उत्तरी हावड़ा सीट से विधायक और तृणमूल कांग्रेस सरकार में खेल मंत्री रहे लक्ष्मी रतन शुक्ला ने आज पार्टी और मंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। उन्होंने राज्यपाल को लिखे अपने पत्र में कहा है की मैं अब अपनी सारी ऊर्जा और ध्यान क्रिकेट पर ही लगाना चाहता हूं, सो मुझे मेरी इन राजनीतिक ज़िम्मेदारियों से स्वतंत्र करें। क्रिकेट छोड़ कर लक्ष्मी रतन शुक्ला ने राजनीति में 2016 में प्रवेश किया था।

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है, के

‘वो एक अच्छा लड़का है, किसी प्रकार की ग़लतफ़हमी रखने की ज़रूरत नहीं है।’

लेकिन अगर हम कुछ दिनों से देखें तो तृणमूल कांग्रेस से कई नेताओं ने इस्तीफ़ा दिया है, जिसमें सुवेन्दु अधिकारी सहित कई विधायक हैं।

आज 39 वर्षीय लक्ष्मी रतन शुक्ला के इस्तीफ़े पर कटाक्ष करते हुए पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, के

‘जो ममता बनर्जी के साथ सुबह का नाश्ता करते हैं वो दोपहर के खाने में उन्हें छोड़ देते हैं।’

इस पर प्रतिक्रिया करते हुए गृह मंत्री अमित शाह कहते हैं के

‘चुनाव आते-आते दीदी बिल्कुल अकेली रह जाएंगी।’