार में कोरोना के 2 मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सतर्क

कटिहार: आशा दिवस पर बैठक बुलाकर खुद नहीं आए प्रबंधक, घंटों बैठी रहीं आशा कर्मियां

“अवैध नर्सिंग होम के खिलाफ जल्द होगी कार्रवाई”, किशनगंज में बोले स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Isare Jamil Akhtar is a graduate from Samsi College under University of Gour Banga. He has two years of experience in doing ground reports from Uttar Dinajpur district of West Bengal.

Related News

किशनगंज: कोरोना काल में बना सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट महीनों से बंद

अररिया: थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चों के लिए पर्याप्त खून उपलब्ध नहीं

पूर्णियाः नॉर्मल डिलीवरी के मांगे 20 हजार रुपये, नहीं देने पर अस्पताल ने बनाया प्रसूता को बंधक

पटना के IGIMS में मुफ्त दवाई और इलाज, बिहार सरकार का फैसला

दो डाक्टर के भरोसे चल रहा मनिहारी अनुमंडल अस्पताल

पूर्णिया में अपेंडिक्स के ऑपरेशन की जगह से निकलने लगा मल मूत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

अररिया में भाजपा नेता की संदिग्ध मौत, 9 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली

अररिया में क्यों भरभरा कर गिर गया निर्माणाधीन पुल- ग्राउंड रिपोर्ट

“इतना बड़ा हादसा हुआ, हमलोग क़ुर्बानी कैसे करते” – कंचनजंघा एक्सप्रेस रेल हादसा स्थल के ग्रामीण

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद