Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

अररिया: एक महीने से लगातार इस गांव में लग रही आग, 100 से अधिक घर जलकर राख

अररिया ज़िले के एक गाँव इन दिनों निरन्तर हो रही आगजनी की घटनाओं से परेशान है। ज़िले की बटुरबाड़ी पंचायत अंतर्गत झौआ गांव में लगातार आग लगने की घटना सामने आ रही है।

ved prakash Reported By Ved Prakash | Araria |
Published On :

बिहार के अररिया ज़िले के एक गाँव इन दिनों निरन्तर हो रही आगजनी की घटनाओं से परेशान है। ज़िले की बटुरबाड़ी पंचायत अंतर्गत झौआ गांव में लगातार आग लगने की घटना सामने आ रही है। पिछले करीब एक महीने में 100 से अधिक घर जलकर राख हो गए हैं। लेकिन ग्रामीण इसकी वजह समझ पाने में असमर्थ हैं।

अगलगी की शुरुआत 30 नवंबर को हुई थी, जब दिन के समय झौआ वार्ड संख्या पांच के एक घर में आग लग गई। देखते ही देखते कुछ ही मिनटों में आग ने विकराल रूप ले लिया और एक ही परिवार के छह घर जलकर पूरी तरह राख हो गए। इस अगलगी की घटना में घर में रखा अनाज, बर्तन, फर्नीचर, कपड़ा सहित सारा सामान भस्म हो गया। इसके बाद से इस गांव में लगातार आग लगने की घटना हो रही है।


बताया जा रहा है कि सबसे पहले झौआ वार्ड संख्या पांच में मोहम्मद तबरेज आलम के घर में आग लगी और इस आग ने आसपास के घरों को अपनी चपेट में ले लिया। इसके तीसरे दिन फिर उसी घर में आग लग गई, जिसे आसपास के लोगों के सहयोग से बुझाया गया। पांचवें दिन भी उसी घर में रहस्यमय तरीके से आग लग गई। तब से गांव में आग लगने का सिलसिला लगातार जारी है और हर दूसरे दिन गांव में आग लगने की घटना सामने आ रही है।

झौआ गाँव के वार्ड नंबर छह में छह दिसंबर को दिन के 1:30 बजे अचानक इमाम के जलावन घर में आग लग गई और देखते ही देखते आसपास के तमाम घरों को अपनी चपेट में ले लिया। इस घटना में एक दिन में 15 से 20 घर जल कर राख हो गए। गाँव के मोहम्मद इकराम, सरवर आलम, कय्यूम, अल्लाह नूर, मुस्तफा इत्यादि के घर पूरी तरह जल गए। आग इतनी भयानक थी कि किसी के घर से कोई सामान नहीं निकाला जा सका और सारा सामान आग की चपेट में आकर राख हो गया।

अग्निपीड़ित सरवर आलम, रुखसार और अतहर हुसैन बताते हैं, कि उनका घर जब जला सब लोग बाहर थे। घर का कोई भी सामान बचा नहीं पाए। अनाज, कपड़ा, बिस्तर, ज़मीन के कागज़ात, पहचान पत्र से लेकर बच्चों के किताब तक जल कर खत्म हो गए हैं।

कुद्दुस खेत में थे, तभी उनके घर में आग लग गई और एक ही दिन दिन गाँव के दर्जनों घर जल कर ख़ाक हो गए। कुद्दुस अब बांस से दोबारा घर बनाने की तैयारी कर रहे हैं।

ग्रामीण बताते हैं कि सारी आग की घटनाएं शाम पांच बजे से पहले दिन में ही होती हैं। इन घटनाओं को लेकर लोगों में तरह-तरह की चर्चाएं हैं। कुछ लोग इसे शैतानी हरकत बता रहे हैं, कुछ लोग खुदा का आजाब बता रहे हैं। किसी भी ग्रामीण को किसी व्यक्ति पर शक नहीं है। वे रसोई घर से आग फैलने से भी इनकार करते हैं। आधा दर्जन आलिम व मौलानाओं ने गांव पहुंचकर दुआएं मांगी हैं। लेकिन, अब तक आगलगी की वजह नहीं पता चल पाया है।

Also Read Story

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग

अररिया: सर्विस रोड क्यों नहीं हो पा रहा जाम से मुक्त

सारण शराबकांड: “सब पुलिस प्रशासन की मिलीभगत का नतीजा है”

क्या जातीय वर्चस्व का परिणाम है कटिहार हत्याकांड?

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

जिला प्रशासन की ओर से कोई सहयोग उपलब्ध नहीं कराए जाने पर लोगों में काफी आक्रोश भी देखा जा रहा है। हालांकि स्थानीय जनप्रतिनिधियों के द्वारा इस मामले की सूचना जिला प्रशासन को दी गई, जिसके बाद जिला प्रशासन के द्वारा दमकल की एक गाड़ी मदरसा फैजुल उलूम रहमानी झौआ में अस्थाई रूप से दी गई है, ताकि कहीं भी आग लगने की घटना सामने आए तो उसे समय रहते बुझाई जा सके।

स्थानीय कांग्रेस विधायक अबिदुर रहमान तीन बार गाँव का दौरा कर चुके हैं, एक बार उनके सामने ही अंग की घटना हो गई। उनके अनुसार अग्निपीड़ितों को जल्द ही मुआवजा मिल जाएगा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

अररिया में जन्मे वेद प्रकाश ने सर्वप्रथम दैनिक हिंदुस्तान कार्यालय में 2008 में फोटो भेजने का काम किया हालांकि उस वक्त पत्रकारिता से नहीं जुड़े थे। 2016 में डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में कदम रखा। सीमांचल में आने वाली बाढ़ की समस्या को लेकर मुखर रहे हैं।

Related News

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी

18 साल बाद पाकिस्तान की जेल से छूटा श्याम सुंदर दास

करोड़ों की लागत से बने रेलवे अंडर ब्रिज लोगों के लिए सिरदर्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

जर्जर भवन में जान हथेली पर रखकर पढ़ते हैं कदवा के नौनिहाल

ग्राउंड रिपोर्ट: इस दलित बस्ती के आधे लोगों को सरकारी राशन का इंतजार

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग