Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

डोमिसाइल के लिये मुख्यमंत्री के पास कई बार गये, लेकिन उन्होंने डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया: पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर

बिहार में डोमिसाइल नीति को लागू करने को लेकर चंद्रशेखर ने कहा कि वह डोमिसाइल नीति को लागू करवाने के लिये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास कई बार गये थे, लेकिन नीतीश कुमार ने 25 जून को डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया। उन्होंने कहा कि ना चाहते हुए भी उनको यह फैसला स्वीकार करना पड़ा।

Nawazish Purnea Reported By Nawazish Alam |
Published On :

राष्ट्रीय जनता दल विधायक और सरकार में पूर्व शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने डोमिसाइल नीति, सक्षमता परीक्षा और नियोजित शिक्षकों के मुद्दे पर बिहार विधानसभा में खुलकर अपनी बात रखी। संबोधन के दौरान चंद्रशेखर ने कहा कि शिक्षा मंत्री रहते हुए उन्होंने सलाह दी थी कि सक्षमता परीक्षा कराने की जिम्मेदारी राज्य शैक्षिक अनुसंधान व प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) को मिले, लेकिन उनकी यह बात नहीं मानी गई।

चंद्रशेखर ने कहा कि एससीईआरटी को नियोजित शिक्षकों से संबंधित दक्षता परीक्षा लेने का अनुभव है, इसलिये वह चाहते थे कि सक्षमता परीक्षा भी एससीईआरटी ही आयोजित करे। चंद्रशेखर ने इस दौरान शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक पर भी निशाना साधा।

सक्षमता परीक्षा पर ही सवाल खड़े करते हुए उन्होंने कह दिया कि जब नियोजित शिक्षक दक्षता परीक्षा पास कर चुके हैं, तो उनके लिये सक्षमता परीक्षा की आवश्यकता नहीं थी।


“नियोजित शिक्षकों की परीक्षा अलग से लेने का जो प्रावधान हुआ तो हमने सलाह दी थी कि (यह परीक्षा) एससीईआरटी से कराइये। क्योंकि एससीईआरटी को दक्षता परीक्षा लेने का व्यापक अनुभव है। एक शिक्षक जब दक्षता परीक्षा पास कर गया तो पुनः उसकी परीक्षा की क्या ज़रूरत है…उस समय मेरी बात नहीं मानी गई,” उन्होंने कहा।

“एसीएस उलझने में माहिर हैं”

केके पाठक पर बोलते हुए चंद्रशेखर ने कहा कि केके पाठक उलझने में माहिर हैं और विभाग में आते ही वह बिहार लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष से उलझ गए। हालांकि, इस दौरान उन्होंने केके पाठक का नाम नहीं लिया और सिर्फ एसीएस (अपर मुख्य सचिव) बोल कर निशाना साधा।

“हमारे नये जो एसीएस साहब आये, आते-आते बीपीएससी के अध्यक्ष से उलझ गये। (ये बातें) सार्वजनिक हैं, सब जानते हैं। फिर उलझ गये। पता नहीं उलझने में वह माहिर हैं और क्या करते,” उन्होंने कहा।

“डोमिसाइल को लेकर सीएम को कई बार कहा”

बिहार में डोमिसाइल नीति को लागू करने को लेकर चंद्रशेखर ने कहा कि वह डोमिसाइल नीति को लागू करवाने के लिये मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पास कई बार गये थे, लेकिन नीतीश कुमार ने 25 जून को डोमिसाइल नीति को निरस्त कर दिया। उन्होंने कहा कि ना चाहते हुए भी उनको यह फैसला स्वीकार करना पड़ा।

Also Read Story

बिहार के स्कूलों में शुरू नहीं हुई मॉर्निंग शिफ्ट में पढ़ाई, ना बदला टाइम-टेबल, आपदा प्रबंधन विभाग ने भी दी थी सलाह

Bihar Board 10th के Topper पूर्णिया के लाल शिवांकर से मिलिए

मैट्रिक में 82.91% विधार्थी सफल, पूर्णिया के शिवांकार कुमार बने बिहार टॉपर

31 मार्च को आयेगा मैट्रिक परीक्षा का रिज़ल्ट, इस वेबसाइट पर होगा जारी

सक्षमता परीक्षा का रिज़ल्ट जारी, 93.39% शिक्षक सफल, ऐसे चेक करें रिज़ल्ट

बिहार के सरकारी स्कूलों में होली की नहीं मिली छुट्टी, बच्चे नदारद, शिक्षकों में मायूसी

