Main Media

Seemanchal News, Kishanganj News, Katihar News, Araria News, Purnea News in Hindi

Support Us

कटिहार में फर्जी प्रशिक्षु डीएसपी बनकर ठगने वाले दो युवक गिरफ्तार

पुलिस को अभियुक्त के पास से मोबाइल, फ़र्ज़ी पैन कार्ड, डेबिट कार्ड, बैंक पासबुक, फ़र्ज़ी बैच, आई कार्ड, पुलिस की वर्दी और कई जमीनों के असली कागज़ात बरामद हुए हैं। अभियुक्त के पास से मिले मोबाइल से पता चला कि पुलिस और डीएसपी से जुड़े कई वीडियो सर्च किये गए थे।

shadab alam Reported By Shadab Alam |
Published On :

बिहार के कटिहार में फर्जी प्रशिक्षु डीएसपी बनकर लोगों को ठगने के मामले में शनिवार को पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार आजमनगर थाना क्षेत्र के नारायणपुर का निवासी मोहम्मद अख्तर हुसैन प्रशिक्षु डीएसपी बनकर विवादित जमीनों का समझौता कराता था।

गिरफ्तार अभियुक्त अख्तर हुसैन को कटिहार पुलिस ने डंडखोरा थाना क्षेत्र के भमरैली में वाहन जांच के दौरान पकड़ा। वह टियागो गाड़ी में पुलिस का स्टीकर चिपकाए पुलिस की वर्दी पहने बैठा मिला। पुलिस के पूछने पर अख्तर ने खुद को 66वें बैच का प्रशिक्षु डीएसपी बताया और कहा कि वह वर्तमान में मोतिहारी जिले में पदस्थापित है और इस समय छुट्टी में घर आया हुआ है।

Also Read Story

पूर्णिया सांसद पप्पू यादव पर फर्नीचर व्यवसायी से रंगदारी मांगने का आरोप, मामला दर्ज

किशनगंज: सिक्किम से आई युवती से सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में दो गिरफ्तार  

कटिहार: फर्जी साइबर एसपी बनकर महिलाओं की अश्लील वीडियो बनाने के आरोप में व्यक्ति गिरफ्तार

सीएसपी संचालक की गला रेतकर हत्या, लोगों ने शव को सड़क पर रख किया प्रदर्शन

अररिया: ट्रैक्टर ने ई-रिक्शा को मारी टक्कर, दो की मौत, सात घायल

किशनगंज: पिता पर अपनी नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म का आरोप, मां ने की इंसाफ की मांग

कटिहार: फ्लिपकार्ट से बड़ी संख्या में मोबाइल ऑर्डर कर गोदाम से करता था चोरी, पुलिस ने दबोचा

मक्का चोरी के आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस व ग्रामीण में झड़प, 5 पुलिसकर्मी सहित 7 लोग घायल

देवर-भाभी की लड़ाई में 9 महीने के बच्चे की मौत, आरोपी देवर गिरफ्तार

कटिहार पुलिस ने जांच में इन दावों को गलत पाया और खुद को प्रशिक्षु डीएसपी वाले अख्तर हुसैन और गाड़ी चला रहे मेहरुद्दीन खान को गिरफ्तार किया। पुलिस की प्रेस वार्ता में बताया गया कि मेहरुद्दीन खान डंडखोरा थानांतर्गत सकरपुरा गांव का रहने वाला है और वह अख्तर हुसैन के फ़र्ज़ी कामों में उसका साथी है।


पुलिस की मानें तो मुख्य आरोपी ने अपना जुर्म कबूल करते हुए पुलिस को बताया कि नवंबर 2023 में वह दिल्ली में इंजीनियरिंग में दाखिले की तैयारी कर रहा था तभी उसे फ़र्ज़ी प्रशिक्षु डीएसपी बनने का ख्याल आया। शुरुआत में उसने अपने घर और गांव वालों में अपना प्रभाव डालने के लिए खुद को डीएसपी बताया और फिर बाद में वह ज़मीन के कागज़ात बनाने, पकड़ी हुई गाड़ियां छुड़ाने की पैरवी, सहित कई अवैध काम करने लगा।

पुलिस को अभियुक्त के पास से मोबाइल, फ़र्ज़ी पैन कार्ड, डेबिट कार्ड, बैंक पासबुक, फ़र्ज़ी बैच, आई कार्ड, पुलिस की वर्दी और कई जमीनों के असली कागज़ात बरामद हुए हैं। अभियुक्त के पास से मिले मोबाइल से पता चला कि पुलिस और डीएसपी से जुड़े कई वीडियो सर्च किये गए थे।

पुलिस ने दोनों अभियुक्तों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 170 /171/419/420 /467 /468 / 471 / 120 (बी) ओर आईटी एक्ट की धारा 66 (डी) के अंतर्गत मामला दर्ज किया है।

ज्ञात रहे कि पिछले दो-तीन दिनों में यह इस तरह का दूसरा मामला सामने आया है। इससे पहले कटिहार पुलिस ने फ़र्ज़ी साइबर एसपी की भी गिरफ्तारी की है। हालांकि दोनों मामलों का आपस में कोई संबंध नहीं है।

सीमांचल की ज़मीनी ख़बरें सामने लाने में सहभागी बनें। ‘मैं मीडिया’ की सदस्यता लेने के लिए Support Us बटन पर क्लिक करें।

Support Us

सय्यद शादाब आलम बिहार के कटिहार ज़िले से पत्रकार हैं।

Related News

सीतामढ़ी: अनियंत्रित ट्रक ने टेंपो को रौंदा, तीन की मौत, छह घायल

कटिहार: प्रेम प्रसंग में महिला टोला सेवक की गला रेत कर हत्या, पेट्रोल डालकर शव को जलाया

सारण: राजद-बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच चली गोली, 1 की मौत, 2 घायल

अररिया: ज़मीन विवाद में अपने बाप की हत्या कर युवक फ़रार

दिल्ली में किशनगंज के 17 वर्षीय युवक की चाकू मारकर हत्या

सुपौल: थानेदार कह रहे थाने में बिना घूस दिए कोई काम नहीं होता, वीडियो वायरल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Posts

Ground Report

किशनगंज के इस गांव में बढ़ रही दिव्यांग बच्चों की तादाद

बिहार-बंगाल सीमा पर वर्षों से पुल का इंतज़ार, चचरी भरोसे रायगंज-बारसोई

अररिया में पुल न बनने पर ग्रामीण बोले, “सांसद कहते हैं अल्पसंख्यकों के गांव का पुल नहीं बनाएंगे”

किशनगंज: दशकों से पुल के इंतज़ार में जन प्रतिनिधियों से मायूस ग्रामीण

मूल सुविधाओं से वंचित सहरसा का गाँव, वोटिंग का किया बहिष्कार