Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

Raiganj Lok Sabha Seat: भाजपा के कार्तिक पॉल, तृणमूल के कृष्ण कल्याणी या कांग्रेस के विक्टर?

रायगंज लोकसभा सीट पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले की सात विधानसभा सीटों से मिलकर बना है। रायगंज शहर उत्तर दिनाजपुर का जिला मुख्यालय है। रायगंज लोकसभा सीट कांग्रेस और CPM का गढ़ रही है। इस लोकसभा सीट के इतिहास में अब तक दो बार ही ऐसा हुआ है कि यह सीट कांग्रेस या CPM के अलावा किसी और पार्टी की हुई है।

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

देश में लोकसभा चुनाव-2024 का बिगुल बज चुका है। चुनाव के तारीखों की घोषणा होते ही सभी राजनीतिक दलों ने अपनी कमर कस ली है। देश के कई सीटों के लिये प्रमुख दलों ने अपनी उम्मीदवारों के लिस्ट जारी कर दी है।

पश्चिम बंगाल के रायगंज सीट के लिये भी मुख्य दलों ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है।

बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने कृष्ण कल्याणी को रायगंज लोकसभा सीट के लिये अपना कैंडिडेट बनया है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने कार्तिक पॉल को अपना उम्मीदवार बनाया है।


अली इमरान रम्ज़ विक्टर इस सीट पर कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। बताते चलें कि अली इमरान कांग्रेस और लेफ्ट के साझा कैंडिडेट हैं।

कांग्रेस और CPM का गढ़ रहा है यह सीट

रायगंज लोकसभा सीट पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले की सात विधानसभा सीटों से मिलकर बना है। रायगंज शहर उत्तर दिनाजपुर का जिला मुख्यालय है। बताते चलें कि उत्तर दिनाजपुर ज़िले का चोपड़ा विधानसभा सीट दार्जिलिंग लोकसभा क्षेत्र का और इटहार विधानसभा बालुरघाट लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा है।

रायगंज लोकसभा सीट कांग्रेस और CPM का गढ़ रही है। इस लोकसभा सीट के इतिहास में अब तक दो बार ही ऐसा हुआ है कि यह सीट कांग्रेस या CPM के अलावा किसी और पार्टी की हुई है।

1977 को लोकसभा चुनाव में भारतीय लोक दल के मो. हिदायत अली और 2019 लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के देबाश्री चौधरी यहां से जीतने में सफल रहे हैं।

वर्तमान में रायगंज लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत आने वाली सभी सात विधानसभा सीटों रायगंज, इस्लामपुर, ग्वालपोखर, चाकुलिया, करणदिघी, हेमताबाद व कालियागंज पर तृणमूल कांग्रेस का कब्ज़ा है।

हालांकि, वर्ष 2021 में हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में रायगंज और कालियागंज विधानसभा सीटों पर भाजपा की जीत हुई थी, लेकिन दोनों ही विधायक कृष्ण कल्लाणी और सौमेन रॉय कुछ दिनों बाद ही भाजपा छोड़ तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। फिलहाल, सौमेन रॉय वापस भाजपा में शामिल हो गए हैं।

2011 की जनगणना के अनुसार, उत्तर दिनाजपूर की आबादी तीस लाख से अधिक है। इनमें हिंदू और मुस्लिम आबादी तक़रीबन 50-50 फीसद है। वहीं, अनुसूचित जाति (SC) की आबादी 26.9% और अनुसूचित जनजाति (ST) की आबादी 5.4% है।

कांग्रेस उम्मीदवार अली इमरान रम्ज़

रायगंज लोकसभा सीट पर कांग्रेस+लेफ्ट के उम्मीदवार अली इमरान रम्ज़ विक्टर हैं। अली इमरान चाकुलिया विधानसभा सीट से दो बार और ग्वालपोखर सीट से एक बार (2009 का उपचुनाव) विधायक रहे हैं। उनका संबंध एक राजनैतिक परिवार से है। उनके पिता मो. रमजान अली और चाचा हाफिज़ आलम सैरानी भी ग्वालपोखर सीट से MLA रह चुके हैं।

अली इमरान पहली बार 2009 में ग्वालपोखर से विधानसभा का उप चुनाव लड़े थे। यह सीट तत्कालीन विधायक दीपा दासमुंशी के रायगंज लोकसभा क्षेत्र से सांसद बन जाने से खाली हुई थी। चुनाव में फॉरवर्ड ब्लॉक की टिकट पर लड़ते हुए अली इमरान ने कांग्रेस के मो. ग़ुलाम रब्बानी को हराया था।

परिसीमन के बाद चाकुलिया एक अलग विधानसभा क्षेत्र बना। 2011 के बंगाल विधानसभा चुनाव में पहली बार चाकुलिया सीट पर चुनाव हुआ। एक बार फिर फॉरवर्ड ब्लॉक की टिकट पर लड़ते हुए अली इमरान ने कांग्रेस के सिराजुल आलम को शिकस्त दी।

2016 विधानसभा चुनाव में अली इमरान रम्ज़ फॉरवर्ड ब्लॉक की टिकट पर ही चाकुलिया से विधायक चुने गये। अली इमरान को 64,185 वोट मिले थे और उन्होंने बीजेपी को आशिम कुमार मृधा को 27,529 वोटों से शिकस्त दी थी। वहीं, टीएमसी के आलेमा नूरी 36,198 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर थी।

Also Read Story

सुपौल की सामान्य सीट से दलित उम्मीदवार लगा पाएगा राजद का बेड़ा पार?

बांका लोकसभा सीट: सांसद गिरधारी यादव के सामने पूर्व सांसद जयप्रकाश नारायण यादव की चुनौती

बिहार : राजद ने प्रत्याशियों की सूची जारी की, लालू की दो बेटियां चुनाव मैदान में उतरीं

पूर्णिया: राजद प्रत्याशी बीमा भारती ने निर्दलीय पप्पू यादव को बताया बीजेपी का एजेंट

कटिहार: पूर्व विधायक हिमराज सिंह ने नामांकन लिया वापस, जदयू को करेंगे समर्थन

Purnea Lok Sabha Seat: जदयू के संतोष कुशवाहा, राजद की बीमा भारती या निर्दलीय पप्पू यादव?

कटिहार से कांग्रेस प्रत्याशी तारिक अनवर का इंटरव्यू: क्या छठी बार पहुंच पाएंगे लोकसभा?

Katihar Lok Sabha Seat: दूसरी बार जीतेंगे जदयू के दुलाल या छठवीं बार लोकसभा पहुंचेंगे कांग्रेस के तारिक़?

किशनगंज लोकसभा सीट से 15 प्रत्याशियों के नामांकन स्वीकृत, इनमें से 10 उम्मीदवार निर्दलीय

2021 में भी अली इमरान ने चाकुलिया से चुनाव लड़ा। हालांकि, इस चुनाव में उनको हार का सामना करना पड़ा और वह 28,704 वोट लाकर तीसरे स्थान पर रहे। चुनाव में टीएमसी उम्मीदवार आज़ाद मिनहाजुल आरफीन को जीत मिली और बीजेपी उम्मीदवार सचिन प्रसाद दूसरे स्थान पर रहे थे। विधानसभा चुनाव हारने के बाद अली इमरान रम्ज़ फॉरवर्ड ब्लॉक छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हो गए।

अली इमरान के पिता मो. रमज़ान अली रायगंज लोकसभा क्षेत्र अंतर्गत ग्वालपोखर सीट से 1977-1996 तक लगातार चार बार MLA रहे। वहीं, अली इमरान के चाचा हाफिज़ आलम सैरानी ग्वालपोखर सीट से ही 1996-2006 तक लगातार दो टर्म MLA रहे।

टीएमसी प्रत्याशी कृष्ण कल्याणी

लोकसभा चुनाव-2024 के लिये रायगंज से टीएमसी (TMC) candidate कृष्ण कल्याणी हैं। वह पेशे से एक बिज़नेसमैन हैं।

2021 बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की टिकट पर वह पहली बार रायगंज विधानसभा सीट से चुनाव लड़े, जिसमें उनको जीत हासिल हुई।

चुनाव में कृष्ण कल्याणी को 79,775 वोट मिले थे और उन्होंने TMC candidate कन्हैया लाल अग्रवाल को 20,748 वोटों से हराया था। लेकिन, कुछ दिनों बाद ही भाजपा छोड़कर वह TMC में शामिल हो गए।

BJP कैंडिडेट कार्तिक पॉल

रायगंज लोकसभा सीट पर लोकसभा चुनाव-2024 के लिये BJP के कैंडिडेट कार्तिक पॉल हैं। 2019 में यहाँ से भाजपा की देबाश्री चौधरी जीती थीं, लेकिन इस बार भाजपा ने लोकल उम्मीदवार उतारा है। रायगंज के वर्तमान सांसद देबाश्री चौधरी को भाजपा ने इस बार कोलकाता दक्षिण सीट से टिकट दिया है।

कार्तिक पॉल कालियागंज नगर पालिका (Kaliaganj Municipality) के अध्यक्ष रह चुके हैं। वह फिलहाल वार्ड नंबर 8 से काउंसिलर हैं। कार्तिक कुछ साल पहले ही TMC से भाजपा में आये हैं।

2019 का लोकसभा चुनाव

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की देबाश्री चौधरी ने रायगंज सीट पर तृणमूल कांग्रेस के कन्हैया लाल अग्रवाल को 60,574 वोटों से हराया था।

इस चुनाव में भाजपा को 5,11,652 और तृणमूल कांग्रेस को 4,51,078 वोट मिले। वहीं, CPM के मोहम्मद सलीम को 1,82,035 और कांग्रेस की दीपा दासमुंशी को मात्र 83,662 वोट मिले।

