Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

बिहार में ‘पकड़ौआ विवाह’ फिर चर्चा में, दशकों पुराना है इसका इतिहास

पकड़ौआ विवाह ऐसे विवाह को कहते हैं, जिसमें लड़के और लड़की की सहमति के बिना दोनों की शादी करा दी जाती है। ऐसे विवाह में लड़कों को बंधक बना कर दूल्हा बना दिया जाता है और रीति-रिवाज के साथ लड़की से विवाह करवा दिया जाता है।

syed jaffer imam Reported By Syed Jaffer Imam |
Published On :

देश में इन दिनों पकड़ौआ विवाह फिर चर्चा में है। वजह है बिहार के वैशाली जिले का वह मामला जिसमें एक सरकारी शिक्षक पकड़ौआ विवाह का शिकार हुआ। पीड़ित गौतम कुमार ने कुछ दिनों पहले ही बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा कराई गई बिहार शिक्षक परीक्षा में सफलता हासिल कर सरकारी नौकरी हासिल की थी।

बिहार में पकड़ौआ विवाह का चलन कोई आज की बात नहीं है, बल्कि इसका इतिहास कई वर्षों पुराना है।

बता दें कि राज्य में इस विवाह के बाद कई ऐसे जोड़े हैं जो सफल वैवाहिक जीवन गुजार रहे हैं, वहीं, दूसरी तरफ़ कई पकड़ौआ विवाह टूट भी चुके हैं।


पकड़ौआ विवाह ऐसे विवाह को कहते हैं, जिसमें लड़के और लड़की की सहमति के बिना दोनों की शादी करा दी जाती है। ऐसे विवाह में लड़कों को बंधक बना कर दूल्हा बना दिया जाता है और रीति-रिवाज के साथ लड़की से विवाह करवा दिया जाता है।

पकड़ौआ विवाह के विरोध में पटना उच्च न्यायालय ने एक निर्णय सुनाया था, लेकिन धरातल पर अब तक इस कुप्रथा का अंत नहीं हो सका है ।

Also Read Story

बीएसएफ और डीआरआई की कार्रवाई में सोना समेत लगभग डेढ़ करोड़ रुपये का सामान ज़ब्त

पूर्णिया सांसद पप्पू यादव पर फर्नीचर व्यवसायी से रंगदारी मांगने का आरोप, मामला दर्ज

किशनगंज: सिक्किम से आई युवती से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में दो गिरफ्तार  

कटिहार में फर्जी प्रशिक्षु डीएसपी बनकर ठगने वाले दो युवक गिरफ्तार

कटिहार: फर्जी साइबर एसपी बनकर महिलाओं की अश्लील वीडियो बनाने के आरोप में व्यक्ति गिरफ्तार

सीएसपी संचालक की गला रेतकर हत्या, लोगों ने शव को सड़क पर रख किया प्रदर्शन

अररिया: ट्रैक्टर ने ई-रिक्शा को मारी टक्कर, दो की मौत, सात घायल

किशनगंज: पिता पर अपनी नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म का आरोप, मां ने की इंसाफ की मांग

कटिहार: फ्लिपकार्ट से बड़ी संख्या में मोबाइल ऑर्डर कर गोदाम से करता था चोरी, पुलिस ने दबोचा

1970 और 80 के दौर में बिहार में इस तरह की जबरन शादियां काफ़ी होती थीं। बेगूसराय, लखीसराय, मुंगेर, जहानाबाद, और नवादा जैसे शहरों में पकड़ौआ विवाह सबसे अधिक प्रचलन में रहा है ।

आंकड़ों के अनुसार, पुलिस ने पिछले एक साल में पकड़ौआ विवाह से जुड़े दो से तीन हज़ार मामले दर्ज किए हैं । इनमें से कुछ प्रेम प्रसंग के भी मामले देखने को मिले ।

