Thursday, October 6, 2022

मारवाड़ी कॉलेज में होगी 16 विषयों में पीजी की पढ़ाई

Must read

Main Mediahttps://mainmedia.in
This story has been done by collective effort of Main Media Team.

बिहार सरकार ने मारवाड़ी कॉलेज, किशनगंज में 16 विषयों में पीजी की पढ़ाई शुरू करने पर अपनी सहमति प्रदान कर दी है। उच्च शिक्षा विभाग के उप सचिव अरशद फिरोज़ ने पूर्णियाँ विश्वविद्यालय, पूर्णियाँ के कुलसचिव के नाम मंगलवार 30 अगस्त को चिठी जारी की है।

पत्र के अनुसार मारवाड़ी कॉलेज, किशनगंज में कला संकाय में हिंदी, अंग्रेज़ी, राजनीति शास्त्र, अर्थशास्त्र, संस्कृत, बांग्ला, पर्सियन, उर्दू, दर्शन शास्त्र, मनोविज्ञान व इतिहास एवं विज्ञान संकाय में भौतिकी, रसायनशास्त्र, जंतुविज्ञान, वनस्पतिशास्त्र व गणित में स्नातकोत्तर (पीजी) की पढ़ाई होगी। पत्र में कहा गया है कि 30 छात्रों पर एक शिक्षक की उपलब्धता के आधार पर पढ़ाई होगी।

बताते चलें कि कुलपति प्रो.(डॉ.) राज नाथ यादव ने 15 सितम्बर, 2021 को मारवाड़ी कॉलेज का निरीक्षण किया था और उसी दिन उन्होंने यहाँ पीजी की पढ़ाई शुरू करने पर अपनी सहमति व्यक्त की थी। उसके बाद वीसी ने एक टीम गठित की और इस टीम ने 15 मार्च, 2022 को कॉलेज का दौरा किया और अपनी सकारात्मक रिपोर्ट वीसी को सौंपी। विभिन्न कमिटी से पारित होने के बाद वीसी द्वारा अनुमोदित रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजी गई और 30 अगस्त को राज्य सरकार ने रिपोर्ट पर अपनी मुहर लगा दी।

मारवाड़ी कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रो.(डॉ.) संजीव कुमार ने अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि अब अल्पसंख्यक बहुल इस पिछड़े जिले के छात्रों को यहीं पीजी की पढ़ाई सुलभ होगी। उन्होंने वीसी व राज्य सरकार के प्रति आभार प्रकट किया।

marwari college

हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. सजल प्रसाद ने कहा कि उच्च शिक्षा के मामले में सीमांचल का किशनगंज जिला काफी पिछड़ा है और मारवाड़ी कॉलेज में दो दशकों से पीजी की पढ़ाई शुरू करने की मांग लंबित थी, जो अब पूरी हुई। इसका श्रेय शिक्षाविद कुलपति प्रो.आर.एन. यादव को जाता है।

अंग्रेज़ी विभागाध्यक्ष डॉ. गुलरेज़ रोशन रहमान ने कहा कि नब्बे के दशक में तीन-चार सत्र में पीजी की पढ़ाई बीएनएमयू द्वारा शुरू की गई थी। किंतु, बाद में बंद कर दी गई। अब फिर से पीजी की पढ़ाई शुरू होगी और इससे गरीब छात्र-छात्राओं को राहत मिलेगी। उन्होंने भी वीसी के प्रति आभार व्यक्त किया।

कुमार साकेत, डॉ. देबाशीष डांगर, डॉ. अश्विनी कुमार, डॉ. कसीम अख़्तर (सभी असिस्टेंट प्रोफेसर), डॉ. श्रीकांत कर्मकार, अवधेश मुखिया, संतोष कुमार, डॉ. रमेश कुमार सिंह, डॉ. अनुज कुमार मिश्रा (सभी गेस्ट फैकल्टी) सहित प्रधान लिपिक प्रबीर कृष्ण सिन्हा, अर्णव लाहिड़ी, राजकुमार, रविकांत गुंजन, रवि आदि ने भी वीसी के प्रति आभार प्रकट किया है।


Explained: बिहार में मंत्री क्यों नहीं बने लेफ्ट के विधायक?

क्या है मुख्यमंत्री फसल सहायता योजना, किसान कैसे ले सकते हैं इसका फायदा


- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

Latest article