Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

नैरोबी मक्खी क्या है?

Ariba Khan Reported By Ariba Khan |
Updated On :

सिक्किम और पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में आतंक मचाने के बाद नैरोबी मक्खी ने बिहार के सीमांचल के ज़िलों में पैर पसारना शुरू कर दिया है।

5 जून को पूर्वी सिक्किम के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में लगभग 100 छात्रों के नैरोबी मक्खियों के संपर्क में आने के बाद त्वचा में संक्रमण की सूचना मिली।

Also Read Story

बिहार के डेढ़ दर्जन औषधीय महत्व के पौधे विलुप्ति की कगार पर

पूर्णिया: जीएमसीएच में मरीजों की चादर धोने तक की सुविधा नहीं

डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर : तेजस्वी यादव

एमडी मैम! लड़कियां पीरियड में अब भी करती हैं कपड़े का इस्तेमाल

कटिहार: कदवा प्रखंड के गांव-गांव में देखा जा रहा लम्पी वायरस का लक्षण

किशनगंज: नशे के दलदल में फँसकर बर्बाद होती नौजवान पीढ़ी

सिलीगुड़ी में नैरोबी मक्खी का आतंक, किशनगंज में भी खतरा

लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा

सीमांचल में क्यों बदहाल है स्वास्थ्य व्यवस्था

पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी शहर में कई मामले आये, हालांकि फिलहाल हालात काबू में हैं।

वहीं, 6 जुलाई को बिहार के किशनगंज में एक मामला आया। किशनगंज शहर की रहने वाली एक महिला इस एसिड फ्लाई का शिकार हुई। किशनगंज सिविल सर्जन कौशल किशोर प्रसाद ने पुष्टि कर कहा कि सदर अस्पताल में इसके इलाज के लिए समुचित व्यवस्था है। महिला ने बताया कि पहले तो खुजली हुई, उसके बाद त्वचा में आधे इंच का घाव हुआ, फिर यह दूसरे दिन बढ़ने और फैलने लगा। साथ ही दर्द और जलन होने लगा, जब इलाज के लिए सदर अस्पताल पहुंची तो चिकित्सकों ने इसे एसिड फ्लाई मक्खी का अटैक बताया।

अररिया के फारबिसगंज में भी एक युवक को इस मक्खी के काटने की जानकारी मिली है। जानकारी के अनुसार युवक के सीने के पास मक्खी ने काट लिया, युवक ने मक्खी को मार कर उसकी तस्वीर खींच ली। मारी गयी मक्खी नैरोबी फ्लाई से मिलती जुलती है।

वहीं पूर्णिया प्रशासन ने भी नैरोबी मक्खी को लेकर एक एडवाइजरी जारी की है।

लेकिन, यह नैरोबी मक्खी है क्या?

नैरोबी मक्खी, जिसे केन्याई मक्खी या ड्रैगन बग भी कहा जाता है, छोटे, भृंग जैसा कीड़ा है जो नारंगी और काले रंग का होता है। यह उच्च वर्षा वाले क्षेत्रों में पनपता है, जैसा कि पिछले कुछ हफ्तों में सिक्किम और पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी शहर और बिहार के किशनगंज में देखा गया है।

बता दें कि केन्या और पूर्वी अफ्रीका के अन्य हिस्सों में पहले भी इसके भारी प्रकोप देखे जा चुके हैं। साल 1998 में, असामान्य रूप से भारी बारिश के कारण इस क्षेत्र में बड़ी संख्या में ये कीड़े आए थे। अफ्रीका के बाहर, अतीत में जापान, इजराइल, पराग्वे और भारत में भी इसका प्रकोप हो चुका है।

यहां यह भी बता दें कि यह मक्खी फसलों में लगने वाले कीड़ों को अपना शिकार बनाती है, इस लिहाज से यह किसानों के लिए फायदेमंद है लेकिन जब यह मनुष्य के संपर्क में आती है तो लोगों को संक्रमित कर देती है।

जहरीला तरल पदार्थ छोड़ती है नैरोबी मक्खी

ये मक्खी काटती नहीं है, बल्कि शरीर पर बैठकर जहरीला तरल पदार्थ छोड़ती है जिससे लोगो की त्वचा में जलन और जगह जगह इंफेक्शन हो जाता है। साथ ही सूजन और जख्म के निशान बन जाते हैं। इस जख्म के भरने में कम से कम एक हफ्ता लगता है।

nairobi makhi wound on neck

त्वचा में सूजन की गंभीरता, संक्रमित होने वाले लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता, पेडरिन की खुराक और संपर्क की अवधि पर निर्भर करती है। त्वचा में सूजन के हल्के मामलों में, त्वचा में हल्की लालिमा आती है। मध्यम मामलों में लगभग 24 घंटों के बाद खुजली शुरू हो जाती है और लगभग 48 घंटों में फफोले विकसित होते हैं, जो आमतौर पर सूख जाते हैं और निशान नहीं छोड़ते हैं। अधिक गंभीर मामले तब हो सकते हैं, जब विष शरीर में अधिक व्यापक हो और बुखार, नसों में दर्द, जोड़ों में दर्द या उल्टी होने लगे।


यह भी पढ़ें: सीमांचल में क्यों बदहाल है स्वास्थ्य व्यवस्था

यह भी पढ़ें: किशनगंज: ऐतिहासिक चुरली एस्टेट खंडहर में तब्दील


चिकित्सकों का कहना है कि अगर मक्खी शरीर पर बैठे या चिपके तो उसे छूना नहीं चाहिए। छूने पर या इसे मसलने से यह एसिड जैसा जहरीला पदार्थ छोड़ती है, जिसे पेडरिन नाम से जाना जाता है। पेडरिन के त्वचा के सम्पर्क में आने से यह रसायन जलन पैदा करता है। आंखों को मसलते वक्त अगर यह खतरनाक पेडरिन आंखों तक पहुंच जाए, तो कुछ देर के लिए संक्रमित व्यक्ति अंधेपन में भी जा सकता है।

इन भृंगों से किसी भी बीमारी का कारण बनने से बचने के लिए कुछ सामान्य सावधानियां बरती जा सकती है, जैसे मच्छरदानी के नीचे सोना फायदेमंद हो सकता है।

यदि कोई मक्खी मानव शरीर पर बैठती है, तो उसे धीरे से ब्रश किया जाना चाहिए। रासायनिक-पेडेरिन रिलीज की संभावना को सीमित करने के लिए उसे परेशान करने या छूने से बचना चाहिए।

जिस जगह पर मक्खी बैठी हो, उस जगह को साबुन और पानी से धोएं।

यदि उनके साथ छेड़खानी की जाती है और त्वचा पर वे खतरनाक पेडरिन पदार्थ छोड़ जाते हैं, तो उस स्थान को धोए बिना शरीर के अन्य भाग, विशेष रूप से आंखों के संपर्क में न लाएं।


सिलीगुड़ी में नैरोबी मक्खी का आतंक, किशनगंज में भी खतरा

लाइफलाइन एक्सप्रेस ट्रेन कटिहार में दे रही स्वास्थ्य सेवा


सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Become A Member बटन पर क्लिक करें।

Become A Member

अरीबा जामिया मिलिया इस्लामिया से पत्रकारिता में ग्रेजुएट और NFI की मल्टीमीडिया फेलो (2021) हैं। फिलहाल, वह ‘मैं मीडिया’ में वॉइस ओवर आर्टिस्ट और एंकर के रूप में कार्यरत हैं।

Related News

नीति आयोग की रिपोर्ट से स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय नाराज़

नीतीश सरकार ने एक दिन में कोरोना से मरने वालों का आकड़ा 4 हजार तक बढ़ाया?

सभी 18 साल से ऊपर वाले लोगों को फ्री में लगेगी वैक्सीन: PM

एलोपैथी विरोधी रामदेव पर देशद्रोह को लेकर परिवाद, 7 जून को सुनवाई

टूर पैकेज, हॉलिडे पैकेज के बाद आया वैक्सीनेशन पैकेज, विपक्ष ने बताया वैक्सीनेशन घोटला

राहुल गांधी बोले कोरोना से मौत के आकड़े झूठे है, पीएम नौटंकी कर रहे है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latests Posts

आजादी से पहले बना पुस्तकालय खंडहर में तब्दील, सरकार अनजान

Ground Report

स्कूल जर्जर, छात्र जान हथेली पर लेकर पढ़ने को विवश

सुपौल: पारंपरिक झाड़ू बनाने के हुनर से बदली जिंदगी

गैस कनेक्शन अब भी दूर की कौड़ी, जिनके पास है, वे नहीं भर पा रहे सिलिंडर

ग्राउंड रिपोर्ट: बैजनाथपुर की बंद पड़ी पेपर मिल कोसी क्षेत्र में औद्योगीकरण की बदहाली की तस्वीर है

मीटर रीडिंग का काम निजी हाथों में सौंपने के खिलाफ आरआरएफ कर्मी