माना जाता है कि घर वालों के लिए दहेज नहीं दे पाना पकड़ौआ विवाह का मुख्य कारण होता है। दहेज देने में असक्षम लोग नौकरीपेशा लड़कों से अपनी बेटियों की शादी नहीं करा पाते थे। ऐसे में पकड़ौआ विवाह जैसे चलन की शुरूआत हो गई । समाज के बुज़ुर्गों की मानें, तो कुछ वर्षों पहले पकड़ौआ विवाह सामाजिक पहल से किए जाते थे। धीरे धीरे बाहुबली और अपराधी गिरोह के लोग इस तरह की जबरन शादियां कराने लगे। बताया जाता है कि 1990 आते आते पकड़ौआ विवाह का प्रचलन पूरी तरह अपराधियों के चंगुल में आ गया।

अन्नू कुमारी बिहार के गोपालगंज जिले की रहने वाली हैं और वह बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में समाजशास्त्र की शोधार्थी हैं। उन्होंने कहा कि पकड़ौआ विवाह का सबसे बड़ी वजह दहेज की मांग है और अधिकतर लडकियां, जो अशिक्षित रहती हैं, उनका विवाह इस प्रचलन से कराया जाता है।

अन्नू कुमारी मानती हैं कि अब इस जबरन शादियों के मामले बहुत कम सामने आते हैं, क्योंकि आज कई लड़कियां शिक्षा हासिल कर रही हैं और अपने जीवन के फैसले खुद ले रही हैं।

आईटीआई बिहटा कॉलेज की मनोविज्ञान की प्रोफेसर कुमारी शालिनी ने कहा कि पकड़ौआ विवाह सामंती विचारधारा की उपज रहा है। बिहार में इसका असर देखा जाता है। वह मानती हैं कि इस तरह की कुप्रथा समाज की बुराई की तरफ इशारा करती है। कई लोग लड़की को बोझ समझते हैं और किसी तरह अपनी बेटियों का विवाह कर उस बोझ को उतारना चाहते हैं।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पकड़ौआ विवाह के मामले जब सामने आते हैं तो इस अपराध पर कार्रवाई की जाती है। उन्होंने कहा कि अब ऐसे मामले शादियों के मौसम में आते हैं हालांकि पहले के मुकाबले ये मामले कम हुए हैं।

(आईएएनएस इनपुट के साथ)

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सैयद जाफ़र इमाम किशनगंज से तालुक़ रखते हैं। इन्होंने हिमालयन यूनिवर्सिटी से जन संचार एवं पत्रकारिता में ग्रैजूएशन करने के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया से हिंदी पत्रकारिता (पीजी) की पढ़ाई की। 'मैं मीडिया' के लिए सीमांचल के खेल-कूद और ऐतिहासिक इतिवृत्त पर खबरें लिख रहे हैं। इससे पहले इन्होंने Opoyi, Scribblers India, Swantree Foundation, Public Vichar जैसे संस्थानों में काम किया है। इनकी पुस्तक "A Panic Attack on The Subway" जुलाई 2021 में प्रकाशित हुई थी। यह जाफ़र के तखल्लूस के साथ 'हिंदुस्तानी' भाषा में ग़ज़ल कहते हैं और समय मिलने पर इंटरनेट पर शॉर्ट फिल्में बनाना पसंद करते हैं।

Related News

मक्का चोरी के आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस व ग्रामीण में झड़प, 5 पुलिसकर्मी सहित 7 लोग घायल

देवर-भाभी की लड़ाई में 9 महीने के बच्चे की मौत, आरोपी देवर गिरफ्तार

सीतामढ़ी: अनियंत्रित ट्रक ने टेंपो को रौंदा, तीन की मौत, छह घायल

कटिहार: प्रेम प्रसंग में महिला टोला सेवक की गला रेत कर हत्या, पेट्रोल डालकर शव को जलाया

सारण: राजद-बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच चली गोली, 1 की मौत, 2 घायल

अररिया: ज़मीन विवाद में अपने बाप की हत्या कर युवक फ़रार

दिल्ली में किशनगंज के 17 वर्षीय युवक की चाकू मारकर हत्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सिग्नल तोड़ते हुए मालगाड़ी ने कंचनजंघा एक्सप्रेस को पीछे से मारी टक्कर, 8 लोगों की मौत, 47 घायल

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण