Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

आरक्षण बिल पर बहस में मांझी पर भड़के नीतीश, कहा- “हमारी गलती थी कि इसको मुख्यमंत्री बना दिया”

नीतीश ने आगे कहा, “अब यह (मांझी) चाहता है गवर्नर बनना। यह जब हमलोगों के साथ था तब भी उल्टा पुल्टा बोलता था। लगा दीजिये गवर्नर इसको (विपक्षी सदस्यों को संबोधित करते हुए)। बनना चाहता है यह गवर्नर।”

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को सदन में जमकर सुनाया। नीतीश ने कहा कि मांझी की बातों का कोई सेंस नहीं है और यह उनकी गलती थी कि मांझी को मुख्यमंत्री बना दिया गया।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार आरक्षण संशोधन विधेयक पर मांझी द्वारा उठाये गये सवालों के जवाब में ये बातें कहीं। संबोधन के दौरान नीतीश कुमार ने डांटते हुए मांझी को बैठने के लिए कहा।

नीतीश ने सदन में मौजूद मीडियाकर्मियों से मुखातिब होकर कहा कि वे लोग (मीडिया) भी बिना मतलब मांझी की बातों को पब्लिश कर देते हैं, जबिक मांझी की बातों में कोई सेंस नहीं होता है।


“इनको (मांझी को) कुछ आइडिया है, यह तो मेरी गलती है कि इस आदमी को हमने बना दिया था मुख्यमंत्री। कोई सेंस नहीं है इसको। ऐसे ही बोलते रहता है कोई मतलब नहीं है,” उन्होंने कहा।

नीतीश ने आगे कहा, “अब यह (मांझी) चाहता है गवर्नर बनना। यह जब हमलोगों के साथ था तब भी उल्टा पुल्टा बोलता था। लगा दीजिये गवर्नर इसको (विपक्षी सदस्यों को संबोधित करते हुए)। बनना चाहता है यह गवर्नर।”

मांझी के किस बयान पर बिफरे नीतीश

दरअसल, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा सुप्रीमो जीतन राम मांझी ने सदन में बोलते हुए कहा था कि उनको जातीय आधारित गणना के आंकड़ों पर भरोसा नहीं है और यह गणना ठीक से नहीं हुआ है।

“जनगणना पर हमको विश्वास नहीं है, जनगणना ठीक से हुआ ही नहीं है। लोग (जनगणना कर्मी) घर पर पहुंचे ही नहीं हैं, सिर्फ टेबल वर्क किया गया है। इसलिए उसके (जाति आधारित गणना के) आधार पर कुछ करते हैं तो स्थिति वही होगी कि जिसको हक मिलना चाहिए उसको हक नहीं मिलता है,” उन्होंने कहा।

Also Read Story

डॉ. जावेद और पीएम मोदी में झूठ बोलने का कंपटीशन चल रहा है: किशनगंज में बोले असदुद्दीन ओवैसी

कटिहार: खेत से मिली 54 वर्षीय स्कूल गार्ड की लाश, जांच में जुटी पुलिस

26 अप्रैल को पीएम मोदी पहुंचेंगे अररिया, फारबिसगंज में करेंगे चुनावी सभा

अररिया में 20 लोगों का नामांकन रद्द, 9 प्रत्याशी मैदान में बचे

“मोदी जी झूठों के सरदार हैं”: किशनगंज में बोले कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे

BPSC TRE-3: इस तारीख को होगी रद्द हुई परीक्षा, BPSC ने जारी किया परीक्षा कैलेंडर

एक भी बांग्लादेशी को बिहार में रहने नहीं देंगे: अररिया में बोले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी

UPSC सिविल सर्विसेज़ परीक्षा में 1,016 सफल, आदित्य श्रीवास्तव बने टॉपर

किशनगंज: लोकसभा चुनाव प्रशिक्षण में भाग लेने मारवाड़ी कॉलेज आये एक शिक्षक की मौत

मांझी ने आगे कहा था कि अम्बेडकर साहब ने (जब आरक्षण) शुरू किया था, तो कहा था कि दस बरस में इसकी समीक्षा होनी चाहिए। क्या आज तक बिहार सरकार ने आरक्षण, चाहे सेवाओं में हो या नामांकन में हो, की समीक्षा करने का कष्ट किया है?

मांझी ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि सिर्फ आरक्षण बढ़ा देने से काम नहीं चलेगा, बल्कि इसको लागू करने के लिए धरातल पर मैकेनिज्म को विकसित करना होगा, लेकिन हमसब जानते हैं कि सरकार ने आजतक ऐसा कोई मैकेनिज्म विकसित नहीं किया है।

मांझी ने संबोधन के दौरान कहा था कि आरक्षण को लागू करने के लिए धरातल पर कोई मैकेनिज्म विकसित किये बिना आरक्षण का दायरा बढ़ा देने से भी कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा।

बताते चलें कि बिहार विधानसभा में बिहार आरक्षण संशोधन विधेयक गुरूवार को पास हो गया। अब बिहार में 75 फीसद आरक्षण लागू हो जायेगा। उल्लेखनीय है कि सदन में विधेयक बिना किसी विरोध के सर्वसम्मति से पास हुआ।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

सोने की तस्करी करते किशनगंज का व्यापारी दिनेश पारीक समेत तीन लोग गिरफ्तार

अहमद अश्फाक़ करीम जदयू में हुए शामिल, कहा, “18 परसेंट मुस्लिमों को सिर्फ 2 सीट, यह हक़तल्फ़ी है”

अररिया सीट पर AIMIM उम्मीदवार उतारने पर विचार हो रहा है: इंजीनियर आफताब अहमद

मुसलमानों की हकमारी का आरोप लगाते हुए पूर्व राज्यसभा सांसद अहमद अशफाक करीम ने छोड़ा राजद

बिहार : राजद ने प्रत्याशियों की सूची जारी की, लालू की दो बेटियां चुनाव मैदान में उतरीं

पूर्णिया: राजद प्रत्याशी बीमा भारती ने निर्दलीय पप्पू यादव को बताया बीजेपी का एजेंट

कटिहार: पूर्व विधायक हिमराज सिंह ने नामांकन लिया वापस, जदयू को करेंगे समर्थन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?