Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

मारवाड़ी कॉलेज में होगी 16 विषयों में पीजी की पढ़ाई

Main Media Logo PNG Reported By Main Media Desk |
Published On :

बिहार सरकार ने मारवाड़ी कॉलेज, किशनगंज में 16 विषयों में पीजी की पढ़ाई शुरू करने पर अपनी सहमति प्रदान कर दी है। उच्च शिक्षा विभाग के उप सचिव अरशद फिरोज़ ने पूर्णियाँ विश्वविद्यालय, पूर्णियाँ के कुलसचिव के नाम मंगलवार 30 अगस्त को चिठी जारी की है।

पत्र के अनुसार मारवाड़ी कॉलेज, किशनगंज में कला संकाय में हिंदी, अंग्रेज़ी, राजनीति शास्त्र, अर्थशास्त्र, संस्कृत, बांग्ला, पर्सियन, उर्दू, दर्शन शास्त्र, मनोविज्ञान व इतिहास एवं विज्ञान संकाय में भौतिकी, रसायनशास्त्र, जंतुविज्ञान, वनस्पतिशास्त्र व गणित में स्नातकोत्तर (पीजी) की पढ़ाई होगी। पत्र में कहा गया है कि 30 छात्रों पर एक शिक्षक की उपलब्धता के आधार पर पढ़ाई होगी।

Also Read Story

Purnea University: स्नातक दूसरे व स्नातकोत्तर तीसरे खंड के लिए आज से भर सकेंगे फॉर्म

क्या AMU Kishanganj Campus में नियमों की अनदेखी हुई?

स्नातक तीसरे खंड की परीक्षा का औचक निरीक्षण, दो नकलची पकड़े गये

पूर्णिया विश्वविद्यालय ने बढ़ाई परीक्षा फॉर्म भरने की मियाद

पूर्णिया विश्वविद्यालय में आवेदन शुल्क की लाखों की राशि का लेखा-जोखा नहीं

पूर्णिया विश्वविद्यालय में बिहार विधान परिषद के चार सीनेट सदस्य मनोनीत

इम्पैक्ट: पीयू सेंट्रल लाइब्रेरी, सरकार व यूजीसी-इनफ्लिबनेट के बीच हुआ समझौता

Purnea University ने 23 और 24 को होनेवाली परीक्षाओं की तिथि बदली

Purnea University: पीजी में पंजीकृत आवेदकों को दाखिले का एक और अवसर

बताते चलें कि कुलपति प्रो.(डॉ.) राज नाथ यादव ने 15 सितम्बर, 2021 को मारवाड़ी कॉलेज का निरीक्षण किया था और उसी दिन उन्होंने यहाँ पीजी की पढ़ाई शुरू करने पर अपनी सहमति व्यक्त की थी। उसके बाद वीसी ने एक टीम गठित की और इस टीम ने 15 मार्च, 2022 को कॉलेज का दौरा किया और अपनी सकारात्मक रिपोर्ट वीसी को सौंपी। विभिन्न कमिटी से पारित होने के बाद वीसी द्वारा अनुमोदित रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजी गई और 30 अगस्त को राज्य सरकार ने रिपोर्ट पर अपनी मुहर लगा दी।


मारवाड़ी कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रो.(डॉ.) संजीव कुमार ने अपनी खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि अब अल्पसंख्यक बहुल इस पिछड़े जिले के छात्रों को यहीं पीजी की पढ़ाई सुलभ होगी। उन्होंने वीसी व राज्य सरकार के प्रति आभार प्रकट किया।

marwari college

हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. सजल प्रसाद ने कहा कि उच्च शिक्षा के मामले में सीमांचल का किशनगंज जिला काफी पिछड़ा है और मारवाड़ी कॉलेज में दो दशकों से पीजी की पढ़ाई शुरू करने की मांग लंबित थी, जो अब पूरी हुई। इसका श्रेय शिक्षाविद कुलपति प्रो.आर.एन. यादव को जाता है।

अंग्रेज़ी विभागाध्यक्ष डॉ. गुलरेज़ रोशन रहमान ने कहा कि नब्बे के दशक में तीन-चार सत्र में पीजी की पढ़ाई बीएनएमयू द्वारा शुरू की गई थी। किंतु, बाद में बंद कर दी गई। अब फिर से पीजी की पढ़ाई शुरू होगी और इससे गरीब छात्र-छात्राओं को राहत मिलेगी। उन्होंने भी वीसी के प्रति आभार व्यक्त किया।

कुमार साकेत, डॉ. देबाशीष डांगर, डॉ. अश्विनी कुमार, डॉ. कसीम अख़्तर (सभी असिस्टेंट प्रोफेसर), डॉ. श्रीकांत कर्मकार, अवधेश मुखिया, संतोष कुमार, डॉ. रमेश कुमार सिंह, डॉ. अनुज कुमार मिश्रा (सभी गेस्ट फैकल्टी) सहित प्रधान लिपिक प्रबीर कृष्ण सिन्हा, अर्णव लाहिड़ी, राजकुमार, रविकांत गुंजन, रवि आदि ने भी वीसी के प्रति आभार प्रकट किया है।


Explained: बिहार में मंत्री क्यों नहीं बने लेफ्ट के विधायक?

क्या है मुख्यमंत्री फसल सहायता योजना, किसान कैसे ले सकते हैं इसका फायदा


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Main Media is a hyper-local news platform covering the Seemanchal region, the four districts of Bihar – Kishanganj, Araria, Purnia, and Katihar. It is known for its deep-reported hyper-local reporting on systemic issues in Seemanchal, one of India’s most backward regions which is largely media dark.

Related News

Purnea College: पीजी तीसरे सेमेस्टर के सीआईए का संशोधित कार्यक्रम जारी

पूर्णिया विश्वविद्यालय: जीईएस विषय की परीक्षा तिथि 08 मार्च 2022 निर्धारित

पूर्णिया विश्वविद्यालय: स्नातकोत्तर पहले सेमेस्टर की सीआईए स्थगित

उच्च न्यायालय की खिंचाई के बाद पहली बार शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में कुलपतियों की बैठक

पांच महीने तक चलने वाली पूर्णिया विश्वविद्यालय अंडर ग्रेजुएट नामांकन प्रक्रिया सवालों के घेरे में

न बेंच, न ब्लैकबोर्ड, टीन के शेड में चल रहा स्कूल

अररिया के ऐतिहासिक संस्कृत महाविद्यालय का अस्तित्व खतरे में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

Ground Report

डीलरों की हड़ताल से राशन लाभुकों को नहीं मिल रहा अनाज

बिहार में क्यों हो रही खाद की किल्लत?

किशनगंज: पक्की सड़क के अभाव में नारकीय जीवन जी रहे बरचौंदी के लोग

अररिया: एक महीने से लगातार इस गांव में लग रही आग, 100 से अधिक घर जलकर राख

अररिया: सर्विस रोड क्यों नहीं हो पा रहा जाम से मुक्त