Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

खबर का असर: जर्जर हो चुके किशनगंज के राजकीय कन्या मध्य विद्यालय में भवन निर्माण शुरू

स्कूल के प्रधान शिक्षक प्रशांत दास ने बताया कि विभाग ने तत्काल तौर पर एक भवन तैयार कराने का निर्णय लिया है जिसका काम शुरू हो चुका है। स्कूल के छात्र -छात्राओं के लिए और भी भवन निर्माण कराने की बात कही गई है।

Avatar photo Reported By Amit Singh |
Published On :

बिहार के किशनगंज में राजकीय कन्या मध्य विद्यालय का भवन वर्षों से जर्जर स्थिति में था। एक से आठवीं कक्षा वाला यह विद्यालय केवल दो कमरों में चल रहा था। इन कमरों की भी हालत बेहद जर्जर थी। बच्चे जिन कक्षाओं में बैठ कर पढ़ते थे वहां एस्बेस्टस की छत टूट टूट कर गिर रही थी और स्कूल में छात्र डर के साये में पढ़ाई करने पर मजबूर थे।

‘मैं मीडिया’ ने इस विद्यालय की बदहाली पर इसी साल 2 जनवरी को ‘खंडहर में तब्दील होता किशनगंज का राजकीय कन्या मध्य विद्यालय‘ के शीर्षक से एक खबर चलाई थी। इससे पहले 22 नवंबर 2022 को भी ‘स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश’ के शीर्षक से हमने इस स्कूल की जर्जरता को दर्शाया था।

Also Read Story

कटिहार: NEET UG परीक्षा में “धांधली” को लेकर NSUI का प्रदर्शन, NTA को बताया ‘नेशनल ठग एजेंसी’

BSEB सक्षमता परीक्षा में सफल शिक्षकों की काउंसिलिंग जल्द, विभाग ने जिलों से मांगी रिक्ति 

भीषण गर्मी के कारण बिहार के स्कूलों में फिर हुई छुट्टी, 15 जून तक रहेंगे बंद

NEET UG परीक्षा में ग्रेस अंक देने पर विवाद, अच्छे मार्क्स लाने के बावजूद छात्र चिंतित, “नहीं मिलेंगे अच्छे कॉलेज”

BPSC TRE-1 में बहाल बिहार से बाहर की दर्जन भर शिक्षिकाओं की गई नौकरी, CTET में थे 60% से कम अंक

मदरसा बोर्ड भंग करने के बाद सरकार ने बोर्ड को दिया 75 लाख रुपये का अनुदान

केके पाठक छुट्टी पर, सीएम के प्रधान सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ को मिली ज़िम्मेदारी

शिक्षा विभाग ने हाइकोर्ट के फ़ैसले के बाद गेस्ट टीचर को दिया वेटेज, फैसले के विरुद्ध दायर करेगा अपील

बिहार: भीषण गर्मी और लू की वजह से 8 जून तक स्कूल रहेंगे बंद

‘मैं मीडिया’ की खबर का असर हुआ और किशनगंज जिला शिक्षा विभाग ‘वर्किंग मोड’ में आया। इसके परिणाम में स्कूल के नए भवन का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और आगे भी और निर्माण कार्य कराने की मंज़ूरी दे दी गई है।


स्कूल के प्रधान शिक्षक प्रशांत दास ने बताया कि विभाग ने तत्काल तौर पर एक भवन तैयार कराने का निर्णय लिया है जिसका काम शुरू हो चुका है। स्कूल के छात्र -छात्राओं के लिए और भी भवन निर्माण कराने की बात कही गई है।

“भवन नहीं रहने के कारण हम लोग काफी परेशान थे। बारिश के मौसम में, आंधी तूफ़ान में काफी डर के साये में पढ़ाई होती थी। ‘मैं मीडया’ का मैं बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूँ कि आप लोगों की वजह से वरीय पदाधिकारियों ने इस पर संज्ञान लिया। अभी तत्काल, विद्यालय परिसर को एक भवन दिया गया है जिसका निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और आगे भी भवन बनेगा,” प्रधान शिक्षक ने कहा।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Amit Kumar Singh, a native of Kishanganj, Bihar, holds a remarkable 20-year tenure as a senior reporter. His extensive field reporting background encompasses prestigious media organizations, including Doordarshan, Mahua News, Prabhat Khabar, Sanmarg, ETV Bihar, Zee News, ANI, and PTI. Notably, he specializes in covering stories within the Kishanganj district and the neighboring region of Uttar Dinajpur in West Bengal.

Related News

पूर्णिया: डीपीओ पर शिक्षकों को अपमानित करने का आरोप, शिक्षकों का हंगामा

किशनगंज: निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित पाये गये शिक्षकों के वेतन में कटौती

सोशल मीडिया पर कमेंट करना शिक्षिका को पड़ा महंगा, कटा वेतन

स्कूलों में गर्मी की छुट्टी बढ़ाने के लिये राज्यपाल ने मुख्य सचिव को लिखा पत्र

सरकारी स्कूलों में तय मानक के अनुरूप नहीं हुई बेंच-डेस्क की सप्लाई

दूसरे राज्यों की महिला शिक्षकों को पात्रता परीक्षा के उत्तीर्णांक में नहीं मिलेगी छूट, जायेगी नौकरी

स्कूलों के नये टाइम-टेबल को बदलने की मांग क्यों कर रहे बिहार के शिक्षक?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार