बिहार चुनाव में चुनावी सभाओं का दौर जारी है। इस दौरान जब गठबंधन में सबकुछ सही करने के बाद पार्टियां मैदान में वोट मांग रही है, ऐसे में मतभेद होने का कोई सवाल नहीं उठता है। लेकिन एनडीए गठबंधन इस मामले में अपवाद है। ऐसा लगता है कि एनडीए के दो बड़े घटक दल बीजेपी और जदयू में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। तभी तो आज बक्सर में जो हुआ उससे इन दोनों के रिश्तों पर सवाल उठने लगे हैं। आज बक्सर में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की जनसभा थी। इस जनसभा में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से कुछ ऐसा हो गया की दोनों पार्टियों के बीच मदभेद के कयासों को हवा मिल गई है।

दरअसल जेपी नड्डा ने आज बक्सर में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान जनता के सामने एनडीए सरकार के द्वारा किए गए कामों को लेकर जनता को जानकारी दे रहे थे। इसी दौरान अंत में जब जनता से एनडीए प्रत्याशियों के लिए वोट मांगने की बारी आई तो उन्होंने केवल बीजेपी के दो प्रत्याशियों के नाम ही लिए। जबकि दो अन्य प्रत्याशियों के नाम नहीं लिए जो जदयू के कोटे से इस बार मैदान में हैं। इसी बात से नाराज जदयू के जिलाध्यक्ष बीच सभा में स्टेज से नीचे उतर आए और सभा से बाहर चले गए।

बता दें कि बक्सर में चार विधानसभा क्षेत्र हैं। इसमें राजपुर से संतोष कुमार निराला और डूमराव से अंजूम आरा जदयू कोटे से हैं। वहीं बक्सर से पशुराम चर्तूवेदी और ब्रह्मपूर से जयराम चौधरी बीजेपी के कोटे से चुनावी मैदान में हैं। बक्सर में हुई इस घटना ने एक बार फिर से बीजेपी और जदयू के बीच के मदभेद की खबरों को हवा दे दी है। हालांकि अभी इस बारे में किसी भी पार्टी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।