Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

किशनगंज: क्यों राष्ट्रीय स्तर से आगे नहीं जा पाते जिला के ‘सुपर टैलेंटेड’ शतरंज खिलाड़ी?

syed jaffer imam Reported By Syed Jaffer Imam |
Updated On :

किशनगंज बिहार के सबसे पिछड़े ज़िलों में से एक है, लेकिन इस ज़िले में शतरंज के बेहतरीन खिलाड़ी मौजूद हैं। कह सकते हैं कि किशनगंज न केवल राज्य में शतरंज में अव्वल है, यहां का शतरंज संघ भी बिहार के सबसे पुराने जिला संघ में से एक है।

किशनगंज हर साल बिहार को राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के लिए दर्जनों खिलाड़ी देता है। सवाल है कि सीमांचल के इस छोटे से ज़िले में प्रतिभा की कमी ना होने के बावजूद क्यों अब तक यह जिला एक भी अंतरराष्ट्रीय स्तर का शतरंज खिलाड़ी नहीं दे सका?

Also Read Story

किशनगंज: आदिवासी समुदाय के नाइट गार्ड की संदिग्ध अवस्था में मौत, हंगामा

अररिया के आजाद एकेडमी मैदान में होगा इमारत शरिया का ‘अजीमुश्शान जलसा’

कटिहार: ग्रामीण किसान बदमाशों के तांडव का शिकार , कहीं हत्या, तो कहीं मारपीट की खबर

दिघलबैंक में गलगलिया-अररिया रेललाइन मुआवज़े का विवाद थमा, निर्माण कार्य को हरी झंडी

खबर का असर : मैं मीडिया की ग्राउंड रिपोर्ट के बाद जिलाधिकारी ने किया विद्यालय का औचक निरीक्षण

सीमांचल में चल रहा 3 दिन का तालिमी कारवां

कटिहार: खंडहरनुमा जर्जर इंदिरा आवास कभी भी बन सकता है बड़े हादसे की वजह

किशनगंज: वार्ड सदस्यों ने पंचायती राज मंत्री मुरारी प्रसाद गौतम का फूंका पुतला

हर साल कटाव का कहर झेल रहा धप्परटोला गांव, अब तक समाधान नहीं

विगत 19 जून को दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में पहली बार आयोजित होने वाले शतरंज ओलंपियाड का मशाल रिले लॉन्च किया। आगामी 28 जुलाई से पहली बार शतरंज ओलंपियाड की मेज़बानी करेगा भारत। तमिलनाडु के चन्नई में 190 देश के खिलाड़ी अपनी प्रतिभा का जौहर दिखाएंगे।

इतिहासकारों के अनुसार प्राचीन भारत में शतरंज खेल को चतुरंग का नाम दिया गया था। जब मध्य पूर्व और पश्चिम देश का भारत में आना जाना बढ़ा, तो इस खेल को उन्होंने शतरंज (Chess) का नाम दिया। भारत में जन्मे शतरंज के खेल में भारत की विश्व में चौथी रैंकिंग है।

भारत में इस समय 74 ग्रैंड मास्टर हैं लेकिन उनमे से एक भी बिहार से नहीं है। किशनगंज इंडोर स्टेडियम में स्थित किशनगंज जिला शतरंज संघ के कई खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर बिहार का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

indoore stadium kishanganj

1996 में स्थापित हुए किशनगंज जिला शतरंज संगठन (District Chess Association Kishanganj) ने बीते पिछले दिनों जिला स्तरीय शतरंज प्रतियोगिता का आयोजन किया।

संघ के संस्थान और अध्यक्ष शंकर नारायण दत्ता ने मौके पर मैं मीडिया से बताया कि 2003 में उनके संगठन को किशनगंज के इंडोर स्टेडियम में बच्चों को शतरंज सीखने और प्रतिस्पर्धाओं का आयोजन करवाने की अनुमति मिली। तब से अब तक दर्जनों खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर बिहार का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

ज़िला शतरंज संगठन किशनगंज (District Chess Association Kishanganj) में सबसे पहली शतरंज प्रतियोगिता में चार खिलाडियों ने भाग लिया था। लगभग 26 साल बाद इस एसोसिएशन से आज सैकड़ों बच्चे जुड़े हैं । दर्जनों बच्चे किशनगंज इंडोर स्टेडियम में हर रविवार शतरंज सीखने और खेलने आते हैं।

पिछले दिनों 19 साल के मुकेश कुमार ने अंडर19 स्टेट चैंपियनशिप का खिताब जीता। मुकेश कुमार ने मैं मीडिया से बातचीत के दौरान अपने खेल और उसे जुड़े उनके सपनों के बारे में बात की। 19 साल के मुकेश का सपना है इंटरनेशनल मास्टर बनने का।

आपको बताते चलें कि इंटरनेशनल मास्टर बनने के लिए एक खिलाड़ी को 2400 रैंकिंग प्वाइंट अर्जित करनी होती है।

भारत में फिल्हाल 125 इंटरनेशनल मास्टर्स हैं तथा 45 महिला इंटरनेशनल मास्टर्स हैं। इस लिस्ट में भी बिहार का कोई नहीं है। वर्तमान में किशनगंज जिला शतरंज संघ के करीब आधा दर्जन ऐसे खिलाड़ी हैं जिनकी रेटिंग 1200 से अधिक है।

सुरुनॉय दास, धानवी कर्माकर, मुकेश कुमार, रोहन कुमार, ऋतिक मुजुमदार, श्रुतिका दास जैसे दरजनो खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं तथा राज्य इस्तर पर चैंपियन रह चुके हैं।

chess player dhanvi karmkar

कुछ ही वर्ष पूर्व किशनगंज के ही श्रेया दास को भारत के 300 सर्वश्रेष्ठ महिला शतरंज खिलाड़ी की सूची में शामिल किया गया था।

मुकेश कुमार की तरह 12 साल के आयुष कुमार भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की तरफ से शतरंज खेलने का ख्वाब सजाए हर रविवार किशनगंज के इंडोर स्टेडियम पहुँचते हैं।

कोरोना काल में शतरंज

2020 के मार्च में और 2021 के अप्रैल में लॉकडाउन लगने के बाद महीनों तक किशनगंज का इंडोर स्टेडियम बंद रहा। ऐसे में खिलाड़ियों का प्रैक्टिस करना और भी मुश्किल हो गया था। जिला शतरंज संघ किशनगंज ने बच्चों को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर खेलने के लिए प्रेरित किया।

किशनगंज के बच्चों को उनसे बेहतर खिलाड़ियों से ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर सीखने और खेलने का मौक़ा मिला । पेशे से रिटाईड बैंक कर्मचारी, ज़िला शतरंज संघ के संस्थापक शंकर नारायण मानते हैं कि इससे किशनगंज के बच्चों के खेल में और निखार आया है। पिछले कुछ महीनों में किशनगंज के बच्चे भारत के कई हिस्सो में राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर लगातार अच्छा खेल दिखा रहे हैं।

राष्ट्रीय से अंतरराष्ट्रीय स्तर का सफर मुश्किल क्यों?

किशनगंज कभी भी खेलकूद के लिए नहीं जाना गया है। हालांकि शतरंज में किशनगंज के राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ियों की सूची देखने पर पता लगता है कि शहर में प्रतिभा कूट कूट के भरी हुई है।

फिर सवाल है कि इतना टैलेंट है तो शहर से एक भी इंटरनेशनल खिलाड़ी क्यों नहीं है?
इस बात का जवाब ढूंढते ढूंढते मैं मीडिया की नज़र ठहरी अंतरराष्ट्रीय शतरंज संगठन द्वारा पर्माणित कमल कर्माकर पर, जो जिला शतरंज संघ के ट्रेनर हैं।

उनकी मानें तो राष्ट्रीय स्तर तक पहुँचने के लिए किसी भी खिलाड़ी को प्रतिभा और परिश्रम दोनों चाहिए होती है, लेकिन वहां से आने का सफर इस बात पर निर्भर करता है कि खिलाड़ी के घर वालों के पास कितना पैसा है।

kishanganj district chess association president

कमल कहते हैं कि शतरंज कतई एक सस्ता खेल नहीं है। इसमें बाहर के शहरों और राज्यों तक का सफर करना पड़ता है। काफ़ी खर्च भी आता है।

कोचिंग से लेकर प्रतियोगिता की जगह तक पहुंचना और वहां रहना, इन सब में काफ़ी पैसे की ज़रूरत होती है।

उन्होंने ये भी कहा कि प्रशासन या खेल विभाग के पास खेल विकास कार्य के लिए कोई फंड नहीं है। ऐसे में सारा खर्च घर वालों को उठाना पड़ा है।

‘मैं मीडिया’ ने इस बारे में जिला खेल प्रबंधन का ज़िम्मा संभाल रहे रवींद्र कुमार रमन से बात की।

रवींद्र कुमार रमन का कहना है कि खेल के विकास के लिए उनके पास किसी तरह का कोई फंड नहीं आता। इतना ही नहीं उनके अनुसर खेल कूद विभाग के पास तो इतना भी फंड नहीं के जिला स्तरीय खेलकूद विभाग के दफ्तर के लिए कुर्सी टेबल खरीदी जा सके।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किशनगंज के खिलाड़ी की गैर मौजूदगी के और क्या कारण हो सकते हैं? इस सवाल का जवाब खिलाड़ियों के परिजनों से मिला।

राजेश कुमार दास सुरुनॉय दास के पिता हैं। सुरुनॉय ने पिछले महीने स्टेट लेवल चैंपियनशिप में दूसरा मुक़ाम हसिल किया था। राजेश दास मानते हैं कि पैसे की कमी के साथ साथ एक दिक़्क़त यह भी आती है कि प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए शतरंज खिलाडिय़ों को अक्सर दूसरे शहर जाना पड़ता है, ऐसे में उनके स्कूल की उपस्थिति कम होती है जिस से बाद में बच्चों को मुश्किलें आती हैं।

शतरंज जैसे खेल में बचपन से ही परिश्रम की जरूरत पड़ती है। ऐसे में स्कूल और पढ़ाई का नुकसान होना आम बात है।
इस सवाल पर कमल कर्माकर ने कहा के शतरंज से बच्चों का दिमाग बचपन में ही तेजी से विकसित होता है। शतरंज खेलने वाले बच्चे किसी औसत बच्चे से ज्यादा तेजी से पाठ्यक्रम को समझ लेते हैं।

आयुष कुमार और मुकेश कुमार ने भी इस बात का ज़िक्र किया कि शतरंज खेलने से उनके पढ़ने लिखने में और निखार आया है।

शतरंज, पज़ल की ही तरह एक ऐसा खेल है जिसमें मस्तिष्क को अधिक काम करना पड़ता है। शतरंज संघ के अध्यक्ष एस नारायण दत्ता का मानना है कि शतरंज खेलने से खिलाड़ियों के संज्ञानात्मक कौशल और तर्क शक्ति बढ़ जाते हैं।

न्यूरोलॉजिकल साइंस में ऐसे कई शोध हुए हैं जिनसे पता चलता है कि शतरंज खेलने से दिमाग के दोनोें साइड यानी राइट हेमिस्फेयर और लेफ्ट हेमिस्फेयर एक्टिव हो जाते हैं।

कई शोधों में यह भी पाया गया कि शतरंज खेलने वालों में ऐसे लोग बहुत कम हैं जिन्हे अल्जाइमर जैसी बीमरियों से जुझना पड़ा।

“क्रिकेट ने बाकी खेलों का दम निकाल दिया है”

कमल कर्माकर ने शतरंज में सीमांचल के खिलाडिय़ों की प्रशंसा करते हुए भी इस बात का दुख जताया कि ढेरों प्रतिभावान खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नहीं पहुँच पा रहे हैं।

kishanganj district chess coach kamal karmakari

उनके अनुसर देश में सबसे ज्यादा तवज्जो क्रिकेट पर दी जाती है और बहुत सारा पैसा क्रिकेट की झोली में आता है जबकि शतरंज जैसे खेलों के हिस्से में कुछ बचता नहीं। कमल कहते हैं कि जिस देश के सारे उद्योगपति क्रिकेट में पैसे लगाने की होड़ में रहते हैं, उसी देश में शतरंज खिलाडी ज़मीन बेच बेच कर टूर्नामेंट खेलने जाते हैं, उन्हें कोई स्पॉन्सर तक नहीं मिलता। उनके अनुसार क्रिकेट ने बाक़ी खेलों का दम निकाल दिया है।
कमल कर्माकर ने आगे कहा, “क्रिकेट खेलने के लिए केवल लकड़ी का बल्ला और गेंद चाहिए लेकिन, शतरंज के लिए बहुत अधिक मेहनत और एकाग्रता की ज़रूरत होती है। पढ़ा लिखा होना भी जरूरी है और इतनी मेहनत करने के बाद राष्ट्रीय स्तर पर पहुँच भी जाएं तो आर्थिक समस्याएं बच्चों को आगे बढ़ने से रोकती हैं”


इंफ्रास्ट्रक्चर और आर्थिक मदद के बिना ताइक्वांडो के सपने को पंख देती लड़कियां


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

किशनगंज में जन्मे सैय्यद जाफ़र इमाम ने 2017 में दिल्ली से अपने पत्रकारिता के सफ़र की शुरूआत की। उन्होंने पब्लिक विचार, ए एम 24 बिहार, स्क्रिब्लर्स इंडिया, स्वान ट्री फाउंडेशन, जामिया पत्रिका के लिए काम किया है। 2021 में अपनी किताब " A Panic Attack On The Subway" के प्रकाशन के बाद से सोशल मीडिया पर मेंटल हेल्थ समस्याओं पर मुखर रहे हैं।

Related News

किशनगंज: जदयू के नए प्रखंड अध्यक्षों का अभिनंदन समारोह, पोठिया और दिघलबैंक का चुनाव स्थगित

JD(U) के प्रखंड अध्यक्ष चुनाव में जमकर बवाल, हाथापाई

72 घन्टे तक सील रहेगा भारत-नेपाल बॉर्डर, सीमा पर चौकसी बढ़ाई गई

कटिहार: आपसी विवाद में दोस्त ने दोस्त को मारी गोली, लोगों ने किया सड़क जाम

तलवारबंधा में भीषण अगलगी से आधा दर्जन से अधिक घर जलकर हुआ राख

किशनगज: शराब तस्करों पर उत्पाद विभाग की कार्रवाई, महिला समेत 26 गिरफ्तार

सीएसपी संचालक पर जानलेवा हमला कर 5 लाख रुपए की लूट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

आजादी से पहले बना पुस्तकालय खंडहर में तब्दील, सरकार अनजान

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी