Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

BPSC द्वारा बहाल होंगे प्रारंभिक स्कूलों के हेडमास्टर, विभाग ने बनायी नई नियमावली

नियमावली के मुताबिक़, राज्य के प्रारंभिक स्कूलों में हेडमास्टरों की बहाली के लिये बिहार लोक सेवा आयोग परीक्षा का आयोजन करेगी। इस परीक्षा में कोई भी शिक्षक, जिनके पास सरकारी प्रारंभिक स्कूलों में न्यून्तम 8 वर्षों का शिक्षण अनुभव हो, भाग ले सकते हैं। लेकिन, इसके लिये शिक्षकों की उम्र 58 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिये।

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

बिहार के प्रारंभिक स्कूलों (वर्ग 1-8) में हेड मास्टरों की बहाली के लिये बिहार लोक सेवा को ज़िम्मेदारी दी गई है। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने ‘बिहार प्रारंभिक विद्यालय प्रधान शिक्षक नियमावली-2024’ बनाई है।

इस नियमावली के मुताबिक़, राज्य के प्रारंभिक स्कूलों में हेडमास्टरों की बहाली के लिये बिहार लोक सेवा आयोग परीक्षा का आयोजन करेगी। इस परीक्षा में कोई भी शिक्षक, जिनके पास सरकारी प्रारंभिक स्कूलों में न्यून्तम 8 वर्षों का शिक्षण अनुभव हो, भाग ले सकते हैं। लेकिन, इसके लिये शिक्षकों की उम्र 58 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिये।

Also Read Story

बिहार के स्कूलों में शुरू नहीं हुई मॉर्निंग शिफ्ट में पढ़ाई, ना बदला टाइम-टेबल, आपदा प्रबंधन विभाग ने भी दी थी सलाह

Bihar Board 10th के Topper पूर्णिया के लाल शिवांकर से मिलिए

मैट्रिक में 82.91% विधार्थी सफल, पूर्णिया के शिवांकार कुमार बने बिहार टॉपर

31 मार्च को आयेगा मैट्रिक परीक्षा का रिज़ल्ट, इस वेबसाइट पर होगा जारी

सक्षमता परीक्षा का रिज़ल्ट जारी, 93.39% शिक्षक सफल, ऐसे चेक करें रिज़ल्ट

बिहार के सरकारी स्कूलों में होली की नहीं मिली छुट्टी, बच्चे नदारद, शिक्षकों में मायूसी

अररिया की साक्षी कुमारी ने पूरे राज्य में प्राप्त किया चौथा रैंक

Bihar Board 12th Result: इंटर परीक्षा में 87.54% विद्यार्थी सफल, http://bsebinter.org/ पर चेक करें अपना रिज़ल्ट

BSEB Intermediate Result 2024: आज आएगा बिहार इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम, छात्र ऐसे देखें अपने अंक

BPSC हेडमास्टर नियुक्ति प्रक्रिया

सबसे पहले शिक्षा विभाग प्रधान शिक्षक के पद पर सीधी नियुक्ति के लिये जिला स्तर पर रोस्टर क्लीयरेंस के साथ आरक्षण कोटिवार रिक्त पदों की संख्या बिहार लोक सेवा आयोग को भेजेगी।


सीधी भर्ती के लिये प्राप्त रिक्तियों के आधार पर बिहार लोक सेवा आयोग विज्ञापन निकालेगी। आयोग द्वारा विज्ञापित आवेदन पत्र में प्रधान शिक्षक अभ्यर्थी द्वारा स्वघोषणा के आधार पर उनकी उम्मीदवारी का मूल्यांकन किया जाएगा।

परीक्षा के लिये सिलेबस आयोग द्वारा शिक्षा विभाग के सलाह से किया जाएगा। निर्धारित सिलेबस के आधार पर परीक्षा का आयोजन, प्रश्न पत्रों का निर्धारण, उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन तथा परीक्षाफल का प्रकाशन आयोग द्वारा किया जाएगा।

परीक्षा के पैटर्न का निर्धारण आयोग द्वारा किया जायेगा, जिसमें आवश्यकतानुसार विभाग से परामर्श लिया जा जायेगा। साथ ही विभाग द्वारा परीक्षा के लिए अर्हतांक (कट-ऑफ मार्क्स) आयोग का सलाह से निर्धारित किया जाएगा।

शिक्षक अभ्यर्थी इस नियमावली के अन्तर्गत अधिकतम तीन बार ही परीक्षा में भाग ले सकेंगे। आयोग द्वारा की गई अनुशंसा, नियुक्ति का अधिकार तब तक नहीं प्रदान करेगी, जब तक कि आवश्यक प्रमाण पत्रों की जाँच के उपरांत विभाग संतुष्ट न हो जाए कि अभ्यर्थी प्रधान शिक्षक के पद पर नियुक्ति के लिए सभी दृष्टियों से उपयुक्त है।

हेडमास्टरों का ट्रांसफर

बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा नियुक्त होने वाले हेडमास्टरों को ट्रांसफर का लाभ मिलेगा। प्रधान शिक्षकों को सामान्य रूप से जिला शिक्षा पदाधिकारी द्वारा शिक्षा का अधिकार अधिनियम की कमिटमेंट को देखते हुए जिलों के अन्तर्गत ट्रांसफर किया जा सकेगा।

प्रधान शिक्षकों को विभाग द्वारा तय की गयी अवधि पूर्ण करने पर ही ट्रांसफर किया जा सकेगा। प्रधान शिक्षकों को उनके अनुरोध पर प्राथमिक शिक्षा निदेशक द्वारा जिले के भीतर अथवा बाहर ट्रांसफर किया जा सकेगा। परन्तु एक प्रधान शिक्षक अपने सेवा काल में केवल दो बार इस प्रकार के विकल्प का उपयोग कर सकेंगे।

विभाग ने साफ कर दिया है कि अधिकार के रूप में इस सुविधा का दावा नहीं किया जा सकता है, विभाग जरूरी परिस्थितियों के आधार पर इस प्रकार के अनुरोध को अस्वीकार कर सकता है। इस प्रकार के ट्रांसफर के मामले में, संबंधित प्रधान शिक्षक को नियुक्ति वर्ष की ग्रेडेशन सूची के निम्नतम पायदान पर रखा जाएगा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

मधुबनी डीईओ राजेश कुमार निलंबित, काम में लापरवाही बरतने का आरोप

बिहार में डीएलएड प्रवेश परीक्षा 30 मार्च से, परीक्षा केंद्र में जूता-मोज़ा पहन कर जाने पर रोक

बिहार के कॉलेजों में सत्र 2023-25 में जारी रहेगी इंटर की पढ़ाई, छात्रों के विरोध के बाद विभाग ने लिया फैसला

बिहार के कॉलेजों में इंटर की पढ़ाई खत्म करने पर छात्रों का प्रदर्शन

बिहार बोर्ड द्वारा जारी सक्षमता परीक्षा की उत्तरकुंजी में कई उत्तर गलत

BPSC TRE-3 की 15 मार्च की परीक्षा रद्द करने की मांग तेज़, “रद्द नहीं हुई परीक्षा तो कट-ऑफ बहुत हाई होगा”

सक्षमता परीक्षा के उत्तरकुंजी पर 21 मार्च तक आपत्ति, ऐसे करें आपत्ति दर्ज

One thought on “BPSC द्वारा बहाल होंगे प्रारंभिक स्कूलों के हेडमास्टर, विभाग ने बनायी नई नियमावली

  1. Bihar m sbhi Ganwo k School m zo Ganwo k masters h os Ko htaya jana chahiye. Kyon k Ganwo k masters Ganwo k School Ko apna ghr samajh batha masters ki Marzi zo mn mozi se school sanchalan krta h.pdhayi nahi hone k karan bachcha log school v jana nahi chahta hai. Ye bahut Gambheer mamla hai.main ne mukhyamantry Sri Nitish Kumar Ko Kai Aawedan v dya tha jb araria aye thay.jai hind

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला