Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिहार स्वास्थ्य विभाग से ‘मिशन परिवर्तन’ का आगाज

डिप्टी सीएम सह स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने स्वास्थ्य विभाग को बेहतर करने के लिए ‘मिशन परिवर्तन’ की शुरुआत की है। इसको लेकर पटना के ज्ञान भवन में तेजस्वी यादव ने बड़े पैमाने पर मीटिंग की।

Navin Kumar Reported By Navin Kumar |
Published On :

डिप्टी सीएम सह स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी यादव ने स्वास्थ्य विभाग को बेहतर करने के लिए ‘मिशन परिवर्तन’ की शुरुआत की है। इसको लेकर पटना के ज्ञान भवन में तेजस्वी यादव ने बड़े पैमाने पर मीटिंग की।

डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव स्वास्थ्य विभाग को दुरुस्त करने की दिशा में जुट गए हैं। स्वास्थ्य विभाग में ‘मिशन 60’ शुरू करने के बाद ‘मिशन परिवर्तन’ के आगाज को लेकर स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को विशेष निर्देश दिया गया है।

Also Read Story

किशनगंज में बग़ैर सीजर के महिला ने 5 बच्चों को दिया जन्म, मां और बच्चे स्वस्थ

सरकारी योजनाओं से क्यों वंचित हैं बिहार के कुष्ठ रोगी

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को कैंसर, नहीं करेंगे चुनाव प्रचार

अररिया: टीका लगाने के बाद डेढ़ माह की बच्ची की मौत, अस्पताल में परिजनों का हंगामा

चाकुलिया में लगाया गया सैनेटरी नैपकिन यूनिट

अररिया: स्कूल में मध्याह्न भोजन खाने से 40 बच्चों की हालत बिगड़ी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना को लेकर की उच्चस्तरीय बैठक

बिहार में कोरोना के 2 मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सतर्क

कटिहार: आशा दिवस पर बैठक बुलाकर खुद नहीं आए प्रबंधक, घंटों बैठी रहीं आशा कर्मियां

मीटिंग को लेकर तेजस्वी यादव ने ट्वीट किया, ‘प्रत्येक जिले से आए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ ज्ञान भवन में समीक्षात्मक बैठक की। सदर अस्पतालों में मिशन-60 की सफलता के बाद अब मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों के लिए ‘मिशन परिवर्तन’ कार्यक्रम की शुरुआत की गई है।’


उन्होंने आगे लिखा, “मिशन परिवर्तन के पर्यवेक्षण के लिए विभाग स्तर से टीम का गठन कर प्रतिदिन किए जा रहे कार्यों से संबंधित प्रतिवेदन प्राप्त करेंगे। औचक निरीक्षण कर किए जा रहे कार्यों में गुणात्मक सुधार के साथ-साथ आमजन को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए संबंधित पदाधिकारियों के साथ कार्य योजना को अमलीजामा पहनाने में अपना योगदान देंगे। साथ ही इस संबंधित प्रगति प्रतिवेदन से विभाग को अवगत कराते रहेंगे।”

इन बातों का दिया गया निर्देश

पिछले कुछ दिनों में तेजस्वी यादव ने कई अस्पतालों का औचक निरीक्षण किया है। औचक निरीक्षण के दौरान मिल रही शिकायतों को ध्यान में रखते हुए अस्पतालों में सुधार के के लिए बैठक की गई।

बैठक के दौरान अधिकारियों को रेफरल पॉलिसी का सख्ती से पालन करने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि अधीक्षक, प्राचार्य और संबंधित अधिकारियों का प्रशासकीय और अच्छे व्यवहार के लिए स्पेशल प्रशिक्षण कराया जाए। कर्मियों और पदाधिकारियों का वेतन उपस्थिति के अनुसार भुगतान किया जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि अस्पतालों में मरीज को जांच और दवा की सुविधा 24×7 तक उपलब्ध होनी चाहिए। मरीजों का जन्म और मृत्य प्रमाणपत्र जल्द से जल्द निर्गत किया जाए। पोस्टमार्टम की सुविधा मरीजों को निशुल्क और सुगम तरीके से उपलब्ध कराया जाए।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवीन कुमार बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के रहने वाले हूं। आईआईएमएससी दिल्ली से पत्रकारिता की पढ़ाई की है। अभी स्वतंत्र पत्रकारिता करते हैं। सामाजिक विषयों में रुचि है। बिहार को जानने और समझने की निरंतर कोशिश जारी है।

Related News

“अवैध नर्सिंग होम के खिलाफ जल्द होगी कार्रवाई”, किशनगंज में बोले स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव

किशनगंज: कोरोना काल में बना सदर अस्पताल का ऑक्सीजन प्लांट महीनों से बंद

अररिया: थैलेसीमिया से पीड़ित बच्चों के लिए पर्याप्त खून उपलब्ध नहीं

पूर्णियाः नॉर्मल डिलीवरी के मांगे 20 हजार रुपये, नहीं देने पर अस्पताल ने बनाया प्रसूता को बंधक

पटना के IGIMS में मुफ्त दवाई और इलाज, बिहार सरकार का फैसला

दो डाक्टर के भरोसे चल रहा मनिहारी अनुमंडल अस्पताल

पूर्णिया में अपेंडिक्स के ऑपरेशन की जगह से निकलने लगा मल मूत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार