Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

वन्यजीव विशेषज्ञ ने किया जंगली हाथी से प्रभावित क्षेत्र का दौरा

विशेषज्ञ ने स्थानीय ग्रामीणों व वन कर्मियों से क्षेत्र में हाथियों के आने का मौसम, सीमावर्ती क्षेत्र से जंगल की दूरी आदि की जानकारी ली। साथ ही हाथियों के मल मूत्र, पांव के निशान की जांच की।

Md Akil Alam Reported By Md Akil Aalam |
Published On :

भारत सरकार के वन्यजीव विशेषज्ञों ने जंगली हाथी के उत्पात से प्रभावित धनतोला क्षेत्र का दौरा किया।

इस दौरान उन्होंने धनतोला में अस्थाई रूप से कैम्प किये हुए वन कर्मियों के साथ नेपाल से आने वाले जंगली हाथियों के रास्ते डोरिया, पांचगाछी, कामत, बिहारटोला, सुरीभिट्ठा आदि जगहों पर जाकर लगातार हाथियों के आने का कारण जानने की कोशिश की।

Also Read Story

असर: ‘मैं मीडिया’ की खबर वायरल होने के बाद बंगाल के स्कूल में पहली मंज़िल पर चढ़ने के लिए बनायी गयी सीढ़ी

खबर का असर: जर्जर हो चुके किशनगंज के राजकीय कन्या मध्य विद्यालय में भवन निर्माण शुरू

BPSC TRE-2: उर्दू-बांग्ला अभ्यर्थियों के लिये आया बड़ा अपडेट, पास होने के लिये इतने नंबर जरूरी

‘मैं मीडिया’ की खबर के बाद BPSC सचिव से मिले राजद MLC – “उर्दू-बंग्ला अभ्यर्थियों के लिये क्वालीफ़ाईंग पेपर बाधा नहीं होगा”

IMPACT: “BPSC TRE-2 के भाषा (अहर्ता) पेपर में गैर-हिंदी (उर्दू-बंगला) उम्मीदवारों को चिंता करने की जरूरत नहीं”

खबर का असर: किशनगंज के मदीना मार्किट के पास पड़े कूड़ों की सफाई शुरू

IMPACT: आयु सीमा में छूट विकल्प को लेकर अभ्यर्थियों को फॉर्म एडिट करने की आवश्यकता नहीं

IMPACT: किशनगंज की मुख्य सड़क पश्चिम पल्ली-मारवाड़ी कॉलेज रोड की मरम्मत शुरू

IMPACT: बहादुरगंज के समेश्वर उप-स्वास्थ्य केंद्र की हुई मरम्मत, सप्ताह मे तीन दिन बैठने लगे डॉक्टर

विशेषज्ञ ने स्थानीय ग्रामीणों व वन कर्मियों से क्षेत्र में हाथियों के आने का मौसम, सीमावर्ती क्षेत्र से जंगल की दूरी आदि की जानकारी ली। साथ ही हाथियों के मल मूत्र, पांव के निशान की जांच की।


विशेषज्ञों को बताया गया कि जंगल में भोजन की कमी के बाद जनवरी से फरवरी माह में सीमावर्ती क्षेत्र में मक्के के पौधे के बड़े होते ही हाथियों का आगमन तेज हो जाता है।

इस पर उन्होंने संतुष्टि जाहिर करते हुए हाथियों के रोकने के उपाय की बात कही। वन्यजीव विशेषज्ञ के दौरे की जानकारी देते हुए वनों के क्षेत्र पदाधिकारी उमा नाथ दुबे ने बताया कि पिछले दिनों बिहार के चीफ वर्ल्डलाइफ वार्डन पी. के. गुप्ता का किशनगंज दौरा हुआ था। उनसे सीमावर्ती क्षेत्र में हर वर्ष मक्के के सीजन में लगातार हाथियों के उत्पात की जानकारी देते हुए हाथियों के उत्पात को कम करने के लिए कोई ठोस उपाय करने का अनुरोध किया गया था।

उन्होंने कहा कि इसी को लेकर भारत सरकार के वन्यजीव विशेषज्ञ ने धनतोला का दौरा किया। उन्होंने कहा, “विशेषज्ञों को एनिडर्स मशीन के अलावा कई और उपाय बताए गये हैं। उम्मीद है इस पर जल्द सरकार कोई ठोस कदम उठाएगी, ताकि जंगली हाथियों के लगातार आगमन पर अंकुश लगे और वन्य प्राणियों की सुरक्षा के साथ सीमावर्ती किसानों के फसलों की भी रक्षा हो सके।”

दिघलबैंक में हाथी के उत्पात, फसल और घरों की तबाही को लेकर मार्च में ‘मैं मीडिया’ ने ग्राउंड रिपोर्ट किया था।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

Md Akil Alam is a reporter based in Dighalbank area of Kishanganj. Dighalbank region shares border with Nepal, Akil regularly writes on issues related to villages on Indo-Nepal border.

Related News

अररिया: पत्रकार विमल यादव हत्याकांड का मुख्य साजिशकर्ता रूपेश पुलिस रिमांड में

IMPACT: पोठिया के आमबाड़ी में बनेगी 3 किलोमीटर लंबी सड़क

मदरसा अज़ीज़िया के पुनर्निर्माण के लिए बिहार सरकार देगी 30 करोड़ रुपए

जलजमाव पर ख़बर प्रसारित होने के दूसरे दिन ही सड़क की मरम्मत शुरू

किशनगंज: अपहृत डीलर तमीजुद्दीन सकुशल बरामद

किशनगंज: नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म के मामले में 2 गिरफ्तार

बिहार: स्कूलों के लिए जारी नई अवकाश तालिका रद्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

क़र्ज़, जुआ या गरीबी: कटिहार में एक पिता ने अपने तीनों बच्चों को क्यों जला कर मार डाला

त्रिपुरा से सिलीगुड़ी आये शेर ‘अकबर’ और शेरनी ‘सीता’ की ‘जोड़ी’ पर विवाद, हाईकोर्ट पहुंचा विश्व हिंदू परिषद

फूस के कमरे, ज़मीन पर बच्चे, कोई शिक्षक नहीं – बिहार के सरकारी मदरसे क्यों हैं बदहाल?

आपके कपड़े रंगने वाले रंगरेज़ कैसे काम करते हैं?

‘हमारा बच्चा लोग ये नहीं करेगा’ – बिहार में भेड़ पालने वाले पाल समुदाय की कहानी