स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आज कोरोना टीकाकरण की तारीख़ 13 जनवरी से तय की गई है।

जिन दो देसी कम्पनियों को इसके लिए स्वास्थ्य इमरजेंसी को नज़र में रख कर कोरोना वैक्सीन को विकसित करने की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी वो हैं भारत बॉयोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट।

भारत बॉयोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट ने अपने संयुक्त बयान में इसकी तारीख़ तय होने की सूचना देते हुए ये भी बताया के

ये टीकाकरण दो डोज़ो में पूरी होगी। इसका सबसे पहला प्रयोग स्वास्थ्य फ्रंट वारियर्स एवं दूसरे विभागों जैसे पुलिस के फ्रंट वारियर्स पर किया जाएगा। जो के पहले चरण के 30 करोड़ लोगों में से 3 करोड़ होंगे। पहले चरण के बाक़ी बचे 27 करोड़ लोगों पर ये इनके बाद प्रयोग में लाया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अनुसार यह दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है।

केंद्र सरकार ने कोरोना वैक्सीन को ख़रीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। सरकार टीकाकरण अभियान में बहुत सकारात्मकता और तेज़ी के साथ क़दम आगे बढ़ा रही है। ये टीकाकरण अभियान तीन चरणों में होंगे। सरकार ने शुरू में वैक्सीन की क़ीमत 200 रुपए रखने की योजना बनाई है।

केंद्र सरकार चरणबद्ध तरीके से चल रहे टीकाकरण अभियान को अपने सरकार की बड़ी सफ़लता और चुनौती मान रही है।