Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिहार में हुई नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस रेल दुर्घटना में मृत और घायल यात्री किस राज्य के हैं?

मृतकों की पहचान असम की उषा भंडारी (33 वर्ष) और आकृति भंडारी (8 वर्ष), बिहार के किशनगंज ज़िले के अबू ज़ैद (27 वर्ष) और राजस्थान के नरेंद्र कुमार (36 वर्ष) के रूप में हुई है।

Tanzil Asif is founder and CEO of Main Media Reported By Tanzil Asif |
Published On :

बिहार के रघुनाथपुर, बक्सर में हुई रेल दुर्घटना में कुल चार लोगों की मृत्यु हुई है और 77 घायल हैं। इस बात की पुष्टि बिहार सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग ने अपने प्रेस रिलीज़ में की है।

बुधवार की रात दिल्ली के आनंद विहार टर्मिनल से चलकर कामाख्या जाने वाली गाड़ी संख्या 12506 नॉर्थ ईस्ट एक्सप्रेस पटरी से उतर गई थी और तीन बोगी पलट गई थी।

Also Read Story

अररिया: पुलिस की गाड़ी पर बैठ रील बनाने वाले दो युवक गिरफ्तार

किशनगंज: शिक्षिका से 3 लाख रुपये लूटने वालों के घर छापेमारी में ढाई लाख बरामद, दो आरोपी फरार

BPSC TRE-3 के 15 मार्च की परीक्षा रद्द होने की संभावना, पुलिस ने किया पेपर लीक और सॉल्वर गैंग का पर्दाफाश, पांच गिरफ्तार

बिहार सरकार ने महंगाई भत्ते में किया इज़ाफ़ा, सरकारी पेंशन लेने वालों को मिली राहत

BPSC TRE-3 के पेपर लीक होने की आशंका, 300 परीक्षार्थी पुलिस हिरासत में

आजमनगर डकैती कांड का उद्भेदन, सोने के घड़े के लालच में आए थे डकैत

किशनगंज में एएसआई ने होमगार्ड जवान से की हाथापाई, जवानों ने की कार्रवाई की मांग

बिहार में बड़े स्तर पर बीडीओ का ट्रांसफर, मो. आसिफ बने किशनगंज के पोठिया प्रखंड के नये बीडीओ

ओडिशा से आया था नीरज पासवान हत्याकांड का शूटर, कटिहार एसपी ने और क्या क्या बताया

मृतकों की पहचान असम की उषा भंडारी (33 वर्ष) और आकृति भंडारी (8 वर्ष), बिहार के किशनगंज ज़िले के अबू ज़ैद (27 वर्ष) और राजस्थान के नरेंद्र कुमार (36 वर्ष) के रूप में हुई है।


वहीं, घायलों में बिहार के 26, पश्चिम बंगाल के 23, उत्तर प्रदेश के 10, असम के 5, हरियाणा के 2, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर, मध्य प्रदेश और त्रिपुरा से 1-1 लोग शामिल हैं। अन्य 7 लोग किस राज्य से हैं, यह पता लगाया जा रहा है।

गुरुवार की सुबह बिहार के आपदा प्रबंधन मंत्री शाहनवाज़ ने पटना AIIMS में घायलों से मुलाक़ात की। उन्होंने ‘मैं मीडिया’ को बताया कि मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख की राशि दी गई है। घायलों के इलाज का खर्च सरकार उठा रही है। ज़्यादातर घायल डिस्चार्ज हो चुके हैं। 12 घायल फिलहाल AIIMS में इलाजरत हैं। एक महिला को स्पाइनल चोट है।

bihar disaster management minister shahnawaz with an accident victim

उन्होंने आगे कहा कि सुरक्षित लोगों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया जा रहा है।

रेल प्रशासन द्वारा इस घटना में मृत यात्रियों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और दुर्घटना में घायल यात्रियों को 50-50 हजार रुपये दिये गये।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

तंजील आसिफ एक मल्टीमीडिया पत्रकार-सह-उद्यमी हैं। वह 'मैं मीडिया' के संस्थापक और सीईओ हैं। समय-समय पर अन्य प्रकाशनों के लिए भी सीमांचल से ख़बरें लिखते रहे हैं। उनकी ख़बरें The Wire, The Quint, Outlook Magazine, Two Circles, the Milli Gazette आदि में छप चुकी हैं। तंज़ील एक Josh Talks स्पीकर, एक इंजीनियर और एक पार्ट टाइम कवि भी हैं। उन्होंने दिल्ली के भारतीय जन संचार संस्थान (IIMC) से मीडिया की पढ़ाई और जामिआ मिलिया इस्लामिआ से B.Tech की पढ़ाई की है।

Related News

सागर कुमार बने किशनगंज के नए एसपी, मनेश कुमार कटिहार के नये डीएम

बिहार: महागठबंधन सरकार में निकली सुरक्षा प्रहरी वैकेंसी को एनडीए सरकार ने किया रद्द

अररिया: साहित्यकार फणीश्वरनाथ रेणु की 103वीं जयंती पर विभिन्न कार्यक्रम का आयोजन

केके पाठक की शिक्षा विभाग से छुट्टी, केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जायेंगे पाठक

शराबबंदी कानून की धज्जियां उड़ा रहे पुलिस और आबकारी पदाधिकारी

कटिहार जिले के पांच ओपी को मिला थाने का दर्जा

किशनगंज के डे मार्केट सब्जी मंडी को हटाये जाने के विरोध में सब्जी विक्रेता हड़ताल पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?