बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर तीसरे चरण का नॉमिनेशन फाइल दौर में है। वहीं इस बीच नेताओं के पलटी मारने का दौर भी जारी है। सोमवार 19 अक्टूबर को वीआईपी के प्रदेश संगठन प्रभारी संतोष कुशवाहा ने रालोसपा का दामन थाम लिया। उनको रालोसपा की सदस्यता खुद पार्टी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने दिलाई। इस दौरान उपेन्द्र कुशवाहा ने लोजपा और चिराग को लेकर बड़ा बयान भी दिया।

पार्टी कार्यालय में संतोष कुशवाहा को सदस्यता दिलाने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए रालोसपा के मुखिया उपेंद्र कुशवाहा ने चिराग पर तंज कसते हुए कहा कि नतमस्तक होकर ही भाजपा के साथ रहा जा सकता है। उन्होंने चिराग को नसीहत देते हुए कहा कि वे एकतरफा प्यार ना दिखाएं। वह कलेजा चीर कर भी रख देंगे तब भी उन्हें कोई फायदा नहीं होनेवाला।

आपको बता दे कि कुशवाहा का यह बयान लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान के उस बयान पर आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हनुमान हैं। प्रधानमंत्री हमेशा मेरे दिल में रहते हैं। मौका मिलेगा तो वो सीना चीर कर भी ये बात साबित कर देंगे। चिराग अपने इस बयान के बाद भाजपा समेत एनडीए के सहयोगी दलों के निशाने पर आ गए थे। हालांकि एनडीए छोड़कर अलग चुनाव लड़ने की घोषणा करने के बाद से ही चिराग एनडीए नेताओं के निशाने पर थे।