अररिया की साक्षी कुमारी ने पूरे राज्य में प्राप्त किया चौथा रैंक

Bihar Board 12th Result: इंटर परीक्षा में 87.54% विद्यार्थी सफल, http://bsebinter.org/ पर चेक करें अपना रिज़ल्ट

BSEB Intermediate Result 2024: आज आएगा बिहार इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम, छात्र ऐसे देखें अपने अंक

“डोमिसाइल मुद्दा एक बड़ा मुद्दा था। डोमिसाइल महागठबंधन सरकार के एजेंडे का हिस्सा था। डोमिसाइल नीति लागू करने के लिये हम मुख्यमंत्री के पास नियमावली लेकर जाते थे। विजय बाबू हर समय वहां (मौजूद) रहते थे। नियमावली है उत्तराखंड में, गुजरात में, महाराष्ट्र में, वेस्ट बंगाल में और झारखंड के अलावा अधिकांश राज्यों में डोमिसाइल नीति लागू है,” उन्होंने कहा।

चंद्रशेखर ने आगे कहा, “लेकिन (शिक्षा विभाग के) अधिकारी पढ़ाते थे कि सभी जगह निरस्त हो गया। मेरी चुनौती है कि अगर निरस्त हुआ है उत्तराखंड में, यदि निरस्त हुआ है छत्तीसगढ़ का या देश के अन्य राज्यों का, तो मैं सरकार से जवाब चाहूंगा कि कब निरस्त हुआ।”

चंद्रशेखर ने कहा कि उन्होंने सक्षमता परीक्षा से संबंधित कई सुझाव विभागी अधिकारियों को दिये, लेकिन उसको नहीं माना गया। उन्होंने कहा कि अगर उनकी सलाह मान ली गई होती हो आज नियोजित शिक्षक आंदोलन के लिये मजबूर नहीं होते।

शिक्षकों के पदस्थापन को लेकर चंद्रशेखर ने कहा कि इसको दंड के रूप में नहीं दिया जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि इसकी वजह से हज़ारों शिक्षकों ने योगदान नहीं दिया है। उन्होंने शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी से इस मुद्दे पर श्वेत पत्र जारी करने की मांग की।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

नवाजिश आलम को बिहार की राजनीति, शिक्षा जगत और इतिहास से संबधित खबरों में गहरी रूचि है। वह बिहार के रहने वाले हैं। उन्होंने नई दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया के मास कम्यूनिकेशन तथा रिसर्च सेंटर से मास्टर्स इन कंवर्ज़ेन्ट जर्नलिज़्म और जामिया मिल्लिया से ही बैचलर इन मास मीडिया की पढ़ाई की है।

Related News

मधुबनी डीईओ राजेश कुमार निलंबित, काम में लापरवाही बरतने का आरोप

बिहार में डीएलएड प्रवेश परीक्षा 30 मार्च से, परीक्षा केंद्र में जूता-मोज़ा पहन कर जाने पर रोक

बिहार के कॉलेजों में सत्र 2023-25 में जारी रहेगी इंटर की पढ़ाई, छात्रों के विरोध के बाद विभाग ने लिया फैसला

बिहार के कॉलेजों में इंटर की पढ़ाई खत्म करने पर छात्रों का प्रदर्शन

बिहार बोर्ड द्वारा जारी सक्षमता परीक्षा की उत्तरकुंजी में कई उत्तर गलत

BPSC TRE-3 की 15 मार्च की परीक्षा रद्द करने की मांग तेज़, “रद्द नहीं हुई परीक्षा तो कट-ऑफ बहुत हाई होगा”

सक्षमता परीक्षा के उत्तरकुंजी पर 21 मार्च तक आपत्ति, ऐसे करें आपत्ति दर्ज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

सुपौल: देश के पूर्व रेल मंत्री और बिहार के मुख्यमंत्री के गांव में विकास क्यों नहीं पहुंच पा रहा?

सुपौल पुल हादसे पर ग्राउंड रिपोर्ट – ‘पलटू राम का पुल भी पलट रहा है’

बीपी मंडल के गांव के दलितों तक कब पहुंचेगा सामाजिक न्याय?

सुपौल: घूरन गांव में अचानक क्यों तेज हो गई है तबाही की आग?

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला