सावित्रीबाई फुले के जन्मदिवस के अवसर पर पूर्णिया के कुकरौन पश्चिम पंचायत अंतर्गत खनुआं गांव के वार्ड नंबर 2 के विकास मित्र बिनोद ऋषि एवं झींगरू ग्रुप फाउंडेशन के सहयोग से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विकास मित्र विनोद ऋषि ने बाल विवाह, दहेज प्रथा, नशा उन्मूलन, लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान, बच्चे का स्कूल में न जाने जैसे विषय पर विस्तृत रूप से चर्चा किया तथा ग्रामीणों से भी इस विषय पर उनके राय को सार्वजनिक रूप से रखा।

सावित्रीबाई फुले

चंदेश्वरी ऋषि नामक एक ग्रामीणने बताया गया कि उन्होंने बिनोद ऋषि के कहने पर पिछले 2 साल से शराब बिलकुल छोड़ दिया है जबकि वे नियमित रूप से शराब का सेवन करते थे। जिस कारण उनकी आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई थी। जबसे उन्होंने शराब छोड़ी है आर्थिक स्थिति अच्छी हो रही है। इसी क्रम में रामचंद्र ऋषि ने कहा अब मैं शराब छोड़ चुका हूं और स्वरोजगार के दिशा में हारमोनियम मैकेनिक का काम सीख रहा हूं।

वही बहादुर ऋषि के द्वारा बताया गया कि हमने भी शराब को 2 वर्ष पहले ही छोड़ दिया है इस आशय का शपथ पत्र भी विकास मित्र को हम लोगों ने सौंप दिया है। आगे सभा को संबोधित करते हुए जालो देवी के द्वारा बताया गया कि हमारे पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं का अधिकार कम होने के कारण हम उतने अच्छे से अपने बच्चे की देखभाल नहीं कर पाते हैं। हमारे बच्चे दिन-ब-दिन नशे के शिकार होते जा रहे हैं जिससे हमारी पीढ़ी विध्वंस की ओर जा रही है। अन्य वक्ताओं में डॉक्टर जमशेद के द्वारा बताया गया कि नशा के कारण हमारी शारीरिक क्षमता कम हो जाती है। जिससे हम मानसिक रूप से भी कमजोर रहते हैं जो हमारी गरीबी का मुख्य कारण है।

इसी दिशा में विकास मित्र बिनोद ऋषि ने बताया गया कि बराबर इस तरह का कार्यक्रम होना चाहिए। ऐसे कार्यक्रम से हमारा विकास अच्छी तरह से हो सकता है। मैं सरकार से निवेदन करता हूं कि हमारे समाज को विध्वंस झेलने से बचाने का हर मुमकिन प्रयास किये जाएँ। हमारी स्थिति दिन-ब-दिन बदतर होती जा रही है। सभा में उपस्थित वक्तागण में इश्तियाक आलम, वार्ड सदस्य प्रदीप ऋषि, फूल राजकुमार मंडल, तहसील आलम, राजकुमारी देवी आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किये।