विधानसभा वार कैंडिडेट्स को प्राप्त वोट

2019 के लोकसभा चुनाव में रायगंज सीट से भले ही बीजेपी के उम्मीदवार देबाश्री चौधरी ने जीत दर्ज की हो, लेकिन लोकसभा क्षेत्र के तीन विधानसभा इस्लामपूर, ग्वालपोखर और चाकुलिया में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार कन्हैया लाल अग्रवाल को अधिक वोट मिले थे।

रायगंज के इस्लामपूर विधानसभा में सबसे ज्यादा वोट टीएमसी उम्मीदवार कन्हैया लाल अग्रवाल को मिले। चुनाव में कन्हैया लाल को 60,976 वोट हासिल हुए थे।

वहीं, इस्लामपूर में बीजेपी उम्मीदवार देवश्री चौधरी को 56,531 वोट और कांग्रेस उम्मीदवार दीपादास मुंशी को 6,439 और सीपीएम के मो. सलीम को 30,479 वोट प्राप्त हुए थे।

इसी तरह ग्वालपोखर विधानसभा में भी टीएमसी उम्मीदवार का दबदबा था। यहां से टीएमसी के कन्हैया लाल को 79,682 मत मिले थे। वहीं, भाजपा को 31,441, कांग्रेस को 10,709 और सीपीएम को 30,078 वोट मिले थे।

साथ ही, चाकुलिया विधानसभा में भी टीएमसी उम्मीदवार का पलड़ा भारी था। चाकुलिया में टीएमसी को 59,129 वोट मिले थे। वहीं, भाजपा को 51,304, कांग्रेस को 7,352 और सीपीएम को 40,348 वोट प्राप्त हुए।

चार विधानसभा में बीजेपी का पलड़ा था भारी

लोकसभा चुनाव-2019 में रायगंज सीट के चार विधानसभा करणदिघी, हेमताबाद, कालियागंज और रायगंज में बीजेपी को अधिक वोट मिले थे। इन्हीं चारों विधानसभा में मिली बढ़त से बीजेपी रायगंज से जीतने में सफल रही थी।

करणदिघी में बीजेपी को 82,009, टीएमसी को 66,045, कांग्रेस को 12,703 और सीपीएम को 30,488 मत प्राप्त हुए।

इसी प्रकार, हेमताबाद में बीजेपी 85,738, टीएमसी 79,562, सीपीएम 19,248 और कांग्रेस 17,941 वोट लाने में सफल रही।

कालियागंज में बीजेपी 1,18,895 वोटों के साथ पहले स्थान पर, टीएमसी 62,133 वोटों के साथ दूसरे स्थान पर, सीपीएम 19,240 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर और कांग्रेस 18,561 वोट लाकर चौथे स्थान पर थी।

रायगंज विधानसभा में बीजेपी को 83,944, टीएमसी को 41,742, सीपीएम को 11,429 और कांग्रेस को 9,755 वोट मिले थे।

लोकसभा क्षेत्र की प्रमुख समस्याएं और मांग

उत्तर दिनाजपूर जिले में दो सब डिवीज़न हैं- रायगंज और इस्लामपुर। इस्लामपुर सब डिवीज़न को लंबे समय से एक नया जिला बनाने की मांग लोग कर रहे हैं। इसको लेकर वहां के लोगों ने कई बार आन्दोलन भी किया है। हालांकि, इस्लामपुर अब तक एक अलग जिला नहीं बना है।

रायगंज से कटिहार के बारसोई तक सड़क का निर्माण, इस्लामपुर में नए कॉलेज, इटहार को रेल कनेक्टिविटी से जोड़ना, रायगंज टाउन में रेल ओवर ब्रिज का निर्माण, रायगंज के राधिकापूर से नई दिल्ली के बीच नई ट्रेन की शुरूआत और इस्लामपुर में एम्स अस्पताल का निर्माण यहां के लोगों की मुख्य मांगें हैं।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

बिहार: महागठबंधन में शामिल हुई मुकेश साहनी की VIP, राजद ने दिए अपने तीन सीट

नीतीश के मंत्री महेश्वर हजारी के पुत्र सन्नी कांग्रेस में शामिल, समस्तीपुर से लड़ सकते हैं चुनाव

Kishanganj Lok Sabha Seat: कांग्रेस के डॉ. मो. जावेद, जदयू के मास्टर मुजाहिद या फिर AIMIM के अख्तरुल ईमान?

देश में जाति आधारित गणना, 30 लाख नौकरी, गरीब परिवारों को 1 लाख रुपये, जानिये कांग्रेस के घोषणा पत्र के बड़े वादे

हम लोगों के आने के बाद बिहार में हिंदू-मुस्लिम झगड़ा बंद हो गया: नीतीश कुमार

पूर्णिया: पप्पू यादव-बीमा भारती के बाद संतोष कुशवाहा ने भी की उदय सिंह से मुलाक़ात

Nawada Lok Sabha Seat: BJP के विवेक ठाकुर का मुक़ाबला राजद के श्रवण कुशवाहा से, राजद के बाग़ी बिगाड़ेंगे खेल?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला