बिहार चुनावों को लेकर सीटों का पेंच फंसा हुआ है। राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के बीच सीटों की हिस्सेदारी को लेकर ठनी हुई है। इस बीच खबर आ रही है कि बढ़ी हुई दूरी अब कम होने लगी है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस ने 75 सीट लेने और राजद ने 58 सीट देने की जिद अब छोड़ दी है। दोनों पार्टियों के बीच यह समझौता तब हुआ जब इसमें कांग्रेस नेत्री प्रियंका गांधी ने ह​स्तक्षेप किया। कहा जा रहा है कि प्रियंका ने बीच का रास्ता निकाल दिया है।

सूत्रों से खबर है कि कांग्रेस 65 सीट पर मान सकती है। वहीं, आरजेडी के 140 या इससे अधिक दो-चार सीटों पर लड़ने की बात सामने आ रही है। वहीं जानकारी है कि राहुल गांधी से तेजस्वी फाइनल डील के लिए आज बात भी कर सकते हैं। यानि माना जा रहा है कि महागठबंधन में देर शाम तक फार्मूले को लेकर सहमति बन जाएगी और एलान भी हो जाएगा। इसके अलावा खबर है कि कांग्रेस ने अपनी प्राथकिता वाली सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम को भी अंतिम रुप देना शुरू कर दिया है। गौरतलब है कि गुरुवार को कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में यह तय हुआ है।

इसके बाद उन सीटों के लिए चुनाव लड़ने को इच्छुक नेताओं की सूची छांटी गई और सभी सीटों पर दो उम्मीदवरों के नाम तय किए गए हैं। बता दें कि इससे पहले भाकपा माले के साथ भी आरजेडी नेताओं ने गुरुवार की देर रात मीटिंग की और उसे 20 सीटों के बदले 15 सीटों पर लड़ने के लिए मना लिया है। इस बीच ये भी जानकारी सामने आई है कि आरजेडी की सीपीआई माले, सीपीएम, सीपीआई, एनसीपी और जेएमएम के साथ सीट शेयरिंग को लेकर बातचीत जारी है।

वहीं, आरजेडी ने सीपीआई(माले) के लिए 15 सीटें, सीपीआई+सीपीएम को 10 सीटें और जेएमएम को 2 सीटें साझा करने का प्रस्ताव रखा है। राजद के वरिष्ठ राष्ट्रीय पदाधिकारी भोला यादव के अनुसार, चुनाव सिंबल बांटने का सिलसिला शुरू हो चुका है। विश्वसनीय सूत्र बताते हैं कि फर्स्ट फेज में आरजेडी 40 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.